पांच लोग हुए सड़क हादसों का शिकार:नशे में धुत्त कार चालक करौदिया के पूर्व सरपंच ने सड़क के किनारे खड़े लोगों को रौंदा, दो की मौत, कार कब्जे में ली

लुधियाना23 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
आरोपी की गिरफ्तारी को लेकर मलेरकोटला रोड जाम करते मृतक के परिजन - Dainik Bhaskar
आरोपी की गिरफ्तारी को लेकर मलेरकोटला रोड जाम करते मृतक के परिजन

सिटी रिपोर्टर | खन्ना/लुधियाना दिवाली से एक दिन पहले जिले में एक महिला समेत पांच लोगों की मौत हो गई। मलेरकोटला रोड पर गांव ईसड़ू में एक तेज रफ्तार बेकाबू सेलेरियो कार ने सड़क किनारे खड़े लोगों को रौंद दिया। कार की रफ्तार इतनी तेज थी कि कार की टक्कर में लोग काफी ऊपर उछलकर नीचे गिरे, हादसे में 31 साल के नौजवान सहित दो की मौत हो गई है जबकि एक बुजुर्ग महिला सहित तीन जख्मी हो गए हैं। मरने वालों की पहचान 31 साल के निर्भय सिंह अौर 55 साल के बूटा सिंह के तौर पर हुई है, दोनों ईसड़ू के ही रहने वाले हैं। जबकि घायल की पहचान वरिंदर सिंह के तौर पर हुई है।

वरिंदर सिंह हादसे में मारे गए बूटा सिंह का बेटा है। हादसा करने वाले कार चालक करौदिया के पूर्व सरपंच मनदीप सिंह के खिलाफ पुलिस ने केस दर्ज कर कार को कब्जे में ले लिया है। बताया जा रहा है कि मनदीप सिंह नशे में धुत्त था, कार की स्पीड तेज होने के चलते कार बेकाबू हो गई, दिवाली से पहले खरीदारी को निकले लोग हादसे की भेंट चढ़ गए। उधर, अगले दिन तक आरोपी गिरफ्तारी न होने के कारण लोगों ने मलेरकोटला रोड को जाम कर दिया। करीब चार घंटे तक रोड जाम रहने के चलते मौके पर पहुंचे एसएचओं हेमंत कुमार के आश्वासन के बाद लोगों ने जाम खोला। दूसरे मामले में शिकायतकर्ता रीटा देवी और उसकी मां मजला देवी(65) लुधियाना में मेट्रो के पास कोल्ड स्टोर में नौकरी करते थे। दोनों बुधवार शाम करीब साढ़े छह बजे काम से छुट्टी के बाद घर जा रही थी।

रिश्तेदार रमेश कुमार ने बताया कि मजला देवी ने दीवाली मनाने के लिए सामान खरीदा। जबकि घर जाते हुए रास्ते में ही हादसा हो गया। रमेश ने बताया कि मजला द्वारा हर साल दिवाली धूमधाम से मनाई जाती थी। जिसके चलते इस साल भी उन्होंने घर को सजाया था। जबकि कुछ सामान लेना बाकी था। जबकि उन्होंने रिश्तेदारों को दिवाली मनाने के लिए घर पर बुलाया था। लेकिन एक दिन पहले ही वह हादसे का शिकार हो गई। रिश्तेदारों के अनुसार मजला देवी की एक बेटी और पांच बेटे हैं। वह पहले काम नहीं करती थी। लेकिन घर का खर्च चलाने को उन्होंने दो दिन पहले ही मेट्रो के पास एक आलू के कोल्ड स्टोर में नौकरी शुरू की थी। कार चालक की एक लापरवाही से मजला के परिवार की दिवाली पर मातम में छा गया।

टाटा 407 ने साइकिल सवार को मारी टक्कर

तीसरे मामले में शिकायतकर्ता गुरमीत सिंह ने बताया कि उसका बड़ा भाई हरपाल सिंह(52) वीरवार को घर से साइकिल पर सवार होकर घरेलू सामान लेने के लिए जा रहे थे। इसी दौरान टाटा-407 ने उसे टक्कर मार दी। टक्कर मारने के बाद वाहन चालक मौके से फरार हो गया। जबकि हरपाल को राजिंद्रा अस्पताल दाखिल कराया गया। जहां उसकी मौत हो गई। थाना डेहलों पुलिस ने गांव रंगिया के गुरमीत सिंह की शिकायत पर संगरूर के परमजीत कुमार के खिलाफ मामला दर्ज कर लिया है।

ईसड़ू में हुए दर्दनाक हादसे ने दो घरों के चिराग बुझा दिए हैं। मृतक निर्भय सिंह की अभी शादी भी नहीं हुई थी, परिवार उसकी शादी की तैयारी में था। जबकि दूसरा मृतक बूटा सिंह अपने घऱ में कमाने वाला अकेला था। दोनों घरों में मातम छाया हुआ है। मृतक बूटा सिंह के बेटे ने बताया कि वह अपनी दुकान के बाहर खड़ा था, उसके पास पिता भी आए थे। अचानक तेज रफ्तार कार ने पहले उसे टक्कर मारी अौर फिर पिता को टक्कर मार दी। हादसे में उसके पिता की मौत हो गई जबकि उसे भी चोट आई है। चौकी इंचार्ज प्रगट सिंह ने कहा कि कार को जब्त कर लिया गया है। आरोपी की पहचान हो गई है, उसके खिलाफ केस दर्ज कर लिया गया है। दोनों मृतकों का पोस्टमार्टम करवा अंतिम संस्कार करवा दिया गया है।

टिप्पर के टायर से कुचला सिर

चौथे मामले में शिकायतकर्ता जसविंदर कुमार के पिता राम शरन(60) मोटरसाइकिल पर जा रहे थे। लाडोवाल टोल प्लाजा के पास उन्हें टिप्पर चालक ने टक्कर मार दी। जिस कारण जसविंदर नीचे गिर गए। जबकि टिप्पर का टायर उनके सिर को कुचलते हुए निकल गया। जसविंदर कुमार ने बताया कि राम शरन फिल्लौर पोस्ट ऑफिस से रिटायर्ड मुलाजिम थे। वह बस्ती जोधेवाल में अपने एक जानकार से मिलने आए थे। उन्हें मिलने के बाद वापस जाते हुए हादसे का शिकार हो गए। जसविंदर अनुसार वह तीन भाई और दो बहनें है। मामले में अज्ञात टिप्पर चालक पर पर्चा दर्ज कर लिया गया है।

खबरें और भी हैं...