पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

चार्जशीट में खुलासा:जेल में बंद सैंटी से तस्कर गुरदीप की 27 बार हुई फोन पर बात, तीनों पुलिसवालों की लोकेशन भी मैच

लुधियानाएक महीने पहलेलेखक: राजदीप सिंह सैणी
  • कॉपी लिंक
  • पूर्व सरपंच गुरदीप के मोबाइल की सीडीआर-टावर लोकेशन से ब्रेक हुआ ड्रग नेटवर्क

लुधियाना में पकड़े गए हाईप्रोफाइल पूर्व सरपंच गुरदीप राणों ड्रग रैकेट को ब्रेक करने में उसकी मोबाइल सीडीआर और टावर लोकेशन सबसे ज्यादा मददगार साबित हुई। गुरदीप की कॉल डिटेल से एसटीएफ सीधे लुधियाना जेल में बंद तस्कर अमरिंदर सिंह सैंटी तक जा पहुंची।

गुरदीप ने जेल में सैंटी से 27 बार बात की थी। जांच में गुरदीप की मोबाइल आईडी एसपी के गनमैन से 39 बार, सिपाही रवि से 648 बार, बर्खास्त सिपाही भजन के साथ 384 बार मैच मिली। जांच में
पता चला कि जेल में सैंटी दो मोबाइल चला रहा था, जिसमें एक विदेशी सिम 0012267808346 व 76879-95356 था। डिटेल से खुलासा हुआ कि गुरदीप की
ओर से आस्ट्रेलिया के तनवीर बेदी के मार्फत पाकिस्तान से मंगवाई जाने वाली हेरोइन सैंटी ने 14 लाख रुपए प्रति किलो के हिसाब से करीब साढ़े 4 करोड़ की हेरोइन लेकर उसे फिरोजपुर के मक्खू के गांव रईया निवासी विजय कुमार व फरीदकोट निवासी टिंकू के जरिए आगे बेचा।

तस्करी के लिए गाड़ियों पर लगे वीआईपी नंबर भी निकले फर्जी
गुरदीप जिन गाड़ियों पर ड्रग तस्करी करता था उन पर लगे हुए वीआईपी नंबर भी एसटीएफ जांच में फर्जी निकले। गुरदीप से बरामद की गई ओडीक्यू-7 कार का असली नंबर डीएल-6सी-जे-9140 था, जिस पर आरोपी ने जाली नंबर पीसीए-8 लगाया हुआ था।

उससे बरामद मर्सडीज का असल नंबर डीएल-12-2527 था, जिस पर आरोपी ने पीआईजी-1 जाली नंबर लगा रखा था। इसी तरह एक अन्य कार पर अमृतसर के एक वकील की मारुति कार का जाली नंबर लगा रखा था। यह वीआईपी नंबर इस लिए थे ताकि उसकी गाड़ियों को कोई चेक न करे।

ड्रग मनी को खपाने के लिए लोगों को उधार देता था लाखों रुपए
गुरदीप ने ड्रग मनी का काफी पैसा अपने जानकारों को उधार दे रखा था। उसकी गिरफ्तारी के बाद जब एसटीएफ ने जांच की तो अबोहर के नेचर हाइट्स के मालिक समेत कई लोगों से लाखों रुपए ड्रग मनी रिकवर की। एसटीएफ इस केस में नामजद कुल 19 लोगों में से 10 को गिरफ्तार कर उनके खिलाफ चालान पेश कर चुकी है। ज्बकि 9 अभी भी फरार हैं। इनमें से एक सिमरण संधू इटली, दूसरा तनवीर बेदी आस्ट्रेलिया में है।

पुलिस बन गुरदीप ने तस्कर बेदी के घर में की थी छापेमारी
बर्खास्त सिपाही और एसपी का गनमैन घूमते थे गुरदीप के साथ

7 फरवरी 2020 को शाम 4 बजे गुरदीप की लोकेशन बटाला एनओसी पाए जाने पर जब एसटीएफ ने पूछताछ की तो उसने बताया, आस्ट्रेलिया में बैठे तस्कर तनवीर बेदी के बटाला स्थित घर में गुरदीप ने अपने साथी पुलिस कर्मियों के साथ मिलकर नकली पुलिस बन रेड की व उसकी दादी कुलदीप कौर को धमकाया था। क्योंकि उसे शक था कि तस्करी में पार्टनर रवेज ढिल्लो ने ड्रग मनी के साढ़े 4 करोड़ रुपए वहां छिपाए हैं।

जब उसे वहां ड्रग मनी नहीं मिली तो उसने रवेज ढिल्लो के ससुराल में भी रेड की और वहां से ड्रग मनी के 4 करोड़ रुपए उठाए। इस दौरान उसकी साथी मनप्रीत कौर उर्फ रीत भी उसके साथ थी। वहीं, गुरदीप की मोबाइल की एक साल की लोकेशन चेक की तो पाया कि खन्ना में तैनात रहे एसपी वरिंदरजीत थिंद के गनमैन मनजीत सिंह के मोबाइल नंबर 78145-54877 की सीडीआर 27 जुलाई 2020 से लेकर 12 सितंबर 2020 तक 39 बार एक साथ मिली।

एसपी का गनमैन पुलिस वर्दी में गुरदीप राणों के साथ घूमता था, जिसका फायदा गुरदीप को मिलता था। सिपाही अमरिंदर के मोबाइल नंबर 82880-72729 की सेल आईडी 648 बार गुरदीप राणो के मोबाइल सेल आईडी के साथ पाई गई। मुक्तसर निवासी बर्खास्त सिपाही भजन सिंह भाऊ के मोबाइल नंबर 76960-54194 की सैल आईडी भी 226 बार व मोबाइल नंबर 78374-10313 की सैल आईडी 158 बार तस्कर गुरदीप के मोबाइल नंबर से मैच हुआ है।

खबरें और भी हैं...