फिर संघर्ष की राह पर रोडवेज मुलाजिम:पंजाब कैबिनेट ने नहीं लिया पक्के करने का फैसला, हड़ताल पर जाएंगे 10 हजार कच्चे कर्मचारी

लुधियाना2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

पंजाब रोड ट्रांसपोर्ट कार्पोरेशन (PRTC) और पनबस (PUNBUS) के 10 हजार कच्चे कर्चमचारी पक्के न करने के विरोध में हड़ताल पर जाएंगे। कच्चे कर्मचारी पंजाब कैबिनेट की बैठक में इस बारे में फैसला न लेने पर सरकार से नाराज हैं।

पनबस और PRTC कॉन्ट्रैक्ट वर्कर्स यूनियन ने कहा कि पंजाब के ट्रांसपोर्ट मंत्री ने 22 नवंबर की मीटिंग में विभाग के कच्चे मुलाजिमों को पहली कैबिनेट में पक्का करने का आश्वासन दिया था। 1 दिसंबर को कैबिनेट बैठक में इस बारे में कोई फैसला नहीं लिया। सरकार झूठे लारे लगाकर समय बिता रही है और हर बार झूठे आश्वासन कर्मचारियों को मिल रहे हैं। इसलिए कर्मचारियों को मजबूरन संघर्ष का रास्ता अपनाना पड़ रहा है। कर्मचारी ट्रांसपोर्ट विभाग में सहूलियत देने के लिए तैयार हैं, लेकिन सरकार सरकारी बेड़े में बसों की संख्या 10000 करने और कच्चे मुलाजिमों को पक्के करने से भाग रही है।

शुक्रवार को दो घंटे बंद रहेंगे बस स्टैंड

यूनियन सदस्यों ने एलान किया है कि वीरवार को पंजाब के सभी बस स्टैंड दो घंटे बंद रखे जाएंगे। 7 दिसंबर से सभी मुलाजिम अनिश्चितकालीन हड़ताल पर जाएंगे। शनिवार और रविवार को अगले संघर्ष की तैयारी के लिए मीटिंग की जाएगी। सरकार ने उनकी मांगें नहीं मानी तो संघर्ष और तेज किया जाएगा।

तीन बार टल चुकी है हड़ताल

नौकरी पर पक्का होने की मांगों को लेकर संघर्ष कर रहे मुलाजिमों की हड़ताल पहले भी तीन बार टल चुकी है। 9 दिन पहले PRTC के MD ने यूनियन सदस्यों को आश्वासन दिया था कि उनकी मांगें अगली मीटिंग में मान ली जाएंगीं। इसलिए उन्होंने हड़ताल वापस ले ली थी। 1 दिसंबर की मीटिंग में फैसला नहीं हुआ तो अब कर्मचारी फिर से संघर्ष करने जा रहे हैं। इससे पहले यह मुलाजिम अगस्त माह में कैप्टन अमरिंदर सिंह की सरकार के दौरान 9 दिन हड़ताल पर रहे थे।

टूटा सब्र : मांगे थे 20 दिन गुजर गए 70

पनबस एवं PRTC कॉन्ट्रैक्ट वर्कर्स यूनियन के स्थानीय अध्यक्ष शमशेर सिंह ने कहा कि अमरिंदर सिंह राजा वड़िंग ने परिवहन विभाग संभालने के बाद 20 दिन का समय मांगा था। अब 70 दिन निकल चुके हैं, लेकिन वादा पूरा नहीं हुआ। यही नहीं मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी ने नगर निगम के सभी मुलाजिमों को 10 दिन में पक्के करने का ऐलान किया लेकिन वह भी लॉलीपोप ही साबित हुआ। इस कारण अब सब्र का बांध टूट चुका है और वह दोबारा संघर्ष शुरू करने जा रहे हैं।

सरकार ने बंद कीं 500 प्राइवेट बसें, सरकारी भी बंद हुईं तो बढ़ेगी परेशानी

परिवहन मंत्री अमरिंदर सिंह राजा वड़िंग ने 500 के करीब निजी बसें बंद की हैं। आज पंजाब के बस स्टैंड बंद हो जाते हैं तो इसका सीधा असर आम लोगों पर पड़ेगा। पड़ रही सर्दी की वजह से ज्यादातर लोग पब्लिक ट्रांस्पोर्ट का ही इस्तेमाल करते हैं। अब अगर सरकारी बसें बंद होती हैं तो इससे लोगों को परेशानी होगी। हड़ताल के कारण 27 बस स्टैंड भी बंद हो जाएंगे।

खबरें और भी हैं...