• Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Ludhiana
  • Taught In The Library Of Gurdwara For 37 Years While Working, After Retirement Teaching 80 Students From Many States Including Punjab, Rajasthan Online

समाज सेवा का जज्बा:नौकरी करते 37 साल तक गुरुद्वारे की लाइब्रेरी में पढ़ाया, रिटायरमेंट के बाद पंजाब, राजस्थान समेत कई राज्यों के 80 स्टूडेंट्स को ऑनलाइन पढ़ा रहे

लुधियाना3 महीने पहलेलेखक: मनप्रीत कौर
  • कॉपी लिंक
रिटायर्ड प्रोफेसर प्रिंसिपल आरपी सिंह - Dainik Bhaskar
रिटायर्ड प्रोफेसर प्रिंसिपल आरपी सिंह

जीजीएन खालसा कॉलेज के 69 साल के रिटायर्ड प्रोफेसर प्रिंसिपल आरपी सिंह में समाज सेवा का जज्बा इतना गहरा है कि अपनी 37 साल की जॉब के दौरान जरूरतमंद छात्रों को कॉलेज के पास गुरुद्वारा की लाइब्रेरी में फ्री पढ़ाते रहे। इसके बाद जब 2013 में रिटायरमेंट हो गए तो गवर्नमेंट स्कूलों के 12वीं के बच्चों को गुरुद्वारा साहिब में फ्री क्लास देने लगे। वे खुद केमिस्ट्री पढ़ाते रहे हैं। फिजिक्स, मैथ्स और बायोलॉजी पढ़ाने में दूसरे प्रोफेसर्स भी साथ देते थे। इससे बच्चों को काफी फायदा मिलने लगा।

धीरे-धीरे संख्या बढ़ने लगी, लेकिन कोरोना काल में दो साल पहले क्लासेज बंद करनी पड़ी। इसके बाद पिछले साल उन्होंने ज्यादा से ज्यादा स्टूडेंट्स को साथ जोड़कर फ्री कोचिंग देनी शुरू की। अप्रैल में तरक्की नाम से प्रोजेक्ट शुरू किया। जिसमें ऑनलाइन केमिस्ट्री, फिजिक्स, मैथ्स और बायोलॉजी की क्लासेज देने लगे। इसमें करीब 80 स्टूडेंट्स शामिल हैं, जिसमें पंजाब के अलावा राजस्थान के स्टूडेंट्स कोचिंग ले रहे हैं। पाकिस्तान, यूपी और हरियाणा के स्टूडेंट्स की क्वेरीज भी आती हैं। वहीं, जल्द ही वे प्लस वन के बच्चों के लिए भी फ्री कोचिंग शुरू करेंगे।

पाकिस्तान से भी आ रही क्वेरीज - स्टूडेंट्स पूछ रहे कि हमें भी एजुकेशन मिल सकती है क्या

ट्यूशन हर बच्चा एफॉर्ड नहीं कर सकता है, लेकिन गाइडेंस हर बच्चे के लिए जरूरी : आरपी
आरपी सिंह ने बताया कि ट्यूशन हर बच्चा एफॉर्ड नहीं कर सकता है, लेकिन गाइडेंस हर बच्चे को चाहिए। ऐसे में स्टूडेंट्स को फ्री कोचिंग देकर उनका भविष्य संवारने में सहयोग दे रहे हैं। उन्होंने बताया कि स्टूडेंट्स वे बेझिझक उनको किसी भी सवाल के जवाब के लिए 24*7 कॉल कर सकते हैं। रोजाना डेढ़ घंटे की क्लास होती है। हर सब्जेक्ट की क्लास रोटेशन वाइज चलती है।

स्टूडेंट्स को मोरल वैल्यूज भी सिखाई जाती हैं - आरपी सिंह ने बताया कि इसके साथ ही स्टूडेंट्स को मोरल वैल्यूज भी सिखाई जाती हैं। हमेशा कहा जाता है कि इंस्टीट्यूशनल स्टडीज पर पूरा फोकस रखें। सेल्फ स्टीज करीब 7 से 8 घंटे करें। फ्री समय में अपने शौक को पूरा करें। पूजा पाठ के अलावा मेडिटेशन करें। इससे सफलता अवश्य हासिल होगी।

पूर्व प्रोफेसर बलदेव सिंह कनाडा से लगाते हैं फिजिक्स की क्लास...
आरपी सिंह ने बताया कि वह 48 साल से सिख मिशनरी कॉलेज के मेंबर भी हैं। इंजीनियरिंग कॉलेज के रिटायर्ड प्रिंसिपल सुरिंदर सिंह उनके मोटिवेटर हैं। वह गुरु साहिब की शिक्षाओं पर चलते हुए समाज को अपनी सेवाएं दे रहे हैं। प्रोफेसर बलदेव सिंह, जीएनई कॉलेज में पढ़ाते थे, लेकिन अब कनाडा शिफ्ट हो गए हैं। वहां से फिजिक्स की क्लास लगाते हैं। मैथमैटिक्स की क्लास सुखिंदर सिंह और रविंदर कौर बायोलॉजी की क्लास देते हैं। हर टीचर अपना रोल पूरी ईमानदारी से निभा रहा है। हर कम्युनिटी के स्टूडेंट्स को फ्री क्लासेज बिना भेदभाव के दी जाती है।

खबरें और भी हैं...