इस्तीफा वापस लेने के बाद फील्ड में निकले सिद्धू:बेअदबी पर सवाल उठाने के बाद अगले दिन बुर्ज जवाहर सिंह वाला पहुंचे नवजोत

25 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
बुर्ज जवाहर सिंह वाला में ग्रामीणों से बात करते हुए नवजोत सिद्धू। - Dainik Bhaskar
बुर्ज जवाहर सिंह वाला में ग्रामीणों से बात करते हुए नवजोत सिद्धू।

पंजाब प्रदेश कांग्रेस कमेटी (PPCC) अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू बेअदबी पर सवाल उठाने के अगले दिन कोटकपूरा के पास बुर्ज जवाहर सिंह वाला पहुंचे। सिद्धू यहां गुरुद्वारा साहिब में नतमस्तक हुए और यहां के बाशिंदों से कुछ देर बातचीत की। उनका यह विजिट अनौपचारिक था और उन्होंने इस संबंध में किसी को जानकारी नहीं दी। शुक्रवार को PPCC अध्यक्ष पद से इस्तीफा वापस लेने के बाद बेअदबी के आरोपियों को सजा नहीं मिलने का मुद्दा उठाया था।

इसी गुरुद्वारा साहिब से 2015 में श्रीगुरु ग्रंथ साहिब के पावन स्वरूप चोरी कर उनकी बेअदबी की गई। गुरुद्वारा परिसर में लोगों से बात करते हुए नवजोत सिद्धू ने कहा है कि बेअदबी के आरोपियों को सजा दिलाने के लिए सभी को अरदास करनी चाहिए। यह अरदास पूरी भी होगी, क्योंकि यह पूरे पंजाब के लोगों की मांग है कि उन लोगों को ऐसी कड़ी सजा दी जाए जो किसी ने सोची भी न हो। बेअदबी करने वालों को ऐसी सजा मिले जिसे पीढ़ियां याद रखें। सिद्धू ने कहा कि यह होगी भी, वाहेगुरु ऐसा खुद ही करेंगे। मेरी आस कभी नहीं टूटती। उन्होंने लोगों से अपील की आप भी अरदास करें, अरदास में बहुत ताकत है। न्याय का प्रकाश होगा और उससे मिसाल कायम होगी। सिद्धू इसके बाद गाड़ी में बैठकर वहां से निकल गए।

नवजोत सिंह सिद्धू। (फाइल फोटो)
नवजोत सिंह सिद्धू। (फाइल फोटो)

बेअदबी मामले में सरकार को कटघरे में खड़ा करते रहे हैं सिद्धू
नवजोत सिद्धू ने शुक्रवार को ही पत्रकारवार्ता कर अपनी सरकार को कटघरे में खड़ा किया था। उन्होंने कहा कि सरकार ने अभी तक इस मामले में कुछ नहीं किया। लोग उनकी ओर आस लगाए देख रहे हैं और हमें कार्रवाई करनी चाहिए। सिद्धू ने DGP इकबालप्रीत सिंह पर भी सवाल उठाए थे। इसके बाद उन्होंने इस्तीफा दे दिया था। अब अचानक इस्तीफा वापस लेने के बाद बुर्ज जवाहर सिंह वाला पहुंचे।

6 साल पुराना है बेअदबी का मामला
पंजाब पुलिस की SIT 6 साल पहले दर्ज बेअदबी के मामले में डेरा प्रमुख से पूछताछ करना चाहती है। मामला 1 जुलाई 2015 का है, जब फरीदकोट जिले में बरगाड़ी से 5 किमी दूर स्थित गांव बुर्ज जवाहर सिंह वाला के गुरुद्वारा साहिब से गुरु ग्रंथ साहिब का पावन स्वरूप चोरी कर लिया गया था। 24 सितंबर 2015 को बरगाड़ी में गुरुद्वारे के पास हाथ से लिखे दो पोस्टर लगे मिले। आरोप है कि पंजाबी भाषा में लिखे इन पोस्टरों में अभद्र भाषा इस्तेमाल की गई। पावन स्वरूपों की चोरी में डेरा सच्चा सौदा का हाथ होने की बात भी लिखी गई। 12 अक्टूबर 2015 को बुर्ज जवाहर सिंह वाला की गलियों में पावन स्वरूप के अंग बिखरे मिले। इसके बाद सिख संगत पर फायरिंग भी हुई, जिसमें 2 लोगों की मौत हो गई थी।

8 नवंबर को सुनारिया जेल में पूछताछ करेगी SIT
बरगाड़ी के पास बुर्ज जवाहर सिंह वाला 1 जुलाई 2015 को श्री गुरु ग्रंथ साहिब के पावन स्वरूप चोरी हो गए थे। इसके लिए थाना बाजाखाना में एफआईआर नंबर 63 दर्ज है और इसमें डेरा सच्चा सौदा प्रमुख को नामजद किया हुआ है। इसकी जांच के लिए SIT डेरा सच्चा सौदा प्रमुख से पूछताछ करना चाहती थी और इसके लिए अदालत ने प्रोडक्शन वारंट लिया था। डेरा प्रमुख को पंजाब भेजने के लिए हरियाणा जेल प्रबंधन राजी नहीं हुआ। इसके बाद डेरा सच्चा सौदा प्रमुख से पूछताछ के लिए SIT विशेष तौर पर पूछताछ के लिए रोहतक की सुनारिया जेल जा रही है।

खबरें और भी हैं...