लुधियाना में पक्के किए मुलाजिमों पर घमासान:समारोह में भिड़े जोनल कमिश्नर और विजय दानव, पहले बहसबाजी फिर धक्का मुक्की हुई

लुधियानाएक महीने पहले

पंजाब के लुधियाना में पक्के किए नगर निगम के मुलाजिमों को लेकर घमासान शुरू हो गया है। बीते कल नियुक्ति पत्र वितरण समारोह में संघर्ष कमेटी के नेता विजय दानव और नगर निगम डी जोन के जोनल कमिश्नर जसदेव सिंह सेखों भिड़ गए। दोनों के बीच जमकर बहसबाजी हुई।

समारोह में जोनल कमिश्नर जसदेव सिंह सेखों विधायक कुलवंत सिद्धू के साथ नियुक्ति पत्र बांटने पहुंचे थे। इतने में विजय दानव संघर्ष कमेटी के साथ उस समारोह में आ गए। दानव विधायक अशोक पराशर पप्पी और गुरप्रीत गोगी का धन्यवाद करने के बाद विधायक कुलवंत सिद्धू के गिल रोड स्थित ऑफिस पहुंचे। मुलाजिमों को नियुक्ति पत्र सौंपने का कार्यक्रम चल रहा था।

जसदेव सेखों और विजय दानव के समर्थक झड़प करते हुए।
जसदेव सेखों और विजय दानव के समर्थक झड़प करते हुए।

कच्चे कर्मचारियों को सूची से बाहर करने का प्रयास
कार्यक्रम के दौरान दानव ने आरोप लगाते हुए कहा कि उनकी संघर्ष कमेटी से जुडे़ कुछ कच्चे मुलाजिमों को बेवजह कच्चे मुलाजिमों की सूची से बाहर करने का प्रयास किया जा रहा है। जबकि जेएस सेखों ने कहा कि सूची में किसका नाम डाला जा रहा है और किसका बाहर किया जा रहा है, ये उनकी जानकारी में नहीं है। वे केवल जोनल कमिश्नर होने के नाते इस कार्यक्रम में हिस्सा लेने आए हैं।

धक्का-मुक्की भी हुई
बताया गया कि इस दौरान दोनों में ऊंची-ऊंची आवाज में बहस होने लगी। इसके बाद माहौल बिगड़ गया और धक्का मुक्की होने लगी। दोनों पक्ष के लोग ही इस पूरे हंगामे को शांत करते दिखाई दिए। दानव ने कहा कि समारोह में माहौल खराब करने के उन पर जो आरोप लगे वह गलत हैं।

पिक एंड चूज पॉलिसी से काम किया: कर्मचारी
समारोह में कुछ कर्मचारियों ने कहा कि उनकी उम्र 32 से 34 वर्ष है। उनके सेखों ने नाम काट दिए हैं। पिक एंड चूज पॉलिसी से काम किया जा रहा है। दानव ने कहा कि पिछले तीन दिनों से उन्हें सूचना मिल रही थी कि 42 साल की आयु के कर्मचारी को नियुक्ति पत्र दिए जाएंगे। इस बात से हम काफी चिंतित थे जिस कारण सभी विधायकों से बातचीत की गई थी।

पंजाब सरकार को भेजा प्रस्ताव
वहीं पार्षद चौधरी यशपाल हाउस में प्रस्ताव भी ले कर आए जो 21 दिनों के लिए चंडीगढ़ पंजाब सरकार को भेजा है जिसमें क्लियर लिखा था कि 50 साल तक की आयु के कर्मचारियों को नियुक्ति पत्र दिए जाएंगे। इस बात को लेकर ही जोनल कमिश्नर सेखों से बात की तो वह गुस्से में आ गए। दानव ने कहा कि सेखों जोनल कमिश्नर के पद की गरिमा को न समझते हुए एक यूनियन का प्रधान बन कर बात करते हैं।

क्या कहना जसदेव सेखों का
सेखों ने कहा कि विजय दानव ने उनके पिता के खिलाफ गलत शब्दावली का इस्तेमाल कर माहौल खराब करने की कोशिश की है। नियुक्ति पत्र मामले में हंगामा नहीं किया गया। योजना बनाकर माहौल को खराब करने की कोशिश की गई है।

दानव बिना मुलाजिमों की यूनियन का लीडर
सेखों मुताबिक जब वह सीवरमेनों को खाली प्लाट में बुला नियुक्ति पत्र दे रहे थे तो इतने में एक ग्रुप ने आकर गेट को धक्का मारकर खोला और हंगामा शुरू कर दिया। जिस ग्रुप ने धक्का मारा है उनमें विजय दानव थे। उन्होंने आरोप लगाया कि दानव ने आते ही कहा कि सेखों ने भेदभाव किया है। सेखों ने कहा कि दानव जिस यूनियन को लीड करते है उसमे कोई मुलाजिम है ही नहीं। हम मिनिस्ट्री स्टाफ को लीड करते हैं दानव बिना मुलाजिमों की यूनियन के लीडर बने हुए है।

योजना बनाकर आए थे
दानव ने गुंडागर्दी करने की कोशिश की जो वो पहले से योजना बनाकर आए थे। सेखों ने कहा कि यदि किसी व्यक्ति को गलत नियुक्ति पत्र दिया गया है या कोई अन्य शिकायत है तो दानव जाकर कमिश्नर को शिकायत दें।

सफाई कर्मचारियों की तरक्की में रुकावट पैदा कर रहे
समारोह का माहौल क्यों खराब कर रहे हैं। विधायक ने नियुक्ति पत्र देने है बनाने नहीं। नियुक्ति पत्र प्रशासन ने बनाने है। ये नियुक्ति पत्र सेनेटरी इंस्पेक्टरों ने बनाए हैं जिनके पास ये कर्मचारी काम करते हैं। विजय दानव सफाई कर्मचारियों की तरक्की में रुकावट पैदा कर रहे है।