• Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Ludhiana
  • Earlier During The Corona Period, Shops And Factories Were On The Verge Of Closure, The Government Should Provide Relief By Not Closing The NPA Units Mittal

सरासर गलत:पहले कोरोनाकाल में दुकानें-फैक्ट्रियां बंद होने की कगार पर थी, सरकार एनपीए हुए यूनिटों को बंद न कर प्रदान करे राहत- मित्तल

लुधियाना2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • उन यूनिटों में काम करने वाले वर्करों में काफी रोष है, क्योंकि इन छोटे यूनिटों में कई परिवारों की रोजी-रोटी चलती है

एमएसएमई के तहत आती दुकानों-फैक्ट्रियों को बैंकों ने एनपीए किया है, उनको एडवोकेट जनरल के आदेश पर डीसी ने जबरन बंद करवाया है, जोकि सरासर गलत है। इससे एक तो बेरोजगारी और क्राइम बढ़ेगा। ये शब्द जिला भाजपा ट्रेड सेल के प्रधान हरकेश मित्तल ने पत्रकार वार्ता में कहे। उन्होंने कहा कि पहले कोरोनाकाल में दुकानें-फैक्ट्रियां बंद होने की कगार पर थी।

अब एनपीए फैक्ट्रियों को सरकार बंद करवाकर ताले लगा रही है। इससे उन यूनिटों में काम करने वाले वर्करों में काफी रोष है, क्योंकि इन छोटे यूनिटों में कई परिवारों की रोजी-रोटी चलती है। अगर सरकार इन यूनिटों को बंद करवाकर तालाबंदी कर देगी तो इन यूनिटों में काम करने वाले लोगों को रोजी-रोटी के लाले पड़ जाएंगे। उन्होंने सरकार से अपील की कि इन यूनिटों की तालाबंदी न कर राहत प्रदान की जाए, ताकि इन यूनिटों को चलाने वाले और इनमें काम करने वालों का घर चल सके। वहीं, बैंक भी एनपीए हुए यूनिट को अगर बेचना चाहे तो उसे चलती हालत में बेचें‌, ताकि उस यूनिट में काम कर रहे लोग बेरोजगार न हों।

खबरें और भी हैं...