• Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Ludhiana
  • Preparations To Deal With The Third Wave Of Ludhiana Corona Health Department, Breathing At The Mercy Of Entrepreneurs, Will Get 10 PSA Plants Of LPM Capacity Of 5415 LPM Installed With A Quarter Of 1

लुधियाना में कोरोना की तीसरी लहर से निपटने की तैयारी:उद्यमियों के रहम पर सांस ले रहा सेहत विभाग,  पौने 10 करोड़ से लगवाएंगे 5415 LPM क्षमता के 10 PSA प्लांट

लुधियाना9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
लुधियाना में कोरोना की तीसरी लहर से लड़ने के लिए बनकर तैयार पीएसए प्लांट। - Dainik Bhaskar
लुधियाना में कोरोना की तीसरी लहर से लड़ने के लिए बनकर तैयार पीएसए प्लांट।

आबादी और क्षेत्रफल के हिसाब से पंजाब के सबसे बड़े जिले लुधियाना में सेहत विभाग कोरोना की तीसरी लहर से निपटने की तैयारियों में जुटा है, मगर उद्यमियों के रहम-ओ-करम से संभव है। असल में सरकार ने इसके लिए फंड मुहैया नहीं करवाया है। सिविल अस्पताल में पीडियाट्रिक इन्सेंटिव केयर यूनिट डीएमसी ने बनवाकर दिया है। मॉर्चुरी पहले पहले ही संवेदना ट्रस्ट की ओर से बनाकर दी गई है। यहां तक कि जब वैक्सीनेशन का काम शुरू हुआ तो कंप्यूटर तक संवेदना ट्रस्ट ने लेकर दिए हैं। अब ऑक्सीजन की कमी पूरी न हो, इसके लिए जिले में 5415 LPM (लीटर पर मिनट) क्षमता के 10 PSA(प्रेशर स्विंग एब्जॉर्बशन) प्लांट लगाए जा रहे हैं। इस पर पौने 10 करोड़ रुपए भी समाजसेवी संस्था खर्च करेंगी।

मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने हाल ही में सिविल अस्पताल लुधियाना में 1000 एलपीएम क्षमता का, मदर एंड चाइल्ड अस्पताल वर्धमान में 500 एलपीएम और रायकोट के सब डिवीजनल अस्पताल रायकोट में 250 एलपीएम समर्थ के पीएसए प्लांट का उद्घाटन किया है। इससे पहले सरकारी अस्पताल में 700 का पीएसए यूनिट चल रहा है। आने वाले समय में ईएसआई अस्पताल में 1000 एलपीएम समर्था का पीएसए यूनिट इसी माह शुरू होने की उमीद है।

सेहत विभाग ग्रामीण क्षेत्रों में भी ऑक्सीजन की किल्लत को पूरा करने में जुटा है। इसके लिए एसडीएच खन्ना में 300 एलपीएम और यूएचसी जवद्दी में 165 एलचीएम का पीएसए यूनिट लगने जा रहा है। इसके अलावा संत बाबा ईशर सिंह मेमोरियल अस्पताल, सीएमसी अस्प्ताल और जीटीबी चेरिटेबल अस्पताल में भी 500-500 समर्था के पीएसए यूनिट लगाए जा रहे हैं।

सरकार नंबर बनाने में लगी है- अहिबाब ग्रेवाल

आम आदमी पार्टी के प्रवक्ता अहिबाबसिंह ग्रेवाल ने कहा कि जिस तरह से प्रदेश के मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह ने बड़े बड़े बोर्ड लगाकर नशा तस्करों की कमर तोड़ने, शिक्षा के स्तर को ऊंचा उठाने, नौकरियां देने जैसे दावे किए हैं, वैसा ही हाल सेहत विभाग का है। कोरोना से लड़ने के लिए सरकार ने सेहत विभाग को ना तो साजो सामान मुहैया करवाया है और न ही स्टाफ मुहैया करवाया गया है और मंत्री और विधायक बड़ी बड़ी बातें कर रहे हैं।

खबरें और भी हैं...