पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App

कोरोना:लगातार दूसरे दिन 25 से ज्यादा मौतें, 8 राज्यों में हमसे ज्यादा केस, लेकिन मौतों में लुधियाना आगे

लुधियाना7 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • बुधवार को 26 ने तोड़ा दम, 324 नए पाॅजिटिव, वेंटिलेटर पर 40 मरीज

बुधवार को जिले में कोविड के 324 पॉजिटिव केस सामने आए। इसमें लुधियाना के 286 और दूसरे जिलों व राज्यों से संबंधित 38 पॉजिटिव केस रिपोर्ट किए गए हैं। वहीं, लगातार दूसरे दिन मौतों का आंकड़ा भी 25 से ज्यादा ही बना हुआ है। बुधवार को भी 26 मौतें हुई। इसमें लुधियाना से संबंधित 15 लोगों हैं। दूसरे जिलों व राज्यों से संबंधित 11 मौतें हुई हैं। जोकि पहली बार हुई हैं। जिले में अब तक कुल पॉजिटिव केस 14908 आ चुके हैं।

इसमें से 1631 केस एक्टिव हैं। 12651 अब तक रिकवर हो चुके हैं। वहीं, 623 लोगों की जान जा चुकी है। जिले के 40 मरीज वेंटिलेटर पर हैं। बुधवार को आए पाॅजिटिव केस में 10 हेल्थ केयर वर्कर और 2 पुलिस मुलाजिमों की रिपोर्ट पॉजिटिव पाई गई। पॉजिटिव मरीजों के संपर्क के 32 लोग, ओपीडी के 79 मरीज, इनफ्लूएंजा लाइक इलनेस के 95 केस और एसएआरआई के 4 केस पॉजिटिव रहे।

सिविल के 3 वेंटिलेटर्स में से 1 ही फंक्शनल

सुनील। लुधियाना | सिविल अस्पताल के आईसीयू में तीन वेंटिलेटर हैं जिनमें से एक ही वेंटिलेटर फंक्शनल है। एक खराब है और एक फंक्शनल नहीं हो सका। जो एक ठीक है उस पर आज तक एक मरीज को रखा गया जिसको भी अस्पताल प्रशासन बचा ना सका। अब आलम ये है कि सिविल में आने वाले लेवल-3 के मरीजों को एमओयू के तहत सीएमसी या फिर पटियाला स्थित राजेंद्रा अस्पताल में ही रेफर करना पड़ रहा है।

मौजूदा समय में सिविल अस्पताल में कोरोना के 31 मरीज ऐसे भर्ती हैं जिनको ऑक्सीजन की जरूरत है। एनआईवी (नॉन इन्वसेव वेंटिलेशन) 6 मरीज है जिनको सांस लेने में काफी दिक्कतों का सामना करना पड़ रहा है। कोविड वाॅर्ड इंचार्ज व एसएमओ डा. हतिंदर कौर ने बताया कि एमओयू के तहत हमारे 12 वेंटिलेटर सीएमसी में चल रहे हैं। नए आए दो वेंटिलेटर्स में से एक फंक्शनल नहीं हो पाया था। उसका एक एक्विपमेंट बैंगलोर से आना है। एक वेंटीलेटर को सिविल के आईसीयू में शुरू किया गया है।

ये पहला स्थान घातक

कोविड-19 के केस और उनसे होने वाली मौतों में लुधियाना सूबे में पहले नंबर पर है। इसके साथ ही देश के 8 राज्य एेसे हैं जो केसों के मामले में भले ही लुधियाना से आगे हैं। लेकिन मौत के आंकड़े में लुधियाना इन राज्यों से आगे है। सेहत व परिवार कल्याण मंत्रालय के आंकड़ों के अनुसार इन राज्यों में पॉजिटिव केस लुधियाना के मुकाबले 3-4 गुना ज्यादा हैं। लुधियाना में जहां पॉजिटिव केस का आंकड़ा 14908 और मौतें 623 हो चुकी हैं। इन राज्यों में मौतें जिले के मुकाबले 2-3 गुना कम हैं।

मौतों में सूबे में सबसे आगे लुधियाना

एक्सपर्ट्स से जानिए मौतें बढ़ने की वजह

लुधियाना के रहने वाले अब तक 623 लोगों की मौत हो चुकी है। मृत्यु दर में लुधियाना सूबे में 4.3 फीसदी पर चल रहा है। लुधियाना में ज्यादा मौतों का कारण ये भी माना जा रहा है कि यहां मरीज हॉस्पिटल तब पहुंच रहे हैं जब उनकी स्थिति गंभीर हो रही है। मेडिसिन स्पेशलिस्ट डॉ. गौरव सचदेवा ने बताया कि इस समय काफी गंभीर मरीज आ रहे हैं। जिनकी उम्र 60 से ज्यादा है। पहले दिन बुखार होने पर मरीज को लगता है कि कोरोना नहीं हो सकता क्योंकि वो बाहर गए नहीं।

लेकिन उन्हें ये समझना होगा कि उनके परिवार में युवा सदस्य बाहर जा रहे हैं जो कोविड के कैरियर बनते हैं और उन्हीं से घर में मौजूद बुजुर्ग प्रभावित हो रहे हैं। दूसरे दिन डॉक्टर से कंसल्ट करने का विचार करते हैं। तीसरे दिन बुखार न होने पर सोचते हैं कि एसी वाला बुखार है। फिर शरीर में दर्द होने पर खुद ही ब्लड सैंपल देते हैं। पांचवें दिन खांसी और बुखार होने पर डॉक्टर को दिखाने और आरटी-पीसीआर कराने की सोचते हैं। लेकिन तब तक फेफड़े प्रभावित हो चुके होते हैं और फिर तेज बुखार होने लगता है तो हॉस्पिटल में एडमिट होते हैं।

इसी देरी के चक्कर में मरीज खुद को गंभीर स्थिति में ला रहे हैं। वहीं, दीपक हॉस्पिटल की मेडिसिन स्पेशलिस्ट डॉ. मनीत कौर ने बताया कि लोग जल्दी रिपोर्ट नहीं कर रहे। मरीज काफी बीमार और कम ऑक्सीजन लेवल वाले मरीज पहुंच रहे हैं। लोग टेस्ट नहीं करवा रहे। जिसके कारण स्थिति गंभीर हो रही है। हॉस्पिटल में एडमिट मरीजों में से 80% मरीज ऑक्सीजन सपोर्ट पर हैं। लोगों को समय पर टेस्टिंग करानी होगी।

सिविल में आए 2 मरीज एक घंटे में ही मरे: सिविल हॉस्पिटल में सितंबर में अब तक 20 मौतें हुई हैं। इसमें से 2 मरीज एेसे हैं जिनकी हॉस्पिटल आने के 1 घंटे बाद ही मौत हो गई। 4 मरीजों की 24 घंटों में ही मौत हो गई। 4 मरीजों की मौत दो दिन बाद हुई। कोविड वॉर्ड इंचार्ज व एसएमओ डॉ. हतिंदर ने बताया कि समय पर हॉस्पिटल न आने के कारण गंभीर स्थिति में मरीज पहुंच रहे हैं। समय पर हॉस्पिटल आने और इलाज कराने से कई जानें बच सकती हैं।

0

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- समय की गति आपके पक्ष में रहेगी। सामाजिक दायरा बढ़ेगा। पिछले कुछ समय से चल रही किसी समस्या का समाधान मिलने से राहत मिलेगी। कोई बड़ा निवेश करने के लिए समय उत्तम है। नेगेटिव- परंतु दोपहर बाद परिस...

और पढ़ें