पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

योग से रहें निरोग:प्राणायाम से प्राकृतिक तरीके से घर बैठे बढ़ाएं ऑक्सीजन लेवल

लुधियाना2 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
हम प्राणायाम के जरिए कैसे ऑक्सीजन की मात्रा को बढ़ा सकते हैं। - Dainik Bhaskar
हम प्राणायाम के जरिए कैसे ऑक्सीजन की मात्रा को बढ़ा सकते हैं।
  • कोरोना महामारी में योग से रोग-प्रतिरोधक क्षमता बढ़ाएं और श्वसन तंत्र भी रखें सक्रिय

कोरोना वायरस आज एक बड़ी समस्या बन चुका है। कोरोना वायरस विशेष रूप से हमारे श्वसन तंत्र पर अपना दुष्प्रभाव डालता है। आज यदि हम अपनी रोग-प्रतिरोधक क्षमता बढ़ा लें या यूं कहें कि इसे मजबूत कर लें और साथ ही अपना श्वसन तंत्र सक्रिय रखें तो कोई भी बीमारी हमें नुकसान नहीं पहुंचा सकती। वहीं, इसे योगासन और प्राणायाम के माध्यम से आसानी से बढ़ाया जा सकता है। योग गुरु संजीव त्यागी निदेशक एवरेस्ट योगा इंस्टीट्यूट बता रहे हैं कि हम प्राणायाम के जरिए कैसे ऑक्सीजन की मात्रा को बढ़ा सकते हैं।

इन योगासनों के जरिए शरीर और मन में ऊर्जा कर सकते हैं संचार

प्राणायाम: आरामदायक आसन में बैठ जाएं और सामान्य रूप से श्वास लें और छोड़ें। इस एक मिनट के दौरान, सोचें कि आप स्वस्थ होने और मजबूत बनने के लिए शरीर और मन में ऊर्जा प्राप्त करने जा रहे हैं। आखें बंद कर लें, दृष्टि को नाक पर केंद्रित करें, पीठ सीधी रखें, और दिमाग़ को शांत करें। एक गहरी सांस धीरे-धीरे लें। सोचें कि मन-शरीर में ऊर्जा और प्राण भर रहे हैं। धीमी गति से सांस छोड़ें। सुविधा अनुसार प्राणायाम को 10-20 बार दोहराएं।

अनुलोम विलोम: सुखासन में बैठ जाएं। कमर गर्दन बिल्कुल सीधी रहे। आंखों को सहजता से बंद कर दें। दाएं हाथ की पहली दो अंगुलियों आज्ञा चक्र पर रख दें। पहले तीसरी और छोटी अंगुली से बाईं नाक को बंद कर दें और दाईं नाक से श्वास लें (पूरक)। फिर अंगूठे से दाईं नाक को बंद कर बाईं नाक से श्वास को छोड़े। इसी प्रक्रिया को बाईं नाक से भी दोहराएं। इसी प्रक्रिया को 5 मिनट तक करते रहें। इस प्राणायाम में कुंभक का उपयोग अपनी सुविधा अनुसार करें।

भ्रामरी प्राणायाम: पद्मासन या सुखासन में बैठ जाएं। दोनों हाथों को कोहनियों से मोड़कर कानों के पास लाएं और दोनों हाथों के अंगूठों से दोनों कानों को बंद करें। दोनों हाथों की तर्जनी उंगली को माथे पर और मध्यमा, अनामिका और कनिष्का उंगली को आंखों के ऊपर रखें। मुंह बंद रहे और नाक से सांस लें। मुंह को बंद करके मधुमक्खी की तरह गुनगुनाएं और सांस बाहर छोड़ें। सांस छोड़ते हुए ओम का उच्चारण करें। कोशिश करें कि यह लंबा हो ओर इस कम से कम 10 से 15 बार करें।

बैली ब्रीथिंग: सुखासन में बैठ जाएं। आंखों को सरलता से बंद कर दें। दाएं हाथ को नाभी पर रखें और बाएं हाथ को छाती पर रख दें। श्वास लेते हुए पेट को बाहर की ओर कर दाएं हाथ से महसूस करें। श्वास छोड़ते हुए पेट को अंदर करते हुए श्वास को बाहर छोड़े। इसी प्रक्रिया को 20 बार करें। मन बिल्कुल शांत रहें और ध्यान श्वास पर रहें। यह प्राणायाम ऑक्सीजन की कमी की पूर्ति करता है।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- दिन सामान्य ही व्यतीत होगा। कोई भी काम करने से पहले उसके बारे में गहराई से जानकारी अवश्य लें। मुश्किल समय में किसी प्रभावशाली व्यक्ति की सलाह तथा सहयोग भी मिलेगा। समाज सेवी संस्थाओं के प्रति ...

    और पढ़ें