पैरलल इन्वेस्टिगेशन:लुधियाना, खन्ना-जगराओं में एक ही गैंग ने सेम मोड्स ऑपरेंडी पर लूटे एटीएम

लुधियाना2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
चारों वारदातें - Dainik Bhaskar
चारों वारदातें
  • हर वारदात में 3 लुटेरे, टाइमिंग रात 2 से 3 के बीच, सभी जगह गैस गटर का इस्तेमाल

गांव भुट्टां इलाके में एसबीआई बैंक की एटीएम मशीन को गैस कटर से काट 18.38 लाख रुपए लूटने के मामले में चार दिन बीतने के बाद भी पुलिस को लुटेरों का कोई सुराग नहीं मिल पाया है, लेकिन अब पुलिस इस पर काम कर रही है कि इसके अलावा खन्ना, जगराओं और लुधियाना में एटीएम लूट और लूट की कोशिश के मामलों के पीछे एक ही गिरोह काम कर रहा है।

इसके चलते पुलिस ने सालभर में हुई एटीएम लूट मामलों में डंप और आरोपियों का रिकॉर्ड पुलिस वेरिफाई करने में जुटी है। सूत्र बताते हैं कि पुलिस को 3 मामलों की इंवेस्टिगेशन में लुटेरों की तरफ से एक ही पैटर्न फाॅलो करने के सुराग मिले हैं। इसमें बिजली काटना, सफेद दस्ताने, गैस कटर, रात 2 से 3 बजे के बीच का समय और हर वारदात में डिग्गी वाली गाड़ी का इस्तेमाल किया गया है। इन वारदातों से बैंकों का 64 लाख रुपए का नुकसान हो चुका है, लेकिन वारदातें करने वालों का कुछ पता नहीं चल पाया है।

बिजली कर्मी बन गांव वालों से ही मेन तार के बारे में पूछा, फिर काटी

भुट्टां गांव में एटीएम लूटने वालों में से दो लुटेरों ने पहले 10 दिन तक गांव में सिर्फ आने वाली बिजली सप्लाई की मेन तार किस टांसफार्मर पर है। इस बारे में पता लगाया। उन्हें पता था कि बैंक के बाहर का कैमरा बिजली पर चलता है, इन्वर्टर पर वो बंद हो जाता है। इसके चलते उन्होंने पहले गांव की बिजली काटी और फिर वारदात को अंजाम दिया।

अपराधियों का खंगाला रिकॉर्ड

पुलिस ने घटनाक्रम के बाद पुलिस ने एटीएम लूट करने वाले पिछले तीन साल पुराने मामलों के आरोपियों के बारे में पड़ताल शुरू की है। वो जेल से बाहर हैं या अंदर। बाहर हैं तो कहां है, अगर वो गायब हैं, तो उनके नंबर सर्विलांस पर लगाए जा रहे हैं। इसी तरह से बैंक डकैती के पुराने रिकॉर्ड खंगाले जा रहे हैं। सूत्र बताते हैं कि पुलिस ने करीब 22 एेसे अपराधियों का रिकॉर्ड खंगाला है, जोकि बड़ी वारदातों में शामिल रहे हैं।

खबरें और भी हैं...