पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

विस चुनाव 2022 के लिए SAD-BSP गठबंधन की तैयारी:लुधियाना शहर की 4 सीटों पर कैंडिडेट फाइनल; अकाली दल में बची 2 सीटों के लिए गुरदीप गोशा और विजय दानव दावेदार, दांव पर दोनों की साख

लुधियाना3 दिन पहलेलेखक: दिलबाग दानिश
  • कॉपी लिंक

शिरोमणि अकाली ने विधानसभा चुनाव 2022 की तैयारियों को लेकर बुलेट ट्रेन दौड़ा रखी है। अब तक 62 उम्मीदवारों का ऐलान किया जा चुका है। लुधियाना जिले की 14 विधानसभा सीटों में से 5 को छोड़ 9 पर उम्मीदवारों का ऐलान कर दिया गया है। इनमें भी शहर की 6 में से 4 सीटों पर उम्मीदवारों का ऐलान हो गया है। बाकी बची 2 में एक सीट बहुजन समाज पार्टी के पास है और उस पर अकाली दल के नेता का दावा है। दूसरी दो सीटों पर शिरोमणि अकाली दल के नेता और यूथ के राष्ट्रीय प्रवक्ता गुरदीप गोशा और विजय दानव की साख दांव पर लगी हुई है। साउथ से गुरदीप गोशा चुनाव लड़ना चाहते हैं और वे इस एरिया में लगन से काम भी कर रहे हैं। नॉर्थ सीट बहुजन समाज पार्टी के पास है, मगर इस पर दावा अकाली नेता विजय दानव का है और वह लंबे समय से यहां पर काम कर रहे हैं।

भाजपा से गठजोड़ टूटने के बाद सिख चेहरा और समाज सेवी प्रीतपाल सिंह को चुनाव लड़ने का मौका मिला है। वह लुधियाना सेंट्रल से चुनाव लड़ रहे हैं, जबकि पहले यह सीट भाजपा के पास थी। पार्टी ने यहां से प्रबल दावेदार काका सूद की टिकट काटी है। वह आम आदमी पार्टी छोड़कर अकाली दल में आए थे। इसके अलावा भारतीय जनता पार्टी की ही सीट लुधियाना वेस्ट से महेशइंद्र सिंह गरेवाल को कैबनिट मंत्री भारत भूषण आशू के खिलाफ उतारा गया है। यह सीट भी भारतीय जनता पार्टी के पास थी और यहां से चुनाव लड़ने वाले कमल चेटली भाजपा छोड़ अकाली दल में शामिल हुए थे और उम्मीद में थे कि टिकट उन्हें मिलेगी। दिलचस्प यह भी है कि लोक इंसाफ पार्टी के अध्यक्ष सिमरजीत सिंह बैंस के खिलाफ हरीश राय ढांडा का उतारा गया है, वकील होने के नाते ढांडा ने बैंस को पहले ही केस में उलझाकर रखा हुआ है। पार्टी ने इस सीट से जिला अध्यक्ष रणजीत सिंह ढिल्लों को चुनावी मैदान में उतार दिया है।

देहात में रायकोट, खन्ना व पायल खाली
लुधियाना जिले की 14 सीटें हैं, जिसमें 6 सीटें शहर की और 8 सीटें देहात की हैं। अब शहर की दो साउथ और नॉर्थ, देहात की रायकोट और पायल व खन्ना पर उम्मीदवारों का ऐलान होना बाकी है। जबकि समराला से परमजीत सिंह ढिल्लों, साहनेवाल से शरणजीत सिंह ढिल्लों, हलका गिल से पूर्व विधायक दर्शन सिंह शिवालिक, दाखा से मनप्रीत सिंह इयाली, जगराओं से एसआर कलेर को मैदान में उतार दिया गया है। पार्टी ने देहात में परमजीत सिंह ढिल्लों को छोड़कर बाकी सभी जगह पुराने चेहरों को ही मौका दिया है।

कोई फायदा नहीं होने वाला, उमीदवारों को मुंह नहीं लगाएंगे लोग
कांग्रेस के जिला अध्यक्ष अश्वनी शर्मा ने शिअद द्वारा इस तरह से टिकटों का ऐलान कर देने पर चुटकी ली गई है। वह कहते हैं कि अभी चुनाव में समय है और अकाली दल ने टिकटें भी बांट दी हैं। इससे कोई फायदा नहीं होने वाला है, क्योंकि पार्टी ने कुछ भी अच्छा नहीं किया है। इस लिए लोग इन्हें मुंह नहीं लगाएंगे।

पार्टी को रणनीति बनाने में समय मिलेगा
शिरोमणि अकाली दल बादल के लुधियाना जिला प्रधान और हलका ईस्ट से उम्मीदवार रणजीत सिंह ढिल्लों कहते हैं कि पार्टी ने टिकटें देने का फैसला बड़ा सोच समझकर लिया है। इससे पार्टी को रणनीति बनाने में समय मिलेगा और मौके पर कोई उलझन नहीं होगी। हमारी पार्टी अपना 18 नुकाती कार्यक्रम लेकर लोगों के बीच जा रही है और इसका फायदा लाजिमी होने वाला है।

खबरें और भी हैं...