हाई स्टैंडर्ड का असलहा सप्लाई करने वाले गिरोह गिरफ्तार:एफबी पर हथियारों की डालते फोटो, कमेंट करने वालों से करते थे डील, 3 साल से कर रहे सप्लाई; दो पिस्टल बरामद

लुधियानाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
आरोपी कई राज्यों में हथियारों की सप्लाई कर चुके हैं। - Dainik Bhaskar
आरोपी कई राज्यों में हथियारों की सप्लाई कर चुके हैं।
  • 5 अक्टूबर को हथियारों समेत पकड़े गए तीन आरोपियों से निकला लिंक

फेसबुक पर फर्जी अकाउंट बनाकर असलहा की बुकिंग करके सप्लाई करने वाले एक गिरोह के तीन बदमाशों को पुलिस ने गिरफ्तार किया है। तीनों आरोपी कुछ दिन पहले अवैध असलहा सप्लाई करने के मामले में पकड़े गए राजस्थान व जालंधर के आरोपियों के ही साथी हैं। पुलिस ने आरोपियों के पास से 32 बोर के दो पिस्टल और छह कारतूस बरामद किए हैं।

थाना डिवीजन नंबर पांच पुलिस ने नकोदर के गांव चक्क कलां के विपन कुमार उर्फ गिल, गढ़शंकर के गौरव कुमार उर्फ पंडित और फिल्लौर के गांव तलबन के करनपाल सिंह उर्फ करन के खिलाफ मामला दर्ज किया है। पुलिस ने आरोपियों को अदालत में पेश करके जेल भेज दिया है। डीसीपी सिमरपाल सिंह ढींढसा ने बताया कि सीआईए-1 की टीम द्वारा पांच अक्टूबर को असलहा सप्लाई करने वाले एक गिरोह के तीन मेंबरों को गिरफ्तार किया गया था।

जिसमें राजस्थान का अर्जुन, जालंधर के हिंदपाल और बलविंदर थे। आरोपियों से पूछताछ के दौरान पता चला कि उक्त तीनों आरोपी भी उनका असलहा सप्लाई करते थे। जिसके चलते पुलिस ने तीनों को गिरफ्तार कर असलहा बरामद किया।

सोशल मीडिया पर बनाया था फर्जी अकाउंट
जांच अफसर ने बताया कि आरोपियों की ओर से फेसबुक पर कई फर्जी अकाउंट बना रखे थे। उनकी ओर से फेसबुक पर अलग-अलग तरह के असलहों की फोटो डाली जाती थी। कोई भी व्यक्ति असलहा देखकर कमेंट करता तो आरोपी उनसे बातचीत करते थे। जिसके बाद असलहा लेने वाला व्यक्ति उन्हें ऑर्डर देता था।

फिर आरोपी उसे अलग-अलग हथियारों के फोटो भेजकर पसंद करवाते थे। खरीदार के पसंद करने पर आरोपी डील फाइनल कर उसे ऑनलाइन ही स्थान व सप्लाई का समय बताते थे। कई बार अमित खुद ही हथियार खरीदने के लिए मध्य प्रदेश जाता था। ग्राहक की मांग के अनुसार असलहा लाकर बस से लुधियाना वापस आकर उन्हें बेच देता था।

4 पर्चे दर्ज, फिर भी हो आया विदेश
सब इंस्पेक्टर जसपाल सिंह ने बताया कि आरोपी गौरव उर्फ पंडित पर 9 अगस्त 2018 से लेकर 18 अगस्त 2018 तक एसबीएस नगर के थाना ओर, बंगा सिटी और सदर में इरादा कत्ल, आर्म्स एक्ट व झपटमारी समेत कई धाराओं में चार मामले दर्ज हुए थे। पुलिस की ढीली कार्रवाई के चलते आरोपी 2018 में मलेशिया भाग गया था। वहां तीन साल रहने के बाद वह तीन महीने पहले वापस आया था।
असलहा नहीं बरामद कर पाई पुलिस
मलेशिया से वापस आने के बाद गौरव पर सितंबर और अक्टूबर 2021 में थाना बंगा और बाहाराम में नशा तस्करी और झपटमारी का पर्चा दर्ज हुआ था। सात अक्टूबर को नवांशहर पुलिस ने झपटमारी के मामले में गिरफ्तार कर लुधियाना सेंट्रल जेल भेज दिया था। तब से आरोपी जेल में बंद है। उसके बाद से पुलिस को हथियार बरामद नहीं हुआ था।

बिजली मैकेनिक है विपन
जांच अफसर के अनुसार आरोपी पिछले तीन साल से उक्त धंधा कर रहे हैं। इस दौरान उनके द्वारा कई हथियार बेचे जा चुके हैं। आरोपी विपन कुमार बिजली मेकेनिक है। वह 12वीं तक पढ़ा है। उसके खिलाफ पहले भी आर्म्स एक्ट का मामला दर्ज है। आरोपियों की ओर से दिखावे के लिए प्राइवेट नौकरियां की जाती थी। जिस कारण उन पर कोई शक नहीं करता था। पुलिस ने आरोपियों के फेसबुक अकाउंट खंगाल कर उनसे असलहा खरीदने वालों की तलाश की जा रही है।

खबरें और भी हैं...