पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Ludhiana
  • The Provincial Leadership Expelled The Former District Head Katna For 6 Years, Katna Said I Had Left The Party Only One And A Half Months Ago

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

BJP Vs BJP:प्रांतीय नेतृत्व ने पूर्व जिला प्रधान कतना को 6 साल के लिए किया निष्कासित, कतना बोले- मैं तो डेढ़ महीने पहले ही छोड़ चुका पार्टी

लुधियानाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
अश्वनी शर्मा। - Dainik Bhaskar
अश्वनी शर्मा।
  • पार्टी विरोधी गतिविधियों के कारण लिए गए फैसले को लेकर जिला और प्रांतीय नेतृत्व आमने-सामने

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष अश्वनी शर्मा ने मंगलवार को पूर्व जिला प्रधान राजीव कतना को 6 साल के लिए भाजपा से निष्कासित कर दिया। वहीं, कतना ने दावा किया कि वह लगभग डेढ़ माह पहले ही 16 फरवरी को पार्टी से इस्तीफा दे चुके हैं। अब लोक सेवा में काम में लगे हैं। बता दें कि अकाली-भाजपा गठबंधन अलग होने के बाद जिला स्तर पर भारतीय जनता पार्टी में यह सबसे बड़ा संगठनात्मक विवाद सामने आया है।

इसे लेकर पार्टी वर्करों के बीच चर्चा जोरों से जारी हैं। इससे पहले भी जिला भाजपा ने प्रदेश प्रधान के आदेश पर सुभानी बिल्डिंग मंडल प्रधान हरविंदर जौली को भी पार्टी विरोधी गतिविधियों के चलते 6 साल के लिए निष्कासित किया गया है। सूत्रों के मुताबिक पार्टी नेतृत्व से असंतुष्ट पूर्व जिला प्रधान राजीव कतना ने रोष जताते हुए त्याग-पत्र लगभग डेढ़ महीने पहले सौंपा था।

केंद्र की जनविरोधी नीतियों के खिलाफ उठाई थी आवाज : कतना
भाजपा प्रदेश अध्यक्ष ने उनके निष्कासित करने का ऐलान किया तो प्रतिक्रिया के तौर पर राजीव कतना ने खुलासा किया कि वह डेढ़ महीने पहले ही पार्टी छोड़ चुके हैं। उन्होंने सवाल उठाया कि आज निष्कासन की घोषणा किस आधार पर की जा रही है, जबकि उन्होंने पार्टी की घोषणा पर व्यंग कसते हुए कहा कि यह भाजपा संगठन की बौखलाहट को दर्शाता है। उधर, दूसरी तरफ पार्टी के प्रदेशाध्यक्ष की तरफ से जारी आधिकारिक घोषणा की बात करें तो मीडिया को जारी किए बयान में बताया कि पूर्व जिला प्रधान राजीव कतना को पार्टी विरोधी गतिविधियों के कारण 6 साल के लिए संगठन से निष्कासित कर दिया है।

राजीव कतना ने गंभीर आरोप लगाते हुए पलटवार किया कि उनके स्तर से केंद्र सरकार की जनविरोधी नीतियों के खिलाफ आवाज उठाई गई थी, पेट्रोल-डीजल, रसोई गैस जैसे जनहित के मुद्दों पर आवाज उठाने के बाद पार्टी नेतृत्व में इन मामलों पर विचार करने की बजाय उनकी आवाज को दबा दिया, जबकि जनहित के मुद्दों पर नहीं बोल रहे हैं। उन्होंने बताया कि लोकसेवा कार्य के चलते पार्टी वर्कर उनके साथ थे, वह दो बार पार्षद भी बने और आज भी लोकसेवा में लगे हैं। उनका यह भी कहना है कि पार्टी वर्कर खुश नहीं है। जबकि प्रदेश अध्यक्ष गांवों में जाने की बजाय शहर में बैठकर गलत फीडबैक ऊपर भेज रहे हैं।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज दिन भर व्यस्तता बनी रहेगी। पिछले कुछ समय से आप जिस कार्य को लेकर प्रयासरत थे, उससे संबंधित लाभ प्राप्त होगा। फाइनेंस से संबंधित लिए गए महत्वपूर्ण निर्णय के सकारात्मक परिणाम सामने आएंगे। न...

    और पढ़ें