• Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Ludhiana
  • In Samrala, Instead Of Grandfather And Grandson, Both Grandchildren Can Be Face To Face, In Machiwada, CM Patted The Grandson Instead Of MLA Dhillon

आमने-सामने:समराला में दादा-पोते की बजाय दोनों पोते हो सकते हैं आमने-सामने, माछीवाड़ा में सीएम ने विधायक ढिल्लों के जगह पोते की थपथपाई पीठ

लुधियाना21 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
कोरोना किसी से नहीं डरता...सीएम, कैबिनेट मंत्री, विधायकों ने ही तोड़े नियम, बिना मास्क के पहुंचे - Dainik Bhaskar
कोरोना किसी से नहीं डरता...सीएम, कैबिनेट मंत्री, विधायकों ने ही तोड़े नियम, बिना मास्क के पहुंचे
  • माछीवाड़ा में सीएम ने विधायक ढिल्लों के जगह पोते की थपथपाई पीठ
  • मंच से चन्नी ने आप सुप्रीमो अरविंदर केजरीवाल को कोरोना तक कह डाला

विधानसभा चुनाव नजदीक आते ही हलका समराला में राजनीतिक बिसात बिछने के बाद माना जा रहा था कि इस बार यहां दादा-पोते के बीच जंग होगी। कांग्रेस से अमरीक सिंह ढिल्लों और अकाली दल से परमजीत सिंह ढिल्लों के बीच मुकाबला बताया जा रहा था। लेकिन, आज माछीवाड़ा में हुई सीएम चरनजीत सिंह चन्नी की रैली में सीएम द्वारा विधायक अमरीक सिंह के पौते करनबीर सिंह ढिल्लों की पीठ थपथपाने के बाद माना जा रहा है कि इस बार मुकाबला दादा पोते में नहीं, बल्कि दोनों पोतों में होने जा रहा है। कुल मिलाकर समराला में चुनावी मुकाबला ढिल्लों परिवार में ही होने जा रहा है।

सुखबीर बादल ने पहले ही सेवा सिंह के पोते परमजीत सिंह ढिल्लों को समराला से शिअद प्रत्याशी घोषित किया हुआ है। गौर हो कि सेवा सिंह और अमरीक सिंह ढिल्लों सगे भाई हैं। अमरीक सिंह ढिल्लों समराला हलके से चार बार विधायक रह चुके हैं, हाल ही में उनके पोते करनवीर सिंह ढिल्लों को कांग्रेस की ओर से समराला नगर कौंसिल का प्रधान बनाया गया है। राजनीतिक माहिरों के अनुसार वयोवृद्ध अमरीक सिंह ढिल्लों की बजाय उनके पोते करनवीर सिंह ढिल्लों को टिकट मिलने की बात इशारों इशारों में सीएम चन्नी स्पष्ट कर गए हैं। जिससे पंजाब की राजनीति में समराला हलके का चुनाव दिलचस्प रहने वाला है।

पीएम पंजाब को कर रहे बदनाम- चन्नी

सीएम ने सरकार द्वारा नेशनल कॉलेज फॉर वुमन(माछीवाड़ा) को सरकारी कॉलेज फॉर वुमन के तौर पर अपनाए जाने के बाद इसका औपचारिक उद्घाटन किया। चन्नी ने कहा कि सरकार द्वारा राज्य के प्रत्येक युवा के बैंक खाते में जल्द ही 2000 रुपए दिए जाएंगे। भाजपा के खिलाफ आक्रामक रुख अपनाते हुए चन्नी बोले, पीएम मोदी भाजपा की रैली फ्लाॅप होने की वजह से लौटे थे ना कि सुरक्षा कारणों से। प्रधानमंत्री की सुरक्षा को खतरे का बहाना लगाते हुए दोष पंजाब सरकार पर मढ़ दिया गया।

चन्नी ने कहा पीएम की रैली से पांच दिन पहले, स्पेशल प्रोटेक्शन ग्रुप(एसपीजी) ने लैंडिंग स्पॉट, रैली स्थल और हरेक सुरक्षा विवरण ले लिए थे, परन्तु बाद में पीएम के काफिले ने अचानक जमीनी रास्ता पकड़ लिया, जोकि एसपीजी द्वारा क्लियर किया गया था। उन्होंने सवाल किया कि प्रधानमंत्री के आसपास खुफिया तंत्र क्या कर रहा था। मंच से चन्नी ने आप सुप्रीमो अरविंदर केजरीवाल को कोरोना तक कह डाला। भगवंत मान पर भी निशाना साधते कहा कि वह मुख्यमंत्री के चेहरे के तौर पर उम्मीदवार बनने के लिए केजरीवाल के पीछे-पीछे बकरी बनकर घूम रहे हैं।

खबरें और भी हैं...