पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

फिर हड़ताल पर जाएंगे पूरे पंजाब के जिला प्रशासनिक कर्मचारी:प्रमुख सचिव के साथ बैठक बेनतीजा रहने के बाद लिया फैसला, 24 सितंबर को मोहाली में करेंगे रैली

लुधियाना।10 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
लुधियाना का मिनी सचिवालय। फाइल फोटो - Dainik Bhaskar
लुधियाना का मिनी सचिवालय। फाइल फोटो

कर्मचारियों की कमी, लंबे समय पदोन्नति न होना और पे कमिशन को लेकर पूरे पंजाब के जिला मुख्यालयों में काम करने वाले कर्मचारी हड़ताल पर जा रहे हैं। इसका फैसला कर्मचारियों की जिला ईकाईयों के अध्यक्षों की हुई वर्चुअल मीटिंग में लिया गया है। जुलाई माह में लंबी हड़ताल के बाद मुलाजिम एक बार फिर हड़ताल पर जा रहे हैं। मुलाजिम इसी महीने 22 व 23 सितंबर को हड़ताल पर जाएंगे और अगले दिन सामूहिक छुट्टी लेकर मोहाली में रैली करेंगे। कारण यह है कि 8 सितंबर को प्रमुख सचिव के साथ मुलाजिमों की हुई बैठक का कोई नतीजा नहीं निकल पाया है और इसी कारण उन्होंने हड़ताल पर जाने का फैसला लिया है। हड़ताल से डिप्टी कमिश्नर, SDM व तहसील कार्यालयों में काम लटक सकते हैं।

यूनियन नेताओं का कहना है कि 8 सितंबर को मुख्यमंत्री के प्रिंसिपल चीफ सेक्रेटरी सुरेश कुमार के साथ हुई बैठक में मांगों को गंभीरता से नहीं सुना गया और न ही प्रोसेसिंग रिपोर्ट तैयार की गई। इस बीच डीसी इंप्लाइज यूनियन पंजाब ने फिर से सरकार के खिलाफ संघर्ष का ऐलान कर दिया। उन्होंने कहा कि जिला स्तर पर कर्मचारियों की कमी, लंबे समय पदोन्नति न होना और पे कमिशन की रिपोर्ट जैसी मांगों को सरकार गंभीरता से नहीं ले रही है।

मोहाली रैली में होगा अगली रणनीति का ऐलान किया जाएगा
जिला प्रधान विक्की जुनेजा ने बताया कि मंगलवार सुबह डीसी दफ्तर इंप्लाइज यूनियन पंजाब की सभी जिला प्रधानों के साथ वर्चुअल मीटिंग हुई है। जिसमें फैसला किया गया कि सरकार ने अगर 21 सितंबर तक उनकी मांगें नहीं मानी तो 22 व 23 सितंबर को पूरे राज्य में कर्मचारी कलम छोड़ हड़ताल पर चले जाएंगे। इसके बाद वह 24 सितंबर को सामूहिक छुट्टी ले रहे हैं और मोहाली में होने वाली राज्य स्तरीय रैली में हिस्सा लेंगे। रैली के दौरान ही अगली रणनीति का ऐलान किया जाएगा और उनकी मांगों को इसी तरह अनदेखा किया गया तो कर्मचारी आपातकालीन सेवाओं का भी बायकाट करेंगे।

चुनाव ड्यूटी के बहिष्कार का ऐलान कर सकते हैं मुलाजिम
प्रदेश भर के मुलाजिम 24 की रैली में कर्मचारी चुनाव ड्यूटी के बहिष्कार का भी ऐलान कर सकते हैं। उन्होंने कहा कि पंजाब सरकार लगातार कर्मचारियों के साथ झूठे वादे करती रही है। लेकिन इस बार यूनियन वादों पर विश्वास नहीं करेगी बल्कि अपना संघर्ष परिणाम आने तक जारी रखेगी।

खबरें और भी हैं...