फिरोजपुर में हरसिमरत बादल का विरोध:चुनावी सभा के बाद किसानों और अकाली नेताओं में झड़प से तनाव, दोनों ओर से हवाई फायर भी हुए

लुधियानाएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
फिरोजपुर में अकाली विधायक की गाड़ी पर लाठियां भांजते किसान। - Dainik Bhaskar
फिरोजपुर में अकाली विधायक की गाड़ी पर लाठियां भांजते किसान।

पंजाब में चुनाव प्रचार के दौरान शिरोमणि अकाली दल बादल (SAD) और किसान नेता आमने-सामने आ गए। किसानों के घेराव के मद्देनजर पूर्व अकाली विधायक के ड्राइवर ने गाड़ी भगा ली और इस दौरान किसान नेता को करीब डेढ़ किमी तक बोरनट पर बैठा कर ले गए। आगे खड़े किसानों ने गाड़ी का घेराव किया और तोड़फोड़ कर दी। दोनों ओर से फायरिंग के आरोप लगे हैं और कुछ किसान भी घायल बताए जा रहे हैं। SAD नेता हरसिमरत कौर बादल ने मामले में खुद एसएसपी कार्यालय में जाकर शिकायत दी है।

किसानों को गाड़ी के बोनट पर बैठाकर लेकर जाते अकाली नेता।
किसानों को गाड़ी के बोनट पर बैठाकर लेकर जाते अकाली नेता।

शहर में पूर्व केंद्रीय मंत्री और अकाली दल की नेता हरसिमरत कौर चुनावी सभा कर रही थीं। उनके दौरे के मद्देनजर वहीं किसान यूनियन के सदस्य भी प्रदर्शन कर रहे थे। इस दौरान हरसिमरत कौर को किसानों के रोष का सामना करना पड़ा। हरसिमरत जब भाषण देकर बाहर निकलीं तो किसानों ने नारेबाजी की और उनकी गाड़ी को रोकने का प्रयास किया। हालांकि उनका काफिला वहां से निकल गया, लेकिन फॉर्च्यूनर गाड़ी में पीछे आ रहे विधायक जोगिंदर सिंह जिंदू और अन्य अकाली नेताओं को किसानों ने आगे खड़े होकर रोकने की कोशिश की।

विधायक के ड्राइवर ने इस दौरान गाड़ी भगाई तो कुछ किसान बोनट पर बैठ गए। गाड़ी का चालक किसानों को करीब एक किमी तक ऐसे ही साथ ले गया। मधु गेट पर अन्य किसान खड़े थे। उन्होंने गाड़ी को रोककर तोड़फोड़ शुरू कर दी और इसी दौरान वहां तीन से चार राउंड फायरिंग भी हुई। पूर्व विधायक जोगिंदर सिंह जिंदू का आरोप है कि किसान नेता हरनेक सिंह महिमा ने फायरिंग की तो उसके बचाव में उनके गनमैन ने हवाई फायर किए।

झगड़े में घायल हुए किसान को संभालते किसान नेता।
झगड़े में घायल हुए किसान को संभालते किसान नेता।

अकाली नेताओं ने किसानों को मारने का किया प्रयास

किसान नेता हरनेमक सिंह महिमा ने कहा कि फिरोजपुर में लखीमपुर खीरी जैसी घटना दौहराने का प्रयास किया गया। प्रदर्शन कर रहे किसानों पर गाड़ी चढ़ाने की कोशिश की और उसके बाद अकाली नेताओं ने फायरिंग भी की। उन्होंने कहा कि जब किसान संगठनों ने कानून रद्द नहीं होने तक चुनाव प्रचार न करने का एलान कर रखा है तो क्यों बादल परिवार ऐसे प्रचार कर माहौल खराब करने का प्रयास कर रहा है।

प्रदर्शन के दौरान किसानों द्वारा तोड़ी गई गाड़ी।
प्रदर्शन के दौरान किसानों द्वारा तोड़ी गई गाड़ी।

मोगा के बाद फिरोजपुर में दूसरी बड़ी घटना

इससे पहले 2 सितंबर को मोगा में सुखबीर सिंह बादल की चुनावी सभा के दौरान पहुंचे किसान यूनियन सदस्यों पर लाठीचार्ज किया गया था। इसके बाद मामला बढ़ा तो अकाली दल ने अपने सभी कार्यक्रम रद्द कर दिए थे। किसान संगठनों के साथ बैठक भी हुई और इस दौरान भी किसान संग्ठनों ने रैलियां नहीं करने की सलाह दी थी। मगर अकाली दल ने फिर से चुनाव प्रचार शुरू कर दिया। इसके बाद से सुखबीर बादल शहरी क्षेत्र में ही चुनाव प्रचार कर रहे हैं और हरसिमरत कौर बादल की तरफ से पहले फरीदकोट और अब फिरोजपुर में चुनावी रैली की गई है और विरोध का सामना करना पड़ा है।

खबरें और भी हैं...