रामचरित कथा के दौरान भगवान की महिमा का किया वर्णन:सिद्धपीठ श्री दंडी स्वामी मंदिर में नवरात्रों के उपलक्ष्य में कराई जा रही कथा

लुधियाना6 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

नवरात्रों के उपलक्ष्य में सिद्धपीठ श्री दंडी स्वामी मंदिर में श्री राम चरित मानस कथा का आयोजन पं. राजकुमार शर्मा की अगुवाई में किया जा रहा है। कथा करने के लिए विशेष तौर से फाजिल्का से परम श्रद्धेय नरेश शर्मा ने मधुर वाणी से श्री राम कथा करने के लिए पधारे। कथा वाचक परम श्रद्धेय नरेश शर्मा ने कथा में भगवान की महिमा का वर्णन किया। उन्होंने कहा कि जीव को हमेशा सोच समझकर बोलना चाहिए।

अगर हम बोलने वक्त नहीं सोचते तो हमें बाद में हमें उसका अहसास होता है। बोलना जरूर चाहिए, लेकिन विचार करके, क्योंकि बोले हुए शब्द वापस नहीं आते। वैसे कम बोलना किसी तरह का नुकसान नहीं है। इसलिए ज्यादा सुनो और कम बोलो। अगर आप सुनने में ज्यादा ध्यान दोगे तो अहंकार खुद दूर होता जाएगा। इसलिए कुछ बोलना है तो भगवान को मन में धारण करके बोलो। इसी तरह पं. राजकुमार शर्मा ने कहा कि यह कथा इसी तरह 20 अप्रैल तक शाम 6 से 8 बजे तक होगी। उन्होंने भक्तों से प्रार्थना की कि वह कथा में पधारे, लेकिन कोविड नियमों का पालन करते हुए। इस मौके पर सोमनाथ बब्बू, दिनेश जिंदल, तीर्थराम, काले खान, प्रवीन गुप्ता, हर्षमोहन, गुलशन नागपाल, सुरिंदर शर्मा, दीपक शर्मा, चेतन खोसला, प्रमोद गुप्ता, मोहित मौदगिल, संगीत गंभीर, रिकी ढींगरा, मनीष वशिष्ट, जीत कपूर, ध्रुव डाबर, ललित डाबर, सतीश वशिष्ट, मोहित कुमार मौजूद रहे।

खबरें और भी हैं...