अलका लांबा का केजरीवाल पर निशाना:कहा- दिल्ली में बिजली फ्री का वादा कर लोगों को ठगा, अब ऐसे ही ऐलान पंजाब में कर रहे

लुधियाना10 महीने पहलेलेखक: दिलबाग दानिश
  • कॉपी लिंक
पंजाब पहुंचीं AICC की प्रवक्ता अलका लांबा। - Dainik Bhaskar
पंजाब पहुंचीं AICC की प्रवक्ता अलका लांबा।

पंजाब के लुधियाना में पहुंची ऑल इंडिया कांग्रेस कमेटी (AICC) की प्रवक्ता अलका लांबा ने दिल्ली के सीएम एवं आम आदमी पार्टी के संयोजक अरविंद केजरीवाल को महाठग कहा। उन्होंने कहा कि अरविंद केजरीवाल जो दावे पंजाब में कर रहे हैं, वैसे ही दावे उनकी ओर से दिल्ली में किए गए थे, जो अब वहां के लोग भुगत रहे हैं। उन्होंने कहा कि दिल्ली में फ्री बिजली ही सबसे बड़ी ठगी है। वहां पर प्रत्येक व्यक्ति को 2000 रुपए माह का बिजली बिल देना ही पड़ता है। दिल्ली में हवा, पानी दूषित है और अपराध चरम पर है। यही नहीं दिल्ली में एक साल से लोकायुक्त को ही नहीं लगाया गया है। इनके ही 87 विधायकों के खिलाफ मामले सुनवाई के लिए लंबित पड़े हैं।

केजरीवाल पंजाब की बहू-बेटियों को सरकार आने पर 1 हजार रुपए भत्ता देने की बात कर रहे हैं, लेकिन दिल्ली में ऐसा क्यों नहीं करते हैं। पंजाब के लोगों को सवाल उठाना चाहिए कि वह पहले दिल्ली में कैबिनेट की बैठक बुलाएं और वहां की महिलाओं को जरूर 1 हजार रुपए भत्ता दें और फिर आकर यहां से वोट मांगें। पंजाब के लोग देश का पेट भरते हैं और यहां पर ऐसे ऐलान की जरूरत नहीं हैं।

12 माह के बिजली बिल लेकर आते केजरीवाल

उन्होंने कहा कि अरविंद केजरीवाल कुछ दिन पहले पंजाब आए और अपने साथ 1 लाख बिजली के बिल लाए, जिनका बिल जीरो था। अलका लांबा ने कहा कि यह सबसे बड़ी ठगी है। जो बिल वह लेकर आए थे वह मात्र सर्दी के तीन माह के बिल थे। बाकी के 9 माह के बिल भी लेकर आते तो मान लेती। दिल्ली में 200 यूनिट फ्री, 201 पर आधा बिल और 401 पर 6 रुपए 50 पैसे प्रति यूनिट के हिसाब से पैसे लिए जाते हैं। गर्मी में हर व्यक्ति को बिल देना पड़ता है। यानि 2000 रुपए हर व्यक्ति को प्रति माह बिल देना ही पड़ता है।

कहां गई स्वराज की किताब, जिसके बलबूते वोट मांगे थे

अलका लांबा ने आप द्वारा जारी की गई किताब स्वराज भी दिखाई। उन्होंने कहा कि इसी किताब के सहारे ही तो दिल्ली में वोट मांगे गए थे। जो बातें इसमें लिखी हैं, वह पूरी नहीं हुई हैं और लोग वहां ठगा हुआ महसूस कर रहे हैं। यही नहीं अब उनके सिर पर सफेद टोपी, जिसकी एक साइड स्वराज और दूसरी तरफ लोकपाल बिल लिखा होता है वह नहीं दिख रही है। अब दोबारा आएं तो इस किताब और टोपी के बारे में सवाल जरूर होने चाहिए।

मात्र पंजाब से वोट लेकर राष्ट्रीय पार्टी बनाना ही सपना

अलका लांबा ने कहा कि इनका पंजाब से वोट लेकर अपनी पार्टी को राष्ट्रीय पार्टी बनाने का ही सपना है और कुछ भी नहीं है। वह दिल्ली के लोगों को ठगने के बद पंजाब आ रहे हैं और अब तो थोड़ी बहुत पंजाबी भी सीख ली है। वोट पंजाब के लिए नहीं बल्कि अपने लिए मांग रहा है। शायद भगवंत मान को पीछे छोड़कर खुद मुख्यमंत्री बनना चाहता है। हिम्मत है तो भगवंत मान को मुख्यमंत्री का चेहरा ऐलान करें।

खबरें और भी हैं...