पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Ludhiana
  • Preparations Are Being Made To Increase Facilities In The Schools Of The District, 137 Class Rooms Being Built For Children From 10.29 Crore, Increase In Admission In Government Schools

टाइलें, प्रोजेक्टर, बैंच भी लगाए जा रहे:जिले के स्कूलों में बच्चों के लिए 10.29 करोड़ से बनाए जा रहे 137 क्लास रूम, सरकारी स्कूलों में एडमिशन बढ़ने से सुविधाएं बढ़ाने की तैयारियां शुरू

लुधियाना6 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

(अमित कुमार) शिक्षा विभाग की ओर से प्राइमरी व अपर प्राइमरी स्मार्ट स्कूलों में बच्चों की एडमिशन बढ़ाने को लेकर भरपूर प्रयास किए गए हैं। जिसके फलस्वरुप प्राइवेट स्कूलों को छोड़ बच्चों ने सरकारी स्कूलों में एडमिशन लिया है। अब स्कूलों में बच्चों की गिनती बढ़ने से क्लासों में बैठाने की भी परेशानी बढ़ गई है।

जिसका हल शिक्षा विभाग ने लॉकडाउन में ही निकाल लिया और नए क्लास रूम बनाने का कार्य भी शुरू कर दिया है। जिसके अंतर्गत लुधियाना जिले में 137 क्लास रूम बनाए जा रहे हैं। जिस पर 10.29 करोड़ रुपए जारी किए जा चुके हैं। पहले पड़ाव में 34 स्कूलों में 84 क्लास रूम के लिए 630.84 लाख और दूसरे पड़ाव में 42 स्कूलों के लिए 53 क्लास रुम के लिए 398.03 लाख रुपए जारी किए जा चुके हैं।

संस्थाएं भी कर रही मदद
स्कूलों में बच्चों की एडमिशन बढ़ने से जगह की कमी न हो इसके लिए विभाग की ओर से अलग-अलग तरीके से फंड जारी किए जा रहे हैं वहीं संस्थाएं भी आगे आकर सहयोग कर रही हैं। संस्थाएं सरकारी स्कूलों में जहां क्लास रूम बनाने में सहयोग कर रही हैं वहीं मैटीरियल जैसे टाइलें, प्रोजेक्टर, बैंच आदि देकर सहयोग दे रही हैं। इस समय जिला लुधियाना में दसवीं के स्टूडेंट्स की संख्या 17849, 12वीं में 16261, प्री-प्राइमरी-1 में 20534, प्री-प्राइमरी-2 में 15161 बच्चे हैं।

अन्य ग्रांट भी जारी: विभाग की ओर से स्कूलों को सुंदर बनाने के लिए भी कार्य किए जा रहे हैं ताकि स्कूल आकर्षक और सुंदर लगें। इसके लिए 210 स्कूलों के लिए 15.50 लाख की बाला ग्रांट, एजुकेशनल पार्क बनाने के लिए 90 स्कूलों को 18 लाख की ग्रांट, क्लासरूम के लिए 1650 प्रोजेक्टर जारी किए गए हैं।

प्रिंसिपल्स बोले- बच्चों को दिया जाएगा नया माहौल
सरकारी प्राइमरी स्मार्ट स्कूल 7-बी के हेड टीचर जीवन सिंह ने बताया कि लॉकडाउन के दौरान 26 प्रतिशत बच्चे बढ़े हैं। पहली से पांचवी तक 559 थे और अब 591 हो गए हैं तथा प्री-प्रामरी के 74 से बढ़कर 112 हो गए हैं। दो कमरे राउंड टेबल संस्था के सहयोग से बनवाए जा रहे हैं। बच्चों के लिए 13 कमरों की व्यवस्था है। दो साल पहले एवन साइकिल के सहयोग से कमरे तैयार करवाए गए थे। जबकि 2016 में सिर्फ 8 कमरे थे और बच्चों की संख्या भी 364 के करीब थी। बच्चों की गिनती बढ़ाने के साथ साथ कमरे बढ़ाए जान भी जरूरी हैं।

सरकारी हाई स्कूल हैबोवाल कलां की प्रिंसिपल मंजना रानी ने बताया कि स्मार्ट स्कूल के अंतर्गत उन्हें कमरे बनाने के लिए ग्रांट आई है। जिसका काम लॉकडाउन में छूट मिलने के बाद सितंबर में शुरू किया गया था। जबकि समग्रा के अंतर्गत 1 कमरा बनाने की ग्रांट आई थी उसका काम तकरीबन खत्म हो गया है और बाला वर्क चल रहा है। 31 मार्च तक उनके पास 6वीं से 10वीं तक 515 बच्चे थे। जोकि लॉकडाउन में बढ़कर 607 हो गए है। बच्चों को बैठने के लिए कमरों की आवश्यकता है इसलिए विभाग ने ग्रांट जारी की है। इसके अलावा अन्य संस्थाएं भी प्रोजेक्टर, बैंच, टाइल आदि की मदद करती है।

सरकारी प्राइमरी स्कूल है बोवाल कलां की हेड टीचर शिवानी सूद ने बताया कि उनके स्कूल में 3 कमरे बनाए जा रहे हैं। इसके लिए ग्रांट जारी की गई है। जैसे जैसे पैसे आ रहे हैं काम हो रहा है। अलग अलग स्कीमों में ग्रांट जारी की गई है। स्कूल शुरु होने से पहले बच्चों के लिए कमरे तैयार करने की योजना है। इस समय स्कूल में बच्चों की संख्या 1200 के करीब पहुंच गई है। जोकि लॉकडाउन से पहले 700 थी।

आज का राशिफल

मेष
Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
मेष|Aries

पॉजिटिव- आप अपने विश्वास तथा कार्य क्षमता द्वारा स्थितियों को और अधिक बेहतर बनाने का प्रयास करेंगे। और सफलता भी हासिल होगी। किसी प्रकार का प्रॉपर्टी संबंधी अगर कोई मामला रुका हुआ है तो आज उस पर अपना ध...

और पढ़ें