पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें
  • Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Ludhiana
  • Infection Rate Increased By 5% To 16.12% In 4 Days, Patients Arriving Late In Hospital, Increased Cases Of Decrease In Oxygen Level

कोरोना संक्रमण से युद्ध:संक्रमण दर 4 दिन में 5% बढ़कर 16.12% हुई, अस्पताल देरी से आ रहे मरीज, ऑक्सीजन लेवल घटने के बढ़े केस

लुधियानाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
ऑटो में लाश लेकर बैठे रहे परिजन, बाद में स्टाफ ने स्ट्रेचर पर लेटाया और फिर एंबुलेंस में भेजा - Dainik Bhaskar
ऑटो में लाश लेकर बैठे रहे परिजन, बाद में स्टाफ ने स्ट्रेचर पर लेटाया और फिर एंबुलेंस में भेजा
  • 1460 नए संक्रमित, रेलवे के पावरकॉम एसएसई समेत 29 मरीजों की मौत

जिले में कोरोना मरीजों के केस बढ़ने के साथ ही संक्रमण दर में भी लगातार इजाफा हो रहा है। अगर पिछले चार दिन की बात करें तो संक्रमण दर 16.12 फीसदी तक पहुंच गई है। यही दर 30 अप्रैल को 11.31 फीसदी थी। मई की शुरुआत से ही कोरोना मरीज आने का आंकड़ा 1000 से पार चल रहा है। उधर, मरीज भी इलाज करवाने में लगातार लापरवाही बरत रहे हैं। कई मरीज सांस लेने में परेशानी ज्यादा बढ़ने और ऑक्सीजन स्तर बेहद कम होने पर अस्पतालों में संपर्क किया है। वहीं, सिविल अस्पताल की एमरजेंसी में भी तेजी से मरीज बढ़ रहे हैं। एमरजेंसी में पहुंचने वाले मरीजों को लेटाने के लिए बेड तक कम पड़ रहे हैं। ऐसे में मरीजों को व्हीलचेयर पर ही बैठाकर ऑक्सीजन दी जा रही है। मंगलवार को 1460 नए संक्रमित पाए गए। इनमें से 1347 मरीज लुधियाना के और 113 बाहरी जिलों-राज्यों के हैं। 29 मरीजों की मौत हुई। इनमें भी 21 मरीज लुधियाना के हैं। 1320 मरीजों को कोविड-19 की डिस्चार्ज पॉलिसी के तहत डिस्चार्ज किया गया।

4 दिन में ही जिले के 77 मरीजों की मौत: मंगलवार को रेलवे स्टेशन के पावरकॉम में तैनात एसएसई बृजराज की कोरोना संक्रमित होने से अस्पताल में मौत हो गई। बृजराज की 30 अप्रैल को अचानक तबीयत ज्यादा बिगड़ गई। सांस लेने में दिक्कत के चलते उन्हें अस्पताल भर्ती कराया गया। जिस दिन बृजराज को अस्पताल में भर्ती करवाया गया, उसी दिन उनकी बेटी की शादी होनी थी। सांस लेने में दिक्कत ज्यादा होने के कारण वह बेटी की शादी भी न देख सके और मंगलवार को दम तोड़ दिया। मई के चार दिनों में ही कुल मौतों 1461 की 5% मौतें हो चुकी हैं। जिले के 77 मरीजों की मौत इन चार दिनों में ही हो चुकी है। 10307 एक्टिव केस हैं। इनमें से 7869 मरीज होम आइसोलेशन में हैं। जिले के 1102 मरीज ऑक्सीजन सपोर्ट पर हैं। 18 मरीज वेंटिलेटर पर हैं।

कुल 35 मरीज वेंटिलेटर पर हैं। मंगलवार को आए संक्रमितों में पॉजिटिव मरीजों के संपर्क के 100 मरीज, 1 गर्भवती, सिविल अस्पताल की स्टाफ नर्स और वॉर्ड अटेंडेंट समेत 4 सेहत मुलाजिम, 2 कैदियों की रिपोर्ट पॉजिटिव रही। मंगलवार को हुई मौतों में 28 वर्षीय युवक समेत जिले के 21 मरीजों की मौत हुई। इनमें भी 17 पुरुष रहे। मृतक जम्मू कॉलोनी, जगराओं, लोहारा, गुरु नानक नगर, दोराहा, साहनेवाल, महाजन विहार, चंडीगढ़ रोड, बाड़ेवाल, प्रेम विहार, ग्यासपुरा, हैबोवाल कलां, ताजपुर रोड, जनता नगर, आकाश नगर, विकास नगर, कैलाश नगर के रहने वाले थे।

कोविशील्ड की 26 हजार डोज आई, सरकारी सेंटरों में लगेगी

मंगलवार शाम को जिले में कोविशील्ड की 26 हजार डोज पहुंची। बुधवार को जिले के सरकारी सेंटर्स में वैक्सीनेशन ड्राइव चलेगी। ब्लॉक्स को रात तक वैक्सीन अलॉट की गई जिससे कि अगले दिन वैक्सीनेशन ड्राइव में किसी तरह की रुकावट न आए। वहीं, अभी कोवैक्सीन की डोज नहीं है ऐसे में नई डोज का भी इंतजार किया जा रहा है। मंगलवार को केवल 430 ही डोज लग पाई। अब तक 548285 को वैक्सीन लग चुकी है।

अभी तक भी कुछ स्तर पर लापरवाही हो रही है। अस्पताल में परिजनों को जानकारी देने के लिए कोई हेल्प डेस्क तक नहीं है। परिजन यहां से वहां भटकते रहते हैं। आखिर में अपने स्तर पर ही सारी चीजों का प्रबंध करने लग जाते हैं। ताजपुर रोड के नीरज (35) के परिजन उसे सिविल अस्पताल लेकर पहुंचे, लेकिन इलाज से पहले ही उसकी मौत हो चुकी थी। उसकी पत्नी स्ट्रेचर पर पड़े अपने पति से लिपट कर रोती रही। काफी देर तक उन्हें इंतजार करना पड़ा, इस पर परिजन ऑटो में रखकर ले जाने लगे। मगर हंगामा होने के बाद कर्मचारी आए और शव को स्ट्रेचर पर रख वापस लेकर गए और परिजनों को एंबुलेंस के जरिए भेजा गया।

खबरें और भी हैं...