सिंघु बॉर्डर पर हुई हत्या से SKM ने पल्ला झाड़ा:कहा- धार्मिक ग्रंथ की बेअदबी के खिलाफ लेकिन अपराध पर किसी को कानून अपने हाथ में लेने का अधिकार नहीं

लुधियाना2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक

श्री गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी के आरोप में निहंग सिंहों द्वारा की गई हत्या के बाद संयुक्त किसान मोर्चा ने पूरे प्रकरण से पल्ला झाड़ लिया है। संयुक्त किसान मोर्चा की वर्चुअल मीटिंग के बाद इस प्रकरण पर बयान जारी किया गया है। SKM ने अपने बयान में कहा है कि सुबह हुई हत्या की जिम्मेदारी एक निहंग सिंह ग्रुप ने ली है।

संयुक्त मोर्चा ने कहा है कि तनतारन निवासी लखबीर सिंह की हत्या पर हमें दुख है। मृतक कुछ समय से हत्या की जिम्मेदारी लेने वाले निहंग ग्रुप के साथ रह रहा था। मोर्चा सदस्यों ने कहा कि हम किसी भी धार्मिक ग्रंथ की बेअदबी के भी खिलाफ हैं। मगर अपराध पर किसी व्यक्ति विशेष या समूह को कानून अपने हाथ में लेने का भी अधिकार नहीं है। इसलिए संयुक्त किसान मोर्चा के नेता मांग करते हैं कि बेअदबी और हत्या दोनों ही मामलों की निष्पक्ष जांच होनी चाहिए।

सिंघु बॉर्डर पर निहंगों ने की युवक की हत्या:पहले हाथ काटा, गर्दन पर वार किया फिर तरनतारन के युवक का शव किसान आंदोलन के मंच के सामने लटका दिया

सिंघु बॉर्डर पर हालात काफी तनावपूर्ण बने हुए हैं। संयुक्त किसान मोर्चा की स्टेज के पीछे पर निहंग सिंहों के तंबू लगे हुए हैं। इसके आसपास पुलिस तैनात है। पुलिस का खुफिया विंग घटना से जुड़े सभी वीडियो को जुटाने में लगा है, ताकि कोई सबूत हाथ लग सके।

किसान मोर्चा के स्टेज के समक्ष बैठे किसान।
किसान मोर्चा के स्टेज के समक्ष बैठे किसान।

किसान मोर्चा के स्टेज पर रोजाना की तरह नेता दे रहे भाषण
वर्चुअल मीटिंग से पहले रोजाना की तरह सिंघु बार्डर पर लगने वाली किसानों की स्टेज शुरू हुई। मंच से किसान नेता अपने भाषण देते रहे। कुछ किसान नेताओं ने इस पूरे घटनाक्रम की निंदा भी की है। इसी स्टेज से कुछ ही दूरी पर युवक का शव लटकाया गया था। यह स्टेज पिछले 10 माह से इसी तरह चलती रही है और आज भी चल रही है।

भास्कर एक्सक्लूसिव:युवक की हत्या पर निहंगों का कबूलनामा, आरोपियों ने कहा- पापी ने गुरु ग्रंथ साहिब की बेअदबी की थी

4 घंटे लटकता रहा शव, नीचे तक नहीं उतारने दिया

प्रत्यक्षदर्शियों के अनुसार युवक का शव सुबह पांच बजे के लगभग संयुक्त किसान मोर्चा की स्टेज के पास ही बैरिकेड से लटका दिया गया। सूचना पाकर पुलिस भी मौके पर पहुंची लेकिन सुबह 9 बजे तक शव को नीचे उतारने नहीं दिया गया। एक मीडिया कर्मी ने जब मोबाइल से फोटो भी खींचने का प्रयास किया तो उसका मोबाइल भी बंद करवा दिया गया। किसान संगठनों की अपील के बाद शव को नीचे उतारा जा सका।

सिंघु बॉर्डर पर हत्या:मरने वाला युवक नशे का आदी था, पत्नी 5 साल पहले 3 बेटियों को लेकर मायके चली गई थी

पहले भी कई बार तकरार कर चुके हैं निहंग सिंह

निहंग सिंह सिंघु बॉर्डर पर करीब 10 माह से तंबू लगाकर डेरा डाले हुए हैं। इनकी तकरार अकसर ही आसपास रहने वालों और संघर्ष में आए किसानों से होती रहती है। यहां तक कि वह कई बार स्टेज पर नंगी तलवारें लेकर भी आ चुके हैं। यही कारण है कि संयुक्त किसान मोर्चा भी इनसे काफी परेशान था। मोर्चा के सीनियर नेता का कहना है कि वह खुद इससे परेशान हैं।

खबरें और भी हैं...