पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

महिलाएं सरकारी बसों में कर रही हैं मुफ्त सफर:सरकार ने 2 माह में कराया 47 करोड़ का फ्री सफर भुगतान न होने से महकमे को वेतन-तेल की चिंता

लुधियाना3 महीने पहलेलेखक: अमित कुमार
  • कॉपी लिंक
अप्रैल माह के करीब 29.29 करोड़ और मई के 18 करोड़ से ज्यादा रुपए की अदायगी नहीं की गई है। - Dainik Bhaskar
अप्रैल माह के करीब 29.29 करोड़ और मई के 18 करोड़ से ज्यादा रुपए की अदायगी नहीं की गई है।
  • मुफ्त की मार- परिवहन विभाग को भारी पड़ रही सरकार की योजना, 15 दिन बाद भुगतान का था वादा

पंजाब सरकार की ओर से महिलाओं को दी गई फ्री बस सेवा की सुविधा परिवहन विभाग के लिए भारी पड़ रही है। सरकार ने इस नि:शुल्क सुविधा की अदायगी स्वयं परिवहन विभाग को करने का प्रावधान रखा था, जिसके तहत पंजाब रोडवेज, पनबस व पीआरटीसी को हर 15 दिन बाद संबंधित राशि की अदायगी की जानी थी।

लेकिन हालात यह हैं कि अभी तक अप्रैल माह के करीब 29.29 करोड़ और मई के 18 करोड़ से ज्यादा रुपए की अदायगी नहीं की गई है। इससे संबंधित बिल विभागों की तरफ से सरकार को भेजे जा चुके हैं, लेकिन अभी तक राशि का भुगतान नहीं किया गया है, जबकि जून के 17 दिन भी गुजर चुके हैं। गौरतलब है कि सूबा सरकार ने महिलाओं को 1अप्रैल से बसों में फ्री यात्रा करने की एलान किया था।

डबल भार : कोरोना के कारण आमदनी आधी, उस पर मुफ्त यात्रा का भी बोझ

  • पीआरटीसी यूनियन के अनुसार दूसरी लहर से पहले रोजाना 1.35 करोड़ कमाती थी, जिसमें से करीब 70 लाख रुपए नि:शुल्क सफर के हैं। मगर मौजूदा समय में करीब 45 लाख रुपए आमदन हो रही है, जिसमें से 30 लाख महिलाओं के नि:शुल्क सफर का भार भी है।
  • 18 से 19 करोड़ रुपए मासिक वेतन व पेंशन भत्तों में जाते हैं, जबकि 65 लाख रुपए तेल का खर्च है। ऐसे में सरकार से बकाया भुगतान न होने से इनकी अदायगी करना मुश्किल है।
  • पंजाब रोडवेज में ठेका मुलाजिमों का वेतन ही 7.25 करोड़ व 14 से 15 करोड़ मासिक तेल का खर्च आता है। अन्य खर्चे मिलाकर 30-32 करोड़ बनते हैं लेकिन राशि न मिलने से दिक्कत है।

असर ये- तेल, वेतन और स्पेयर पार्ट्स के भी पड़ रहे हैं लाले

पंजाब रोडवेज व पनबस की रोजाना 1750 बसें, जबकि पीआरटीसी की 1104 बसें पंजाब की सड़कों पर दौड़ती हैं। कोरोना प्रोटोकॉल के कारण पहले से ही आधी सवारियों को बैठाने के नियम से इनकी आय काफी फर्क पड़ा है। ऊपर से महिलाओं के मुफ्त सफर के कारण 50 प्रतिशत से अधिक आमदन में और कटौती हो गई है। इससे तेल का खर्च, स्पेयर पार्ट्स, कांट्रेक्ट बेस पर रखे कर्मचारियों की सेलरी निकालनी भी मुशिकल हो गई है।

एफडी तुड़वाने की आ सकती है नौबत : रोडवेज कमेटी

पंजाब रोडवेज संघर्ष कमेटी के कन्वीनर मांगट खान ने बताया कि अप्रैल-मई के बिल की अदायगी सरकार ने नहीं की। छात्र, दिव्यांग, बुजुर्ग आदि को भी मुफ्त सफर की सुविधाएं विभाग दे रहा है। इसकी अदायगी भी पेंडिंग है। अगर सरकार रोडवेज को बकाया जल्द जारी नहीं करता है तो 2006 में 17 करोड़ की पहली किस्त के साथ शुरू की एफडी को तुड़वाना पड़ सकता है।

डायरेक्टर बोले- नई योजना से दिक्कत, जल्द होगी अदायगी

सरकार ने महिलाओं के मुफ्त सफर की स्कीम दो माह पहले ही शुरू की है। नई स्कीम से समस्या आ रही है। जहां तक अदायगी की बात है तो यह जल्द हो जाएगी। बकाया जारी होने से कैश का फलो आ जाएगा तो सब ठीक हो जाएगा।

-भूपिंदर सिंह, डायरेक्टर, स्टेट ट्रांसपोर्ट

पीआरटीसी यूनियन के कन्वीनर बोले- दो माह से पैसा नहीं जारी किया

  • पीआरटीसी यूनियन के पंजाब कन्वीनर निर्मल सिंह ने बताया अभी तक दो माह का मुफ्त सफर का पैसा सरकार ने जारी नहीं किया है, जबकि सरकार ने 15-15 दिन का पैसा जारी करने के लिए कहा था। अगर पैसे जारी नहीं करती तो गाड़ियां सड़कों पर चलानी भी मुश्किल हो जाएगी।
  • पीआरटीसी के चेयरमैन केके शर्मा ने बताया कि 15 करोड़ का बिल अप्रैल में लगाया था। बिल पास हो चुका है, पैसे आए है या नहीं वह सुबह पता चल पाएगा।
खबरें और भी हैं...