पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

आत्महत्या:18 घंटे से लापता छात्रा का स्कूल लैब में दुपट्टे के सहारे लटकता मिला शव

लुधियाना10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • गिल सरकारी कन्या सीनियर सेकेंडरी स्कूल में सुसाइड

गांव गिल स्थित सरकारी कन्या सीनियर सेकेंडरी स्कूल में 18 घंटे से लापता 12वीं की छात्रा का स्कूल लैब से शव मिला। स्कूल प्रबंधन ने इसकी सूचना अफसरों और पुलिस को दी। इसके बाद चौकी मराडो पुलिस मौके पर पहुंची। उन्होंने मृतका (17) के शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए रखवाया। वहीं, बरामद हुए सुसाइड नोट की भी जांच की जा रही है। फिलहाल मामले की जांच को डीईओ स्तर पर जांच कमेटी बनाई गई है। जांच अफसर चौकी मराडो इंचार्ज अश्वनी कुमार ने बताया कि मृतका के पिता के बयानों पर धारा-174 की कार्रवाई की गई है। बाकी जांच की जा रही है।

मृतका की मां ने बताया कि उनके तीन बच्चे (एक बेटा और दो बेटियां) है, जिसमें से मृतका दूसरे नंबर पर थी। उनके पति ड्राइवरी करते हैं। सोमवार सुबह उनकी बेटी लॉकडाउन के बाद पहले दिन स्कूल के लिए चली गई थी, लेकिन 3.30 बजे तक नहीं लौटी। लिहाजा उन्होंने उसकी ट्यूशन टीचर को फोन किया, लेकिन वो वहां भी नहीं थी। शाम को इसकी शिकायत पुलिस को दी। मंगलवार सुबह परिवार को पुलिस का फोन आया कि उनकी बेटी ने आत्महत्या कर ली है।

सीसीटीवी में घटनाक्रम रिकॉर्ड -स्कूल से मिली सीसीटीवी फुटेज में घटनाक्रम रिकॉर्ड हो गया। इसमें दिखा कि स्कूल में छुट्टी के बाद तक छात्रा क्लास में ही बैठी रही। करीब दोपहर 3.47 मिनट पर क्लास से बाहर निकल पहली मंजिल पर लैब में जाकर बिना दरवाजा बंद किए छिप जाती है। शाम 4.29 मिनट पर सिक्योरिटी गार्ड प्रकाश सिंह कमरे के दरवाजे पर सिर्फ कुंडी लगा आगे बढ़ जाता है। हालांकि उसका कहना है कि उसने बाद में ताला लगाया था और अंदर झांक कर नहीं देखा था।

सुसाइड नोट में ये लिखा : मृतका की जैकेट की जेब से बरामद सुसाइड नोट में मृतका ने लिखा है कि मैं अपणी मौत दी जिम्मेदार आप आं, मम्मी-पापा मेरे कोलो जो गलतियां होइयां, ओहदे लई मैनूं माफ करना, मेरी छोटी भैण नूं कुज्ज न कैहणा, बस तां ही मेरी आत्मा नूं शांति मिलणी ऐ...।

स्कूल स्तर बनाए सेल का पता नहीं -स्कूलों में बच्चों के साथ होने वाले मामलों को लेकर डीसी-सीपी के निर्देशों पर करीब 3 साल पहले सभी स्कूलों में काउंसलिंग सेल बनाने के निर्देश दिए गए थे। इसमें टीचर उन बच्चों को पहचानना था, जोकि डिप्रेशन का शिकार होते हैं या फिर जिनके साथ स्कूल या घर में गलत हरकतें होती थी। उनकी काउंसलिंग कर डिप्रेशन से बाहर लाने की जिम्मेदारी दी गई थी, हालांकि कुछ दिनों में ही काउंसलिंग सेल हवा हवाई साबित हुए।

कुछ अनसुलझे सवाल : अगर मृतका ने सुसाइड करना था तो उसने स्कूल को ही क्यों चुना, एेसी कोई परेशानी थी तो वो घर पर भी ये कदम उठा सकती थी? स्कूल प्रबंधन द्वारा क्यों छुट्टी के बाद क्लास रूम को चेक नहीं किया गया? अगर परिवार ने स्कूल से बच्चे के घर न पहुंचने की शिकायत की थी तो स्कूल की तरफ से क्यों नहीं स्कूल को खंगाला गया?

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आज कोई लाभदायक यात्रा संपन्न हो सकती है। अत्यधिक व्यस्तता के कारण घर पर तो समय व्यतीत नहीं कर पाएंगे, परंतु अपने बहुत से महत्वपूर्ण काम निपटाने में सफल होंगे। कोई भूमि संबंधी लाभ भी होने के य...

और पढ़ें

Open Dainik Bhaskar in...
  • Dainik Bhaskar App
  • BrowserBrowser