अफसरों की जेबें भर गए PSC चेयरमैन:स्टेशन पर चैकिंग की खानापूर्ति के बीच यात्री बोले- यहां पानी-बेंच तक नहीं, रोज हो रही चोरियां

लुधियाना3 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
यात्री सेवा समिति के चेयरमैन लुधियाना रेलवे स्टेशन पर निरीक्षण करने पहुंचे। - Dainik Bhaskar
यात्री सेवा समिति के चेयरमैन लुधियाना रेलवे स्टेशन पर निरीक्षण करने पहुंचे।

उत्तर रेलवे की पैसेंजर सर्विस कमेटी (PSC) ने शुक्रवार को लुधियाना स्टेशन का निरीक्षण किया, लेकिन यह निरीक्षण सिर्फ खानापूर्ति ही साबित हुआ। PSC चेयरमैन रमेश चंद्र रतन और उनकी 4 सदस्यीय टीम की खातिरदारी में पूरे स्टेशन के अधिकारी लगे रहे। स्टेशन अधिकारियों की खातिरदारी से खुश होकर PSC चेयरमैन रमेश चंद्र रतन ने स्टेशन डायरेक्टर, ADEN, कमर्शियल विभाग और RPF को सरकारी खजाने से इनामी राशि देने का ऐलान कर गए।

इस निरीक्षण के दौरान रेलवे स्टेशन पर यात्रियों को किस तरह की सर्विस मिलती हैं? यह जांचने के लिए कमेटी ने कुछ नहीं किया। कमेटी सदस्यों के सामने ही स्टेशन पर ट्रेन में चढ़ने वाले यात्रियों की भगदड़ मची रही। इस भगदड़ में एक युवक का सिर भी फट गया। जीआरपी और RPD के किसी मुलाजिम ने इस भगदड़ को रोकने की ओर ध्यान नहीं दिया। RPF के जवान और अधिकारी तो कमेटी के सदस्यों की आवभगत में लगे रहे।

बेंचों की कमी होने के कारण जमीन पर बैठे यात्री।
बेंचों की कमी होने के कारण जमीन पर बैठे यात्री।

PSC कमेटी ने सबसे पहले प्लेटफार्म नंबर-1 पर बुक स्टॉल को चैक किया। इस दौरान काउंटर पर कुछ आपत्तिजनक पुस्तकों को देखकर स्टॉल संचालक को ऐसी पुस्तकें न बेचने की सलाह दी। इसके बाद रिफ्रेशमेंट कैंटीन, वॉशरूम, वेटिंग हाल, ‌बुक‌िंग केंद्र, TCR ऑफिस, चाइल्ड लाइन और RPF पोस्ट का निरीक्षण किया गया। इस निरीक्षण के दौरान किसी चीज को गंभीरता से चैक नहीं किया गया।

सर्कुलेटिंग एरिया में हुए अवैध कब्जे, टिकट खिड़कियों पर होती ओवरचार्जिंग, रिफ्रेशमेंट कैंटीन के पीछे गंदगी भरा माहौल कमेटी के किसी सदस्य को नहीं दिखा। स्टेशन के 7 प्लेटफार्म 7 में से सिर्फ 2 प्लेटफार्म को देखकर देख चैकिंग क्लोज कर दी गई। हां निजी शौचालय के ठेकेदार को यूरीनल के पैसे लेने की शिकायत पर जुर्माना जरूर लगाया गया।

ट्रेन में चढ़ते समय भगदड़ में चोटिल युवक से चेयमैन को स्टेशन के हालात बताता हुआ।
ट्रेन में चढ़ते समय भगदड़ में चोटिल युवक से चेयमैन को स्टेशन के हालात बताता हुआ।

बेंचों की कमी, जमीन पर बैठे यात्री

लुधियाना स्टेशन पर बेंचों की कमी है। इस कारण जमीन पर ही यात्री बैठ कर या लेट कर ट्रेन आने का इंतजार करते हैं। जब PSC चेयरमैन ने स्टेशन का दौरा किया तो यात्री बेंचों की कमी के कारण जमीन पर बैठे थे, लेकिन इसे देखकर भी अनदेखा कर दिया गया।

शहीद एक्सप्रेस में चढ़ते समय मची भगदड़

जिस समय PSC चेयरमैन रमेश चंद्र रतन और उनकी टीम प्लेटफार्म नंबर-1 पर निरीक्षण कर रही थी, उसी समय शहीद एक्सप्रेस में चढ़ते समय यात्रियों में भगदड़ मच गई। इस भगदड़ में एक युवक चोटिल हो गया और उसका सिर फट गया। इसी दौरान एक महिला यात्री PSC चेयरमैन रमेश चंद्र रतन के पास पहुंची और बताया बताया कि उसका पर्स लुधियाना स्टेशन पर ही ट्रेन से कोई चोरी करके ले गया।

महिला का पर्स चोरी होने के बाद चेयरमैन से अपनी आप बीती बताती महिला।
महिला का पर्स चोरी होने के बाद चेयरमैन से अपनी आप बीती बताती महिला।

रोज कटती जेबें, चेयरमैन बता गए 'नंबर 1 स्टेशन'

PSC चेयरमैन रमेश चंद्र रतन ने स्टेशन डायरेक्टर को 10 हजार, ADEN को 10 हजार, कमर्शियल विभाग को 10 हजार रुपए और RPF को सरकारी खजाने से 5 हजार रुपए की इनामी राशि देने का ऐलान किया। ‌वहीं जब पत्रकारों ने उनसे यात्रियों के लिए ठंडे पानी की सुविधा और स्टेशन पर मेडिकल सहायता न होने के बारे में पूछा तो वह किसी सामाजिक संस्था की मदद लेने की बात करने लगे।

जबकि मुफ्त में सरकारी अफसरों पर लुटाए गए सरकारी पैसे से यात्रियों के लिए वाटर कूलर या प्राथमिक उपचार की दवाएं मिल सकती थीं। बताते चले कि लुधियाना स्टेशन पर रोजाना 10 से 15 लोगों की जेबें कटती हैं और मोबाइल चोरी होते हैं। पुलिस को शिकायत देने वालों में किसी एक यात्री की ही शिकायत थाने में लिखी जाती है। सबसे अधिक आपराधिक गतिविधियों वाले स्टेशन को चेयरमैन स्टेशन नंबर 1 का खिताब दे गए।

PSC चेयरमैन रिफ्रेशमेंट रूम संचालत से मिलते हुए।
PSC चेयरमैन रिफ्रेशमेंट रूम संचालत से मिलते हुए।

रिफ्रेशमेंट रूम भाजपा कार्यकर्ता का निकला

PSC के चेयरमैन रमेश चंद्र रतन और उनकी टीम जैसे ही प्लेटफार्म नंबर-1 पर बने रिफ्रेशमेंट रूम के नजदीक पहुंची तो उन्हें कमेटी के ही एक सदस्य ने कह दिया कि यह अपनी पार्टी के कार्यकर्ता का है। इतना सुनते ही चेयरमैन साहिब रिफ्रेशमेंट रूम के मालिक पर मेहरबान हो गए और तुरंत बिना चैक किए रिफ्रेशमेंट रूम से बाहर बैरंग लौट गए। रिफ्रेशमेंट रूम संचालक ने अपने बचाव के लिए शहर के कई भाजपा सीनियर नेताओं को भी बुला रखा था।