• Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Ludhiana
  • The Investigation Will Continue At Six Locations Of Ayali Even Today, The Officers Kept Scrutinizing The Papers Till Late Night

36 घंटे बाद अयाली के घर IT सर्च पूरी:लुधियाना में अकाली एमएलए का दावा- सारे डॉक्यूमेंट्स हमारे पास, इनकम टैक्स वाले कुछ भी लेकर नहीं गए

लुधियाना7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
IT की कार्रवाई पूरी होने के बाद जानकारी देते मनप्रीत अय्याली। - Dainik Bhaskar
IT की कार्रवाई पूरी होने के बाद जानकारी देते मनप्रीत अय्याली।

पंजाब में लुधियाना की दाखा सीट के अकाली विधायक मनप्रीत सिंह अयाली के ठिकानों पर 37 घंटे से चल रही इनकम टैक्स की जांच बुधवार शाम को पूरी हो गई। अयाली के 6 ठिकानों पर यह जांच मंगलवार सुबह 6 बजे शुरू हुई और बुधवार शाम 7 बजे तक चली। अधिकारियों ने अयाली की पुश्तैनी जमीन और उनके द्वारा डवलप की गई कॉलोनियों व अपार्टमेंट्स से जुड़े दस्तावेज चेक किए।

IT की कार्रवाई पूरी होने के बाद जानकारी देते मनप्रीत अय्याली।
IT की कार्रवाई पूरी होने के बाद जानकारी देते मनप्रीत अय्याली।

बीते दो दिनों से अयाली गांव में अपने पैतृक घर में मौजूद मनप्रीत सिंह इनकम टैक्स अधिकारियों के रवाना होने के बाद सामने आए। उन्हाेंने दावा किया कि सरकारी अधिकारियों को उनके यहां कुछ भी गलत नहीं मिला। इनकम टैक्स की टीम ने उनकी पुश्तैनी जमीन का रिकॉर्ड खंगाला है। इस दौरान कुछ भी सरेंडर नहीं किया गया और अधिकारी उनके यहां से एक भी डॉक्यूमेंट लेकर नहीं गए। पता चला है कि अयाली और उनके भाई से प्रॉपर्टी और जमीन की खरीद-फरोख्त को लेकर सवाल-जवाब किए गए। अयाली के अकाउंटेंट से बिजनेस का हिसाब-किताब लेकर उसकी जांच की गई।

इनकम टैक्स अधिकारियों की रेड के दौरान अयाली गांव स्थित अपने पैतृक घर में चहलकदमी करते दाखां के अकाली विधायक मनप्रीत सिंह अयाली।
इनकम टैक्स अधिकारियों की रेड के दौरान अयाली गांव स्थित अपने पैतृक घर में चहलकदमी करते दाखां के अकाली विधायक मनप्रीत सिंह अयाली।

मनप्रीत सिंह अयाली और उनके परिवार के पास 100 एकड़ से ज्यादा पुश्तैनी जमीन है। उनकी फैमिली लुधियाना सिटी में बड़े स्तर पर रेजिडेंशियल कॉलोनियां डवलप करने के साथ-साथ अपार्टमेंट भी बनाता है। इनकम टैक्स अधिकारियों ने मंगलवार सुबह 6 बजे अयाली के 6 ठिकानों पर दबिश दी। इनमें उनका अयाली गांव स्थित पैतृक घर, राजनीतिक कार्यालय, फार्म हाउस, अपार्टमेंट और उनके द्वारा डवलप की गई रेजिडेंशियल कॉलोनियों के दफ्तर शामिल रहे

इनकम टैक्स के अधिकारी लगभग 37 घंटे तक उनकी पुश्तैनी जमीन और डवलप की गई कॉलोनियों व अपार्टमेंट्स से जुड़े दस्तावेज चेक करते रहे। इनकम टैक्स की इस सर्च में झारखंड, यूपी, दिल्ली और दूसरे राज्यों के तकरीबन 100 अधिकारी और कर्मचारी शामिल रहे। इन अफसरों की अलग-अलग टीमें सीआरपीएफ जवानों के साथ सर्च में जुटी रहीं।

इससे पहले मनप्रीत सिंह अयाली के ओएसडी मुनीष कुमार ने कहा कि इनकम टैक्स के अधिकारियों ने घर के अंदर दवा तक नहीं जाने दी। घर में पड़ा खेती से जुड़ा सामान भी नहीं निकालने दिया।

इनकम टैक्स अधिकारियों की जांच के दौरान अयाली गांव स्थित अपने घर में मौजूद अकाली विधायक मनप्रीत सिंह और उनके भाई अकिंदर सिंह।
इनकम टैक्स अधिकारियों की जांच के दौरान अयाली गांव स्थित अपने घर में मौजूद अकाली विधायक मनप्रीत सिंह और उनके भाई अकिंदर सिंह।

'सन व्यू' के 6 दफ्तरों पर भी रेड
अयाली के अलावा इनकम टैक्स की टीमों ने लुधियाना की प्रमुख रेजिडेंशियल कॉलोनी 'सन व्यू' के 6 दफ्तरों में भी जांच की। लुधियाना की सबसे पॉश कॉलोनी कही जाने वाली 'सन-व्यू' में लग्जरी विला, बंगले और अपार्टमेंट्स हैं। इसका मुख्य दफ्तर फिरोजपुर रोड पर अयाली कलां गांव में है और इसके मालिक का नाम जगजीत सिंह ग्रेवाल बताया जा रहा है।

खेती कानूनों के खिलाफ आवाज उठाने पर छापा : सुखबीर
मनप्रीत अयाली, अकाली दल के प्रधान और पंजाब के पूर्व डिप्टी सीएम सुखबीर बादल के नजदीकी हैं। सुखबीर कह चुके हैं कि केंद्र सरकार के खेती कानूनों के खिलाफ आवाज उठाने की वजह से ही अयाली के घर इनकम टैक्स की रेड हुई है। अयाली के ओएसडी मुनीश कुमार का भी कहना है कि अकाली विधायक खेती कानूनों के खिलाफ आंदोलन कर रहे किसानों का समर्थन कर रहे हैं इसलिए उन पर यह कार्रवाई हुई है।

दूसरी बार विधायक बने, 2017 में फूलका से हारे

मनप्रीत अयाली दाखां विधानसभा हलके के गांवों में बड़े स्तर पर खेल मैदान बनाने के साथ-साथ स्पोर्ट्स को प्रमोट करने की वजह से चर्चा में रहे हैं। वह 2012 के पंजाब विधानसभा के चुनाव में पहली बार शिरोमणि अकाली दल के टिकट पर लुधियाना जिले की दाखां विधानसभा सीट से विधायक चुने गए। अकाली दल ने 2017 में भी दाखां से उन्हें टिकट दिया मगर वह आम आदमी पार्टी के एचएस फूलका के सामने हार गए। फूलका के विधानसभा सदस्यता से इस्तीफा दे देने के बाद उपचुनाव में अयाली कांग्रेसी उम्मीदवार कैप्टन संदीप संधू को हराकर दूसरी बार विधायक बने। अयाली 2014 में अकाली दल के टिकट पर लुधियाना लोकसभा सीट से भी चुनाव लड़ चुके हैं। तब वह कांग्रेसी नेता रवनीत सिंह बिट्टू के सामने हार गए थे।

खबरें और भी हैं...