पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

रेलवे Vs गलाडा विवाद सुलझा:मिसिंग लिंक-2 धूरी लाइन पर रेलवे ने आरओबी का लगाया टेंडर, अगले साल इस पर दौड़ने लगेगा ट्रैफिक

लुधियाना19 दिन पहलेलेखक: दिनेश वर्मा
  • कॉपी लिंक
पेंडिंग फंड को ले आमने-सामने थे रेलवे व सरकार - Dainik Bhaskar
पेंडिंग फंड को ले आमने-सामने थे रेलवे व सरकार
  • राज्य सरकार पर रेलवे के बकाया 84 करोड़ जमा न होने पर रेलवे ने एडजस्ट की थी गलाडा की ओर से आरओबी के लिए जारी की 21.84 करोड़ की राशि

फिरोजपुर रोड से धूरी-मलेरकोटला साइड जाने और आने वाले ट्रैफिक काे अगले साल नहर से होकर नहीं आना पड़ेगा। जबकि मिसिंग लिंक-2 का इस्तेमाल करते हुए बी-7 चौक से लोधी क्लब रोड होते हुए सीधे फिरोजपुर रोड पर आ पाएंगे। क्याेंकि, रेलवे और राज्य सरकार के बीच चल रहा फंडिंग विवाद अब खत्म हो गया है। रेलवे को राज्य सरकार ने विश्वास पत्र जारी किया है और इसी पत्र के आधार पर रेलवे ने 25.36 करोड़ का टेंडर लगाया है। जिसकी टेक्निकल बिड ओपन हो चुकी है।

पहले रेलवे ओवर ब्रिज की लागत 16.52 करोड़ थी, पर देरी के कारण पहुंची 21.83 करोड़ रुपए

इस साल तैयार होने का दावा : रेलवे की तरफ से फाइनेंशियल बिड ओपन होते ही सफल कांट्रेक्टर को काम अलाॅट किया जाएगा। जबकि रेलवे का दावा है कि इसी साल के अंत तक आरओबी तैयार होगा। बता दें कि रेलवे बोर्ड की ओर से आरओबी न बनाए जाने से ये मिसिंग-2 प्रोजेक्ट अधूरा चल रहा है। इस अधूरे प्रोजेक्ट के पीछे कारण ये हैं कि रेलवे और राज्य सरकार में पेंडिंग फंड का विवाद चल रहा था। जब गलाडा ने आरओबी के लिए फंड जारी किया तो रेलवे ने राज्य सरकार पर बकाया फंड में ही आरओबी की पेमेंट एडजस्ट कर लिया था। टेंडर लगाए जाने की पुष्टि गलाडा के एक्सईएन मोहित जिंदल ने की है।

फिरोजपुर रोड से लोधी क्लब रोड होते ट्रैफिक धूरी-मलेरकोटाला रोड पहुंचेगा

मिसिंग लिंक-2 पर आरओबी बनने पर ट्रैफिक को फिरोजपुर रोड से सदर्न बाईपास नहर की बजाय सीधे फिरोजपुर रोड से लोधी क्लब रोड, धांधरा होते हुए धूरी-मलेरकोटला रोड पर आने जाने में आसानी होगी। मिसिंग लिंक-1 कंप्लीट है, जबकि मिसिंग लिंक-2 के लिए गलाडा ने धांधरा से धूरी लाइन तक 1.7 किमी और धूरी लाइन से मलेरकोटला रोड तक करीब 800 मीटर की सड़क का निर्माण तो पूरा कर दिया है, जबकि रेलवे को आरओबी के लिए गलाडा ने 21.84 करोड़ रुपए जारी किए थे। गलाडा की तरफ से करीब 15 करोड़ रुपए खर्च कर आरओबी के लिए अप्रोच रोड बनानी बाकी है।

प्रोजेक्ट पर नजर

साल 2008 में सुखबीर बादल ने फिरोजपुर रोड से सीधे मलेरकोटला रोड पर ट्रैफिक के लिए मिसिंग लिंक-1, 2 और 3 का प्रोजेक्ट प्रपोज किया। इसमें मिसिंग लिंक-1 कंप्लीट है। मिसिंग लिंक-2 की सड़कें कंप्लीट हैं। सिर्फ आरओबी बनना बाकी है। जबकि इस सड़क को सदर्न बाईपास से जोड़ने को मलेरकोटला रोड से लोहारा तक मिसिंग लिंक-3 का निर्माण अभी शुरू होना बाकी है।

प्रोजेक्ट की लागत 5.33 करोड़ तक बढ़ी

पहले आरओबी की लागत 16.52 करोड़ थी। लेकिन, देरी के चलते 21.83 करोड़ पहुंच गई। टेंडर लगने के बाद गलाडा ने ये पैसा रेलवे को ट्रांसफर भी कर दिया, लेकिन, रेलवे ने ये रकम राज्य सरकार पर बैलेंस में एडजस्ट कर दी। गलाडा ने रेलवे को लीगल नोटिस जारी किए थे।

खबरें और भी हैं...