चुनावी सभा में पहुंचे सिमरजीत सिंह बैंस:दुष्कर्म मामले में विधायक के खिलाफ गैर जमानती वारंट, पीड़िता को पुलिस ने सभा में जाने से रोका

लुधियाना7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

पंजाब के लुधियाना जिले के विधानसभा क्षेत्र आत्म नगर से विधायक और लोक इंसाफ पार्टी के अध्यक्ष सिमरजीत सिंह बैंस आज कई दिनों बाद दिखे। वह शहर के विधानसभा क्षेत्र उत्तरी में हो रही चुनावी सभा में शामिल होने के लिए पहुंचे। उनके खिलाफ अदालत की तरफ से दुष्कर्म के मामले में गैर जमानती वारंट जारी किया गया है और उन्हें गिरफ्तार कर 1 दिसंबर को अदालत में पेश किया जाना है। चुनावी सभा में पीड़ित महिला भी शामिल होने पहुंची, लेकिन उसे पुलिस ने रोक लिया। यह सभा हैबावाल के जवाला चौक में की जा रही है।

सिमरजीत के खिलाफ 18 नवंबर को में गैर जमानती वारंट जारी किए गए थे और तभी से वह ना तो किसी सभा में देखे गए और न ही किसी से मिल रहे हैं। इस बीच पीड़िता और शिरोमणि अकाली दल बादल की तरफ से आरोप लगाया जा रहा है कि पुलिस उसे बचाने में लगी हुई है। बता दें कि चुनावी सभा हैबोवाल एरिया के जवाला सिंह चौक के एक मैरिज पैलेस में रखी गई है। पार्टी के हलका इंचार्ज रणधीर सिंह सिविया की तरफ से इसका आयोजन किया गया है।

लुधियाना के हैबोवाल में आयोजित चुनावी सभा में मौजूद सिमरजीत सिंह बैंस।
लुधियाना के हैबोवाल में आयोजित चुनावी सभा में मौजूद सिमरजीत सिंह बैंस।

7 जुलाई 2021 को दर्ज हुआ था केस

एडिशनल चीफ ज्यूडिशियल मजिस्ट्रेट हरसिमरन जीत सिंह की अदालत ने 7 जुलाई 2021 को थाना डिविजन नंबर 6 की पुलिस को मामले में एफआईआर दर्ज करने के आदेश दिए थे। विधायक बैंस ने इन आदेशों को पंजाब हरियाणा हाईकोर्ट में चुनौती दी थी। अदालत ने याचिका को रद्द कर दिया था और उनके खिलाफ एफआईआर दर्ज हो गई थी। पिछले साल 16 नवंबर 2020 को महिला ने विधायक सिमरजीत सिंह बैंस, कमलजीत सिंह, बलजिंदर कौर, जसबीर कौर उर्फ भाभी, सुखचैन सिंह, परमजीत सिंह उर्फ पम्मा, गोगी शर्मा के खिलाफ केस दर्ज करने के लिए पुलिस कमिश्नर को शिकायत दी थी। पुलिस ने केस दर्ज करके अदालत में चार्जशीट दायर कर दी है। पहली तारीख 18 नवंबर थी, मगर विधायक अदालत में पेश नहीं हुए तो गैर जमानती वारंट जारी कर दिए गए।

सभा में जाना चाहती है पीड़िता

सिमरजीत सिंह बैंस के खिलाफ आपराधिक मामला दर्ज करवाने वाली महिला भी चुनावी सभा में जाना चाहती है, लेकिन उसे जस्सियां चौक में रोक लिया गया है। उसका कहना है कि पुलिस हर बार कोर्ट में कहती है सिमरजीत सिंह बैंस उन्हें मिल नहीं रहे हैं। अब जब स्टेज पर हैं तो गिरफ्तार क्यों नहीं किया जा रहा है।

पुलिस कमिश्नर कार्यालय के बाहर धरने पर बैठी है महिला

विधायक सिमरजीत सिंह बैंस पर आरोप लगाने वाली महिला पिछले 8 माह से पुलिस कमिश्नर कार्यालय के बाहर विधायक की गिरफ्तारी की मांग को लेकर धरने पर बैठी हुई है। उसने साल पहले शिकायत की थी, लेकिन जब पुलिस ने कोई सुनवाई नहीं की तो वह धरने पर बैठ गई। इस बीच उसने हाईकोर्ट का दरवाजा खटखटाया। हाईकोर्ट के आदेश के बाद पुलिस ने केस दर्ज किया।

जानें कौन हैं विधायक सिमरनजीत सिंह बैंस

कभी सिमरनजीत सिंह मान के साथ राजनीतिक करियर शुरू करने वाले सिमरजीत सिंह बैंस ने सुखबीर सिंह बादल की अगुवाई में अकाली दल जॉइन किया। इस दौरान उनके ऊपर कई आरोप लगे। उनके खिलाफ तहसीलदार के कार्यालय में घुसकर मारपीट करने का भी मामला दर्ज है। अकाली दल द्वारा चुनाव टिकट नहीं दिए जाने से नाराज होकर उन्होंने पार्टी छोड़ी। बाद में सिरमजीत सिंह बैंस और उनके भाई बलविंदर सिंह बैंस आजाद चुनाव लड़े और जीते भी। अब उन्होंने लोक इंसाफ पार्टी बनाई है और वह इसी से चुनाव लड़ते हैं। पिछला चुनाव आम आदमी पार्टी के साथ मिलकर लड़ा था और इस बार अकेले चुनाव लड़ने का ऐलान वह कर चुके हैं।

खबरें और भी हैं...