चिटफंड घोटाला:ब्याज समेत पैसे वापस देने के नाम एक हजार लोगों से 10 करोड़ रुपए की ठगी

लुधियाना2 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
पुलिस ने 10 करोड़ रुपया धोखाधड़ी से इकट्ठा कर चुके कंपनी के अधिकारियों पर मुकदमा दर्ज कर लिया है। - Dainik Bhaskar
पुलिस ने 10 करोड़ रुपया धोखाधड़ी से इकट्ठा कर चुके कंपनी के अधिकारियों पर मुकदमा दर्ज कर लिया है।

साल बाद ब्याज सहित रुपए वापस करने के नाम पर एक कंपनी ने लुधियाना के 1 हजार लोगों से धोखाधड़ी की। ठगी का पता लगने पर दो दर्जन लोगों ने पुलिस में शिकायत दी। जांच के बाद पुलिस ने कंपनी के अधिकारियों पर मुकदमा दर्ज कर लिया है। अभी इस मामले में कोई भी आरोपी गिरफ्तार नहीं हुआ है। लोगों का मानना है कि कंपनी के अधिकारी लुधियाना के लोगों का ही करीब 10 करोड़ रुपया धोखाधड़ी से इकट्ठा कर चुके हैं और अब वापस नहीं दे रहे हैं।

200 से 500 रुपए के हिसाब से लिये थे पैसे
ग्यासपुरा निवासी नितिन नंद ने बताया कि उक्त आरोपियों ने चिटफंड कंपनी के नाम पर लोगों से 200 व 500 रुपए प्रति महीना लेकर 1 साल बाद ब्याज सहित वापस करने की स्कीम का लालच दिया और लोगों से रुपए इकट्ठे करना शुरू कर दिया। नितिन ने बताया कि उक्त कंपनी के अधिकारी खुद ही लोगों के जाली बाउंड बनाते रहे। उन्हें इस मामले में शक हुआ तो खुद मामले की पड़ताल शुरू कर दी। तब उन्हें पता चला कि उक्त आरोपी फर्जी हैं।

जिसके बाद पुलिस ने जालंधर निवासी गुरविंदर सिंह, पुणे निवासी अनिल कुमार, छत्तीसगढ़ निवासी सचिन दामोदर, मध्य प्रदेश निवासी आशीष कुमार, दिल्ली निवासी निर्मल, मध्य प्रदेश निवासी मनिंदर निखारे, लुधियाना के कृष्णा नगर निवासी राजेंद्र प्रसाद जयसवाल के खिलाफ पर्चा दर्ज कर लिया है। नितिन ने बताया कि लुधियाना में लोगों के साथ डीलिंग राजेंद्र प्रसाद ही करता था। पुलिस अधिकारियों ने बताया कि ये मामला जांच करने के बाद दर्ज किया गया है।

खबरें और भी हैं...