पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

लूटने का प्रयास नाकाम:कारोबारी के घर 2 दिन पहले रखे नेपाल के नौकर ने दूध में नशा दे किया बेहोश, बेटा भिड़ा तो भागे

लुधियानाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
12 साल के बेटे ने नौकर को दबोच कर शोर मचा दिया, इसके बाद लोगों के इकट्ठा होने से पहले वो साथियों समेत फरार हो गया। - Dainik Bhaskar
12 साल के बेटे ने नौकर को दबोच कर शोर मचा दिया, इसके बाद लोगों के इकट्ठा होने से पहले वो साथियों समेत फरार हो गया।
  • सराभा नगर थाना एरिया की पंचशील इन्क्लेव में वारदात

सराभा नगर थाना एरिया की पंचशील इन्क्लेव में कारोबारी के घर 2 दिन पहले रखे नौकर ने परिवार को दूध में नशीला पदार्थ देकर बेहोश कर दिया और साथियों से मिल वारदात को अंजाम देने लगा। मगर 12 साल के बेटे ने नौकर को दबोच कर शोर मचा दिया, इसके बाद लोगों के इकट्ठा होने से पहले वो साथियों समेत फरार हो गया। मौके पर पहुंचे परिजनों और लोगों ने कारोबारी गौरव शर्मा, उनका मां शांता देवी और बेटे दिव्यांश को निजी अस्पताल में भर्ती करवाया। उधर, थाना सराभा नगर की पुलिस ने घर से सीसीटीवी फुटेज जुटा मामले की जांच शुरू कर दी है। एसएचओ परमदीप सिंह ने बताया कि परिवार के सदस्य अस्पताल में भर्ती हैं। उनके बयानों पर कार्रवाई की जा रही है।

पत्नी ऊपर वाले कमरे में थी क्वारेंटाइन

पुलिस के मुताबिक गौरव शर्मा (41) का सीसीटीवी कैमरों का शोरूम है, जहां वो पार्टनरशिप में काम करते हैं। घर में मां शांता (70), पत्नी गुंजन (37), बेटा दिव्यांश (12) और बेटी सिया (4) है। कुछ दिन पहले उनका नौकर चला गया था। इसके बाद उन्होंने प्राइवेट एजेंसी की मदद से नौकर दिनेश रखवाया था। इसे काम करते दो दिन ही हुए थे। 29 अप्रैल को गुंजन की कोविड पाॅजिटिव आई थी। इसके बाद वो घर की पहली मंजिल पर अलग कमरे में रह रही थी।

दूध पीने के बाद कोराबारी, मां-बेटा हुए बेहोश, तीनों अस्पताल में भर्ती

वीरवार रात करीब 12 बजे नौकर दिनेश ने परिवार के सभी सदस्यों को हल्दी वाला दूध दिया था। उसे पीने के बाद गौरव और शांता देवी दोनों बेहोश हो गए। जबकि पत्नी और बेटी ने दूध नहीं पिया था। वहीं, दिव्यांश ने थोड़ा दूध पिया तो उसने उल्टी कर दी। वो नौकर पर चिल्लाते हुए उसे देखने के लिए बाहर की तरफ निकला तो दिनेश मेन गेट खोल रहा था। दिव्यांश उसपर चिल्लाने लगा कि वो इतनी रात को गेट क्यों खोल रहा है। तभी उसकी नजर गेट के बाहर खड़े तीन हथियारबंद लोगों पर पड़ी। दिव्यांश चिल्लाने लगा तो दिनेश बाहर की तरफ भागने लगा।

घर से शोर सुन बाहर खड़े तीनों आरोपी फरार हो गए। जबकि दिनेश भी उसे धक्का देकर निकल गया। दिव्यांश ने अपने पिता के फोन से तुंरत मां को फोन किया और कहा कि पापा को कुछ हो गया है। इतना बोलने के बाद वो भी बेहोश हो गया। घबराकर गुंजन ने कमरे से बाहर आकर नीचे देखा तो सभी बेहोश पड़े थे और नौकर फरार था। उन्होंने शोर मचाकर मोहल्ले के लोगों को बुलाया और फिर अपने देवर सुशांत को फोन किया। जिसके बाद सभी को फिरोजपुर रोड स्थित ग्लोबल अस्पताल में भर्ती करवाया गया। इस सारे प्रकरण में आरोपी घर से कुछ नहीं ले जा सके। फिलहाल पुलिस ने आरोपियों पर पर्चा दर्ज कर दिया है।

सीसीटीवी में घटनाक्रम रिकॉर्ड

पुलिस ने घर में लगे सीसीटीवी कैमरों को खंगाला तो पूरे घटनाक्रम का पता चला। फिलहाल पुलिस के पास नौकर की तस्वीर नहीं है, लिहाजा फुटेज की मदद से ही उसके बारे में पता किया जा रहा है। इसके अलावा घर के बाहर खड़े आरोपी भी फुटेज में साफ नजर आ रहें है। पुलिस के मुताबिक जिस एजेंसी की मदद से नौकर को रखा गया है, उसका रिकॉर्ड चेक किया जा रहा है कि उनके पास लाइसेंस है या नहीं, उन्होंने नौकर का रिकॉर्ड रखा है या नहीं, इन सभी तथ्यों को चेक किया जा रहा है।

खबरें और भी हैं...