सीबीएसई की पहल:सीबीएसई ने शुरू की ऑनलाइन करियर गाइडेंस और काउंसलिंग, स्पेशल स्टूडेंट्स के लिए भी रहेगा ऑप्शन

लुधियाना2 महीने पहलेलेखक: रागिनी कौशल
  • कॉपी लिंक
  • बच्चों को करियर के चुनाव में मदद मिलेंगी, शिक्षा से जुड़े सवाल पूछ सकेंगे

करियर को लेकर स्टूडेंट्स लगातार नए ऑप्शन तलाश रहे हैं, लेकिन कई बार गाइडेंस की कमी के कारण उन्हें अपनी पसंद के मुताबिक करियर का चुनाव करने में परेशानी का सामना करना पड़ता है। वहीं, पेरेंट्स भी अपने बच्चों के करियर के बारे में चिंता करते हैं और अपने जानकारों से जानकारी लेना चाहते हैं। लेकिन इस समस्या को सेंट्रल बोर्ड ऑफ सेकेंडरी एजुकेशन द्वारा सुलझाने की कोशिश की गई है।

इसके लिए सीबीएसई द्वारा ऑनलाइन करियर गाइडेंस काउंसलिंग की शुरुआत की गई है। जिससे देश के किसी भी कोने में बैठे स्टूडेंट्स सिर्फ अपने करियर के बारे में ही नहीं बल्कि कॉलेज डिग्री, कोर्सेस, स्कॉलरशिप और कांपिटिटिव एग्जाम के बारे में एक ही प्लेटफॉर्म पर माहिरों से जानकारी ले सकेंगे। यही नहीं ये गाइडेंस सिर्फ ग्यारहवीं व बारहवीं के ही नहीं नौवीं-दसवीं के स्टूडेंट्स भी ले सकेंगे। सीबीएसई द्वारा स्कूलों के साथ संपर्क स्थापित करने के लिए करियर गाइडेंस और काउंसलिंग इंफोर्मेशन सिस्टम भी स्थापित किया जाएगा। जहां पर स्कूल लगातार संपर्क में रह कर जानकारी हासिल कर सकेंगे।

हर स्टूडेंट व्यक्तिगत डैशबोर्ड के जरिए हासिल कर सकेगा जानकारी
सीबीएसई द्वारा सिर्फ क्लास के अनुसार ही नहीं बल्कि लिंग और यहां तक कि दिव्यांग स्टूडेंट्स के लिए भी करियर के अलग से ऑप्शन तैयार किए हैं। स्टूडेंट्स https://cbsecareerguidance.com/ पर अपना अकाउंट तैयार कर सकते हैं। उन्हें अपना नाम, ईमेल, राज्य का नाम, स्कूल का नाम, अकेडेमिक साल, क्लास, विषय बताकर अकाउंट बनाना होगा। उसके बाद उनसे आगे की जानकारी मांगी जाएगी।

हर स्टूडेंट को उसके द्वारा दी गई जानकारी के मुताबिक और करियर ऑप्शन के मुताबिक करियर अवसरों के बारे में जानकारी मिलेगी। बोर्ड द्वारा 560 से ज्यादा करियर, 25 हजार से ज्यादा कॉलेज में चल रहे 3 लाख से ज्यादा कोर्सेस, 1200 से ज्यादा स्कॉलरशिप प्रोग्राम के बारे में बिना किसी फीस के बताया जाएगा।

हर स्कूल से 2 काउंसलर्स को दी जाएगी ट्रेनिंग...सीबीएसई द्वारा हर स्कूल को नौवीं-दसवीं के लिए एक और ग्यारहवीं-बारहवीं के लिए एक काउंसलर देने के लिए कहा गया है। जिन्हें ट्रेनिंग दी जाएगी। ताकि स्टूडेंट्स को उनके सवालों के मुताबिक करियर गाइडेंस मिल सके। अध्यापकों को पूरे करियर करिकुलम को देखने की छूट होगी। जहां से वो स्टूडेंट्स के सवालों के जवाब दे सकें। स्टूडेंट्स काउंसलर्स से बातचीत भी कर सकेंगे ताकि ज्यादा विस्तार से जानकारी हासिल कर सकें।

खबरें और भी हैं...