• Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Ludhiana
  • Illegal Weapons Made For Generations, Many Weapons Supplied To Gangsters; Shake Used To Take Bullets From The Gunhouse

गिरफ्तार:पीढ़ियों से बना रहे अवैध हथियार, गैंगस्टरों को कर चुके कई असलहे सप्लाई; शक- गनहाउस से लेते थे गोलियां

लुधियाना9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
हथियारों समेत पकड़े आरोपियों की जानकारी देती पुलिस। - Dainik Bhaskar
हथियारों समेत पकड़े आरोपियों की जानकारी देती पुलिस।
  • गैंग के सरगना समेत 5 काबू, दो हथियार, 8 कारतूस, कार व बाइक बरामद, 3 वारदातें ट्रेस
  • गैंग के सरगना जस्सा पर पंजाब और राजस्थान में दर्ज हैं 15 पर्चे

अवैध हथियार तैयार कर पंजाब व राज्स्थान के गैंगस्टरों को सप्लाई करने और लूटपाट की वारदातों को अंजाम देने वाले एक गैंग के पांच सदस्यों को सीआईए 1 की टीम ने गिरफ्तार किया है। आरोपियों की पहचान मंजीत नगर निवासी रविंदर सिंह उर्फ गोल्डी, गांव ख्वाजके निवासी अमनदीप सिंह उर्फ गगना, दविंदर सिंह उर्फ बिल्ला, बलकार सिंह उर्फ जस्सा और राजस्थान निवासी गुरदेव सिंह उर्फ जिला के रूप में हुई है। उनके कब्जे से एक पिस्टल, एक पिस्तौल(देसी कट्टा), वरना कार और एक बाइक बरामद हुआ है।

जबकि तीन आरोपी मुन्ना, अर्जुन और गुरविंदर सिंह उर्फ गुरी की तलाश में छापामारी की जा रही है। जिनसे और हथियारों की रिकवरी हो सकती है। सूत्र बताते हैं कि इस मामले में गोलियों की सप्लाई किसी गनहाउस से होने की आशंका जताई जा रही है, जिसे वेरिफाई करने के लिए टीम जुटी हुई है। डीसीपी वरिंदर सिंह बराड़, सीआईए-1 इंचार्ज हरमिंदर सिंह ने प्रेस काॅन्फ्रेंस के दौरान बताया कि उन्होंने पांच आरोपियों को गिरफ्तार किया था। जिन्होंने लुधियाना में हंबड़ा और कोहाड़ा रोड पर दो शराब ठेकों पर और राहों‌ रोड पर एक वेस्टर्न यूनियन के मालिक से 70 हजार की नगदी और दो मोबाइल छीने थे। उन्होंने बताया कि जो हथियार उनके पास हैं, वो उन्हें राजस्थान के हनुमानगढ़ निवासी गुरदेव सिंह ने दिए हैं। जिसके बाद पुलिस ने राजस्थान में रेड कर उक्त आरोपी को गिरफ्तार कर लिया।

गैंग के सरगना जस्सा पर पंजाब और राजस्थान में दर्ज हैं 15 पर्चे

पुलिस के मुताबिक आरोपी जस्सा गैंग का सरगना है और वो एक पेशेवर अपराधी है, जिसके खिलाफ पंजाब और राजस्थान में डकैती और लूट के 15 पर्चे दर्ज हैं। आरोपी जब राजस्थान जेल में था, तो उसका संपर्क गुरदेव से हुआ, जोकि पहले से जेल में था। उससे संपर्क करने के बाद जस्सा ने हथियार उसी से लेने शुरू कर दिए और अपने गैंग को भी हथियार उसी से दिलाने लगा। आशंका जताई जा रही है कि आरोपी आधा दर्जन से ज्यादा हथियार लाकर पंजाब में इस्तेमाल कर चुके हैं।

आरोपी गुरदेव के पिता और दादा भी बनाते थे हथियार

जांच में पता चला कि गुरदेव के पिता और दादा भी अवैध हथियार बनाने का काम करते थे। उन्हीं से सीख कर उसने देसी कट्‌टे बनाने शुरू कर दिए। एक कट्‌टा 7 हजार में बेचता था, अगर किसी को पिस्टल या रिवाॅल्वर चाहिए तो उसकी कीमत 35 हजार होती थी। पिस्टल और रिवाॅल्वर वो ऑर्डर पर मंगवाकर देता था। क्योंकि हथियारों की सप्लाई राजस्थान के दूसरे जिलों से होती थी, जोकि एमपी के रास्ते आरोपी के पास पहुंचते थे। उसमें अपनी कमीशन रखने के बाद आरोपी आगे सप्लाई दे देता था। उक्त आरोपी के पकड़े जाने के बाद देसी कट्‌टे की बड़ी सप्लाई पंजाब में बंद होने की आशंका जताई जा रही है, क्योंकि उसके ग्राहकों की संख्या सैंकड़ों में है।

गनहाउस मालिक शक के दायरे में

आरोपियों को हथियार तो राजस्थान से मिल जाते थे, लेकिन गोलियां कहां से मिलती थी, इसकी जांच की जा रही है। आशंका जताई जा रही है कि उक्त गोलियां पंजाब और राजस्थान के गनहाउस से उन्हें सप्लाई की गई थी। इसकी जांच के लिए सीआईए टीम जुटी हुई है। सूत्र बताते हैं कि इस मामले को लेकर गनहाउस की चैकिंग भी करवाई जा रही है। जिसमें सभी की गोलियों का रिकार्ड आंका जाएगा।

जमानत पर बाहर हैं सभी आरोपी

सभी आरोपियों के खिलाफ पर्चे दर्ज हैं। जस्सा पर 15, गोल्डी और गगना पर एक-एक और गुरदेव पर 4 पर्चे दर्ज हैं। सभी आरोपी जेल से जमानत पर बाहर हैं। लेकिन बाहर आकर उन्होंने वारदातें करनी शुरू कर दी।

खबरें और भी हैं...