एचएस किंगरा ने खोला मरण व्रत:सरकार के आश्वासन बाद मरण व्रत खोला गया हड़ताल जारी रहेगी, नोटीफिकेशन आने के बाद होगा फैसला

6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
डा एचएस किंगरा को जूस पिलाते हुए कैबिनेट मंत्री भारत भूषणा आशू - Dainik Bhaskar
डा एचएस किंगरा को जूस पिलाते हुए कैबिनेट मंत्री भारत भूषणा आशू

पंजाब फेडरेशन ऑफ यूनिवर्सिटी व कॉलेज टीचर्स ऑर्गेनाइजेशन के आह्वान पर मरण व्रत पर बैठे एचएस किंगरा ने मरण व्रत तोड़ दिया है। कैबिनेट मंत्री भारत भूषण आशू ने किंगरा को जूस पिलाकर मरण व्रत खुलवा दिया है। आर्गेनाईजेशन के नेताओं ने जानकारी देते हुए बताया है कि मंगलवार को वित मंत्री मनप्रीत सिंह बादल ओर मुख्यमंत्री चरणजीत सिंह चन्नी के साथ बैठक हुई है और सरकार ने उनकी मांगें मानने का आश्वासन दिलाया है। उम्मीद जाहिर की जा रही है कि 9 दिसंबर को होने वाली कैबिनेट बैठक में इस पर फैसला लिया जा सकता है। ऑग्रेनाइजेशन यूजीसी के सातवें पे कमिशन को लागू करवाने की मांग को लेकर चल रहा धरना दिया जा रहा है। डॉ. एचएस किंगरा का मरण व्रत सातवे दिन में शामिल हुआ था। पीएयू के अध्यापकों की बैठक पिछले एक माह से चल रही है। स्टूडेंट्स एसोसिएशन के स्टूडेंट भी मांगों को लेकर अपने टीचर्स का सहयोग दे रहे हैं।

PAU में हड़ताल के दौरान प्रदर्शन करते हुए अध्यापक।
PAU में हड़ताल के दौरान प्रदर्शन करते हुए अध्यापक।

शिअद नेता चीमा भी दे चुके है हिमायत
बता दें कि पीएयू में चल रही हड़ताल में शिरोमणि अकाली दल बादल के नेता दलजीत सिंह चीमा भी पहुंचे थे। उनकी ओर से एलान किया गया था कि सरकार इस तरह अध्यापकों के साथ व्यवहार नहीं कर सकती है। सरकार की तरफ से इस तरह ठंड की रातों में अध्यापकों को धरने पर बिठाना सरासर गलत है। सरकार को दूसरे राज्यों की तर्ज पर यहां भी सातवां पे स्केल लागू कर देना चाहिए।

खबरें और भी हैं...