मुफ्त सफर सुविधा देने के फैसले का स्वागत किया:मांगों के लिए पनबस-पीआरटीसी मुलाजिमों ने गेट रैली निकाली

लुधियाना8 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
प्रदर्शन करते लोग - Dainik Bhaskar
प्रदर्शन करते लोग

पंजाब रोडवेज पनबस कॉन्ट्रेक्ट वर्कर यू्नियन की गेट रैली में पीआरटीसी मुलाजिमों ने शमूलियत की। डिपो प्रधान शमशेर सिंह ने कहा कि वे पंजाब सरकार के महिलाओं को मुफ्त सफर सुविधा देने के फैसले का स्वागत करते हैं, परंतु पंजाब में रोडवेज और पीआरटीसी की बसें बहुत कम हैं। महिलाओं को बसों में सफर करने के लिए मुश्किलों का सामना करना पड़ता है। सरकार को तुरंत सरकारी बसों की गिनती करीब 10 हजार करनी चाहिए, ताकि लोगों को ट्रांसपोर्ट की सही सुविधा मिले और महिलाओं को परेशानी से बचाया जा सके।

पनबस यूनियन के सचिव प्रवीण कुमार, उप-प्रधान सुखदेव सिंह, गुरप्रीत सिंह, सिकंदर सिंह, सुखविंदर सिंह, पीआरटीसी के संगरूर, बरनाला, बठिंडा, लुधियाना डिपो के नेता और वर्करों ने मुश्किलों का जिक्र कर कहा कि सरकार और मैनेजमेंट कच्चे वर्करों से धक्केशाही कर रही है। पंजाब सरकार ने पिछले लंबे समय से ट्रांसपोर्ट विभाग में कच्चे मुलाजिमों को पक्का करने के लिए टाल-मटोल की है। मुलाजिमों का ठेकेदार के जरिए शोषण किया है।

उन्होंने मांग की कि पंजाब रोडवेज पनबस और पीआरटीसी के कच्चे मुलाजिमों को तुरंत पक्का किया जाए। बराबर काम बराबर तनख्वाह लागू की जाए, पीआरटीसी में नए ठेकेदार का एग्रीमेंट वर्करों के प्रति ठीक नहीं इसे रद्द किया जाए, जैसे रिपोर्ट को लेकर लगाई कंडीशनें रद्द कर निकाले मुलाजिम बहाल किए जाए। मांगें मनवाने के लिए पनबस और पीआरटीसी के मुलाजिमों ने सरकार के खिलाफ गेट रैली निकाली। आने वाली 16 अप्रैल को पीआरटीसी के गेटों पर गेट रैली, 23 अप्रैल को पंजाब रोडवेज-पनबस और पीआरटीसी के गेटों पर साझी गेट रैलियां कर 26 अप्रैल को पंजाब के सभी शहरों में बस स्टैंड बंद कर सरकार के पुतले फूंके जाएंगे।

खबरें और भी हैं...