सुविधा:अब सेवा केंद्रों में खाद्य पदार्थों की होगी रजिस्ट्रेशन, लाइसेंस सर्टिफिकेट बनेंगे

लुधियाना2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
फाइल फोटो - Dainik Bhaskar
फाइल फोटो
  • लोगों के समय की होगी बचत, नहीं काटने पड़ेंगे दफ्तरों के चक्कर
  • 12 लाख रुपए से कम का कारोबार वाले रजिस्ट्रेशन और इससे ज्यादा कारोबार करने वाले लाइसेंस के लिए कर सकेंगे आवेदन

खाद्य पदार्थों से जुड़े सभी प्रकार के सभी कारोबारियों के लिए जिला प्रशासन बड़ी राहत लाया है। अब जिले के सभी 38 सेवा केंद्रों पर खाद्य पदार्थों के तहत सेल, बिक्री, मैन्युफैक्चरिंग की रजिस्ट्रेशन और लाइसेंस के लिए आवेदन किए जा सकते हैं। इसकी पुष्टि एडिशनल डिप्टी कमिश्नर डेवलपमेंट अमित कुमार पंचाल ने की। उन्होंने बताया कि ये सुविधा अब शुरू कर दी है। इससे लोगों को बड़ी राहत होगी। इससे उनका समय बचेगा। एजेंटों के चक्कर में भी काटना पड़ेगा।

प्रति सेवा 1815 शुल्क देना होगा

बता दें कि 332 प्रकार की सेवाएं इस समय सेवा केंद्रों पर दी जा रही हैं। इसमें मैरिज, एससी-बीसी, रेजिडेंस, आधार, आर्म्स, लर्निंग लाइसेंस, सर्टिफाइड कॉपी, रेवेन्यू विभाग से जुड़े सभी कार्य, जन्म-मौत सर्टिफिकेट, एफिडेविट, एक्साइज डिपार्टमेंट से जुड़े कार्य, हेल्थ डिपार्टमेंट से जुड़े सभी समेत कई प्रमुख विभागों के लिए आवेदन सेवा केंद्रों में मिल रही है। एडीसी पंचाल ने सेवा केंद्रों के तहत काम करने वाले मुलाजिमों को निर्देश दिए कि सेवा केंद्रों में कोरोना की रोकथाम के लिए राज्य सरकार की तरफ से जारी निर्देशों का पालन किया जाए। ये भी कहा कि लोगों को सेवाएं देने में कोई लापरवाही नहीं बरती जानी चाहिए।

आवेदक अलग-अलग कैटेगरी में रजिस्ट्रेशन और लाइसेंस कर सकेंगे अप्लाई

एडीसी पांचाल ने बताया कि स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण विभाग, पंजाब में खाद्य एवं ड्रग प्रशासन के तहत दो सेवाएं हैं। खाद्य पदार्थों की रजिस्ट्रेशन सर्टिफिकेट के लिए (12 लाख रुपए से कम का कारोबार) वाले और खाद्य पदार्थों के लाइसेंस सर्टिफिकेट के लिए (12 लाख से अधिक का कारोबार) के लिए ये सेवाएं उपलब्ध होंगी। उन्होंने बताया कि इन सेवाओं के लिए सेवा केंद्रों में प्रति सेवा 1815 रुपए सेवा शुल्क लिया जाएगा। आवेदक अब अपने नजदीकी सेवा केंद्र पर लाइसेंस सेवा के लिए पंजीकरण के लिए आवेदन कर सकेंगे।

ये होगा फायदा

बता दें कि खाद्य महकमे से जुड़े कामों में रजिस्ट्रेशन और लाइसेंस सर्टिफिकेट के लिए कारोबारियों के पास एकमात्र साधन ये है कि खाद्य विभाग के दफ्तरों में ही जाकर इन सेवाओं का लेना पड़ता था। इससे लोगों का समय तो बर्बाद होता ही था। वहीं, कई लोग तो एजेंटों के चक्करों में फंसकर पैसे की बर्बादी भी करते हैं। ऐसे में अब सुविधा ये है कि जिले के अलग-अलग हिस्से में बने 38 सेवा केंद्रों पर रजिस्ट्रेशन और लाइसेंस सर्टिफिकेट का काम शुरू किया है। लोग अब नजदीकी सेवा केंद्रों पर अप्लाई कर समय बचा सकते हैं।

खबरें और भी हैं...