• Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Ludhiana
  • Ludhiana Congress Worker Happy's Suicide Case Not Satisfied Even After 23 Days PPCC Chief Sidhu's Promise Of 10 Compensation And Job To Family Members; The Third Accused Of Forcing Him To Die

लुधियाना के कांग्रेसी वर्कर हैप्पी की खुदकुशी का मामला:23 दिन बाद भी वफा नहीं हुआ PPCC प्रधान सिद्धू का 10 लाख मुआवजे और परिजन को नौकरी का वादा; तीसरा आरोपी भी खुला घूम रहा

लुधियानाएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
यह तस्वीर उस दिन की है जब सिद्धू मंत्री आशु के साथ कांग्रेसी वर्कर के घर गए थे। - फाइल फोटो - Dainik Bhaskar
यह तस्वीर उस दिन की है जब सिद्धू मंत्री आशु के साथ कांग्रेसी वर्कर के घर गए थे। - फाइल फोटो

हपंजाब के लुधियाना जिले में कांग्रेस वर्कर दलजीत सिंह हैप्पी की आत्महत्या के 23 दिन बीत जाने के बाद भी प्रदेश प्रधान नवजोत सिंह सिद्धू उनके परिवार को नौकरी और मुआवजा देने का वादा पूरा नहीं कर पाए। यही नहीं इस मामले में नामजद तीसरा आरोपी बलविंदर सिंह अभी भी खुला घूम रहा है। यह मामला पंजाब में कांग्रेस कार्यकर्ताओं की हालत बयां करता है।

प्लाट विवाद में की थी कांग्रेस वर्कर ने खुदकुशी, घर पहुंचे थे सिद्धू
ध्यान रहे, कांग्रेस पार्टी के स्पोर्टस एवं कल्चरल सैल देहाती के जिला चेयरमैन दजलीत सिंह हैप्पी बाजवा ने प्लॉट के विवाद में परेशान होकर बीती 29 जुलाई को खुदकुशी कर ली थी। उसने इससे पहले ऑडियो रिकॉर्ड की थी, जो बाद में वायरल हो गई थी। उसने अपने साथ हुई धक्केशाही का जिक्र किया था। उसकी यह कहानी जान लेने के बाद मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने ट्वीट किया था।

यही नहीं ताजा-ताजा पार्टी के प्रदेश प्रधान बने नवजोत सिंह सिद्धू, कैबिनेट मंत्री भारत भूषण आशु और अन्य नेता उसके घर पहुंचे थे। सिद्धू ने ऐलान किया था कि वह परिवार के साथ खड़े होंगे। परिवार के एक सदस्य को नौकरी दिलाई जाएगी और पार्टी की तरफ से 10 लाख रुपए दिए जाएंगे। इसके बाद पुलिस ने प्रीतम सिंह, बलविंदर सिंह और महिंदर सिंह को, दलजीत सिंह हैप्पी बाजवा की शिकायत पर नामजद कर लिया था। प्रीतम सिंह और महिंदर सिंह को गिरफ्तार कर लिया, मगर एक आरोपी बलविंदर सिंह अभी भी गिरफ़्तार नहीं हुआ है।

मृतक कांग्रेसी वर्कर हैप्पी।
मृतक कांग्रेसी वर्कर हैप्पी।

कार्रवाई के हालात देखिए, एक की गिरफ्तारी बाकी और दूसरा जमानत पर रिहा
प्रदेश के मुख्यमंत्री कैपटन अमरिंदर सिंह के पास ही गृह विभाग भी है। पुलिस का पूरा महकमा उनके अधीन आता है। उनकी ओर से ट्वीट करने के साथ साथ डीजीपी को आदेश दिए गए थे कि इस मामले में प्रभावी कार्रवाई की जाए। पुलिस ने तुरंत आपराधिक मामला दर्ज कर लिया, मगर तीसरे आरोपी की गिरफ्तारी नहीं हो पाई है। इससे पहले ही दूसरा जमानत पर बाहर भी आ चुका है।

मैं तो अफसरों के पास चक्कर काट काट थक गया: सुरिंदर सिंह
दलजीत सिंह उर्फ हैप्पी बाजवा के भाई सुरिंदर सिंह के बयान पर आपराधिक मामला दर्ज किया गया था। उनका कहना है कि वह मामले की जांच को तेज करवाने और आरोपी की गिरफ्तारी के लिए अधिकारियों के पास चक्कर काट रहा हूं, मुआवजा राशी के लिए लोकल नेताओं की मिन्नतें कर रहा हूं मगर मेरी सुनवाई करने वाला कोई नहीं है। थक-हारकर बैठ गया हूं, जब जो होगा देखा जाएगा।

खबरें और भी हैं...