अनुमति:कोरोना को लेकर नए आदेश, स्कूलों को प्रैक्टिकल कराने की मंजूरी; 25-25 छात्र आएंगे

लुधियाना6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
फाइल फोटो - Dainik Bhaskar
फाइल फोटो
  • कोविड के चलते एक बैच सुबह 9-12 और दूसरा 2-5 बुलाया जाएगा
  • स्कूल की गतिविधियों की सीसीटीवी रिकॉर्डिंग या वीडियोग्राफी करनी होगी

डीसी वरिंदर शर्मा द्वारा स्टूडेंट्स के प्रैक्टिकल एग्जाम करवाने के लिए स्कूलों को स्टूडेंट्स बुलाने की अनुमति दी है। ये निर्णय सेक्रेड हार्ट सीनियर सेकेंडरी स्कूल की अपील के बाद जारी किया गया है। सीबीएसई, आईसीएसई, पीएसईबी से मान्यता प्राप्त स्कूल प्रैक्टिकल एग्जाम लेने के लिए बुला सकते हैं। कोविड के चलते एक बैच सुबह 9-12 और दूसरा 2-5 बुलाया जाएगा। दोनों बैच में 25-25 स्टूडेंट्स ही आएंगे। दोनों बार स्कूलों को कमरों को सेनेटाइज करना होगा। यही नहीं स्कूल की गतिविधियों की सीसीटीवी रिकॉर्डिंग या वीडियोग्राफी करनी होगी।

वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए कचहरी में होगी सुनवाई

जिले की अदालतों में केसों की सुनवाई वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए होगी। जिन जरुरी केसों में फिजिकल हेयरिंग की ज़रुरत पड़ती है, जिनमें लिटिगेशन और गवाहों की फिजिकल उपस्थिति जरुरी है, उन केसों के लिए अदालत में पहले ईमेल के जरिए सूचना देनी होगी। इन केसों में फिजिकल उपस्थिति के लिए लिटिगेशन और गवाहों को अपने साथ अदालतों के आदेशों की कापी डाउनलोड करके लेकर आनी जरुरी होगी। जो आरोपी जमानत पर हैं, उन्हें पेश होने से 15 जनवरी तक छूट है। जो आरोपी जेल में हैं, उन्हें वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए अदालतों के समक्ष पेश किया जाएगा। नए केस दाखिल करने का समय दोपहर एक बजे तक का होगा। ये निर्देश 15 जनवरी तक लागू रहेगें।

नगर निगम दफ्तरों में रखे जाएंगे कंप्लेंट बॉक्स

इधर नगर निगम कमिश्नर प्रदीप कुमार सभ्रवाल ने मीटिंग कर कहा कि निगम के सभी दफ्तरों और फील्ड में काम करने वाले मुलाजिमों और अधिकारियों के पास मास्क, ग्लब्स और सेनिटाइजर होना अनिवार्य होगा। इसके अलावा निगम के दफ्तरों में अब फिर से शिकायतों के संबंध में कंप्लेट बॉक्स दफ्तरों के गेट पर रखे जाएंगे। जबकि पब्लिक डीलिंग को कम करते हुए ऑनलाइन ही ज्यादा काम करने के आदेश जारी किए हैं। इसके अलावा हेल्थ ब्रांच के अधिकारियों को स्प्रे करवाने के लिए फिर से सोडियम हाइपोक्लोराइड की खरीद के आदेश जारी किए गए हैं। हेल्थ ब्रांच के ही अधिकारी की जिम्मेदारी तय की गई है कि सफाई मुलाजिमों, सीवरमैन समेत दफ्तरों में काम करने वाले दर्जा चार कर्मचारियों काे मास्क, ग्लब्स और सेनिटाइजर मुहैया करवाया जाएगा। मीटिंग के बाद निगम कमिश्नर की तरफ से दफ्तराें में भी जाकर औचक निरीक्षण किया गया। जहां ये चैक किया गया था कि दफ्तरों में कहीं लोेगों का इक्ट‌ठ तो नहीं था और मास्क, सेनिटाइजर आदि का पूरा ध्यान रखा गया है या नहीं। इसके अलावा सभी जोनल कमिश्नराें को आदेश जारी किए गए हैं कि बिना मास्क के किसी की भी दफ्तर में एंट्री न होने दी जाए।

खबरें और भी हैं...