सुखबीर बादल का अजब गजब प्रचार:नेताओं को मंत्री पद और जिले बांट रहे, विरोधी बोले- काफी जल्दबाजी में नजर आ रहे शिअद अध्यक्ष

लुधियाना7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

पंजाब विधानसभा चुनाव 2022 के लिए शिरोमणि अकाली दल बादल (SAD) के अध्यक्ष जोर-शोर से चुनाव प्रचार में लगे हैं। वह आम लोगों को लुभाने के साथ-साथ अपने नेताओं पर भी डोरे डाल रहे हैं। उनकी तरफ से अपनी चुनावी सभाओं के दौरान नेताओं को मंत्री पद ही नहीं, बल्कि जिले भी बांटे जा रहे हैं। हाल ही में खन्ना में चुनावी सभा के दौरान उनकी तरफ से खन्ना को जिला बनाने का ऐलान भी कर दिया गया है।

वह कई तरह के ऐलान अपनी चुनावी सभाओं में कर रहे हैं। क्योंकि सुखबीर सिंह बादल अपने इस तरह के एलानों से मुख्यमंत्री की कुर्सी हासिल करने की उम्मीद बांधे हुए हैं। जबकि विरोधी इस पर कटाक्ष कर रहे हैं। कहा जा रहा है कि सुखबीर सिंह बादल काफी जल्दबाजी में हैं और बिना सोचे समझे ऐलान कर रहे हैं। अभी तो यह भी तय नहीं है कि उनकी सरकार आनी भी है कि नहीं।

पहले शरणजीत सिंह ढिल्लों और जत्थेदार तोता सिंह को मंत्री पद

सुखबीर सिंह बादल की तरफ से साहनेवाल में चुनावी रैली का आयोजन किया गया था। इस दौरान स्टेज पर बगल में ही खड़े शरणजीत सिंह ढिल्लों की तरफ हाथ खड़ा करके कहा कि आने वाली सरकार में शरणजीत सिंह ढिल्लों को मंत्री बनाया जाएगा। इसके बाद वह चुनावी सभा के लिए मोगा पहुंचे थे। यहां पर उनकी तरफ से जत्थेदार तोता सिंह को कैबिनेट मंत्री बनाने का ऐलान कर दिया गया। अब वह खन्ना पहुंचे तो कहा कि लुधियाना बेहद बड़ा जिला है, इसलिए खन्ना को भी जिला बनाया जाएगा।

कांग्रेसी बटाला को जिला बनवा नहीं पाए

इससे पहले कांग्रेस के कार्यकाल के दौरान उपमुख्यमंत्री सुखजिंदर सिंह रंधावा और तृप्त इंद्र सिंह बाजवा ने मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह के समक्ष बटाला को जिला बनाने की मांग रखी थी, मगर तीन माह बीतने के बाद भी उस पर कोई कार्रवाई नहीं हुई है। सांसद प्रताप सिंह बाजवा भी पत्र लिख चुके हैं, मगर बटाला को जिला नहीं बनाया जा सका है। कैप्टन अमरिंदर सिंह ने मालेरकोटला को जिला जरूर बनाया था। लेकिन अब जिले बनाने की राजनीति किस पार्टी को रास आती है, यह देखने वाली बात होगी।

सुखबीर के ऐलान पर रवनीत बिट्टू का ऐलान

सुखबीर सिंह बादल द्वारा किए जा रहे ऐलानों के पर रवनीत सिंह बिट्टू ने कटाक्ष किया है। वह कहते हैं कि वह बेहद तेजी में हैं। उम्मीदवार ऐलान दिए गए हैं और वह मंत्रिमंडल बनाने में भी लग गए हैं और जिले भी बना रहे हैं, मगर अभी यह पता नहीं कि चुनाव जीत पाएंगे भी या नहीं।

खबरें और भी हैं...