लुधियाना-फिरोजपुर रेल लाइन की निकाली चाबियां:गेटमैन ने पायलट को सूचना देकर यात्रियों से भरी ट्रेन रुकवाई, बड़ा हादसा बचा

लुधियाना9 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
ट्रैक पर खड़ी बठिंडा-फिरोजपुर ट्रेन - Dainik Bhaskar
ट्रैक पर खड़ी बठिंडा-फिरोजपुर ट्रेन

पंजाब के लुधियाना रेलवे स्टेशन से चंद किलोमीटर दूरी पर मॉडल टाउन सिधवा नहर के पास कुछ अज्ञात लोगों ने रेलवे ट्रैक की चाबियां दिनदहाड़े निकाल लीं। ट्रैक के पास स्थित नगर निगम तहबाजारी के कर्मचारियों ने लोगों को ट्रैक से चाबियां खोल कर बोरे में भरते देखा। उन्होंने लोगों को पकड़ने के लिए काफी शोर मचाया, लेकिन तब तक वह फरार हो गए।

लुधियाना स्टेशन से आए कर्मचारियों ने रेल लाइन की चाबियां लगाईं।
लुधियाना स्टेशन से आए कर्मचारियों ने रेल लाइन की चाबियां लगाईं।

इसके बाद कर्मचारियों ने रेलवे ट्रैक की चाबियां चोरी होने की सूचना तुरंत गेटमैन को दी। सूचना मिलते ही गेटमैन प्रताप कुमार ने लुधियाना रेलवे स्टेशन की ओर से आ रही ट्रेन बठिंडा-फिरोजपुर 04463 के लोको पायलट अरविंद कुमार को सूचित किया और ट्रेन को रुकवाया।

बठिंडा-फिरोजपुर ट्रेन रुकी आधा घंटा

गेटमैन प्रताप ने बताया ट्रेन को करीब 6 बजे रोक दिया गया। इसके बाद तुरंत लुधियाना रेलवे स्टेशन के उच्च अधिकारियों को घटना की जानकारी दी गई। कुछ ही देर में लुधियाना स्टेशन से रेलवे कर्मचारी पहुंचे, जिन्होंने रेलवे ट्रैक को सुरक्षित करते हुए दोबारा से चाबियां ट्रैक पर लगाईं। यहां बता दें कि आरोपी रेलवे ट्रैक की चाबियों से भरा हुआ बोरा वहीं छोड़कर फरार हो गए थे। चाबियां निकालने जाने कारण ट्रेन करीब आधा घंटा रुकी रही।

मौक पर लोगों की भीड़ जमा हो गई।
मौक पर लोगों की भीड़ जमा हो गई।

कभी गश्त करने नहीं आते आरपीएफ कर्मचारी

इलाके के लोगों के मुताबिक, यह रेल ट्रैक बिल्कुल असुरक्षित है। इस ट्रैक पर अक्सर नशेड़ी व्यक्ति बैठे रहते हैं। कभी आरपीएफ के कर्मचारी इस ट्रैक पर गश्त करने नहीं आते। आरपीएफ ने यह रेल ट्रैक लावारिस छोड़ रखा है। हादसे से करीब 1 घंटे बाद आरपीएफ के दो सब इंस्पेक्टर मौका देखने आए, लेकिन तब तक ट्रेन भी जा चुकी थी और आरोपी भी फरार हो चुके थे। हादसे से 1 घंटे देरी से आना आरपीएफ अधिकारियों की गंभीरता को दर्शाता है कि वह ट्रेनों की सुरक्षा के मामले में कितने गंभीर हैं।