दौरे की खातिर:पीएचएससी चेयरमैन का था दौरा तो चमकाया सिविल अस्पताल, मरीज ने कहा टॉयलेट्स की समस्या तो उसकी बात की अनसुनी

लुधियाना2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
चेयरमैन को न दिखें इसलिए टूटी व्हीलचेयर कैंटीन में रखवाईं - Dainik Bhaskar
चेयरमैन को न दिखें इसलिए टूटी व्हीलचेयर कैंटीन में रखवाईं
  • हॉस्पिटल में आईसीयू, लेबर रुम, नर्सरी और पहले फ्लोर पर बने वॉर्ड का सेखड़ी ने दौरा किया
  • अस्पताल में न दिखे गंदगी इसके लिए डाॅक्टर की ड्यूटी लगाई

बुधवार को पंजाब हेल्थ सिस्टम कॉरपोरेशन के चेयरमैन अश्विनी सेखड़ी ने सिविल हॉस्पिटल का दौरा किया। आमतौर पर सिविल हॉस्पिटल में साफ-सफाई की समस्या से लोगों को दो-चार होना पड़ता है लेकिन आज अच्छा और साफ-सुथरा हॉस्पिटल दिखाने के लिए न सिर्फ हॉस्पिटल को चमका दिया गया। वहीं, एक डॉक्टर की जिम्मेदारी भी लगा दी गई जिन्हें सिर्फ दिन-भर इसी का जायजा लेना था कि गंदगी न दिखे।

वहीं, एमसीएच की एंट्रेंस में रखी और कुछ टूटी व्हीलचेयर को भी उठाकर कैंटीन में रखवा दिया गया। सेखड़ी ने बच्चों के लिए तैयार आईसीयू का भी दौरा किया। सूबे के किसी सरकारी हॉस्पिटल में बच्चों के लिए बना ये पहला आईसीयू है। चेयरमैन के दौरे से दो दिन पहले ही उसे शुरू किया गया है। हॉस्पिटल प्रबंधन द्वारा हॉस्पिटल में स्टाफ की कमी को दूर करने की मांग की है। जिसके लिए सेखड़ी ने स्टाफ उपलब्ध करवाने के लिए कहा है।

टाॅयलेट व पानी की समस्या का हल सोमवार तक करने के दिए आदेश

चेयरमैन के दौरे के दौरान जब एक महिला ने हॉस्पिटल में टॉयलेट व पानी की समस्या का मुद्दा उठाया तो उसकी बात को उन्होंने अनसुना ही कर दिया। हॉस्पिटल में टॉयलेट व पानी की समस्या के हल के लिए उन्होंने दावा किया कि हॉस्पिटल में हर फ्लोर पर टॉयलेट व पीने के पानी की सुविधा को सही ढंग से चलवाया जाएगा। इसके लिए पीडब्ल्यूडी के जेई को सोमवार तक समस्या का हल करने के आदेश दिए गए। सेखड़ी ने अधिकारियों की जमकर क्लास भी लगाई और कहा कि इस समस्या का जल्द हल करें।

मरीजों की समस्या जानने को गठित की कमेटी

हॉस्पिटल में सड़कों पर ही गाड़ियां खड़ी रहने के कारण बुधवार को भी एंबुलेंस को निकलने में काफी समय लग गया। इस बारे में सेखड़ी ने 10 दिनों के अंदर हॉस्पिटल के पीछे बनने वाली पार्किंग में टाइल्स लगा कर पार्किंग एरिया सही करने के आदेश दिए। उन्होंने बताया कि हॉस्पिटल में पब्लिक रिप्रेजेंटेटिव को शामिल कर एक कमेटी स्थापित की गई है। जिसके चेयरमैन सिविल सर्जन, वाइस चेयरमैन अशोक मल्होत्रा व अन्य मेंबर्स महिलाएं रखी गई हैं। जो हॉस्पिटल में मरीजों से बातचीत कर उनकी समस्याओं को जानेंगे और हल करने की कोशिश करेंगे।

नई एफेरेसिस मशीन खरीदने पर विचार

हॉस्पिटल में आईसीयू, लेबर रुम, नर्सरी और पहले फ्लोर पर बने वॉर्ड का सेखड़ी ने दौरा किया। उसके बाद उन्होंने जिले भर के एसएमओ व सेहत अधिकारियों से मीटिंग की। जिसमें उन्होंने तीसरी लहर के लिए तैयार रहने के लिए कहा। सिविल हॉस्पिटल में सालों से बेकार पड़ी 42 लाख की एफेरेसिस मशीन को सही करवाने में 15 लाख का खर्चा बताया गया है। ऐसे में अब हॉस्पिटल द्वारा नई मशीन लेने पर चर्चा चल रही है।

खबरें और भी हैं...