प्रदर्शन:पक्का करने की मांग को लेकर, सीएस दफ्तर के बाहर मुलाजिमों ने दिया धरना

लुधियाना2 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • नेशनल हेल्थ मिशन के तहत काम कर रहे कर्मचारियों ने किया प्रदर्शन

नेशनल हेल्थ मिशन के तहत काम कर रहे सेहत मुलाजिमों ने बुधवार को सिविल सर्जन दफ्तर में मुलाजिमों को रेगुलर करने की मांग को लेकर धरना लगाया। मुलाजिमों ने कहा कि सूबेभर में 12 हजार कर्मी पिछले 12-15 सालों से बेहद कम सैलरी पर काम कर रहे हैं। यानी सूबे का सेहत महकमा मुलाजिम ही संभाल रहे हैं, लेकिन सरकार ने मुलाजिमों की समस्या को नहीं समझा। एनएचएम के तहत कर्मियों को पारदर्शी तरीके से हर योग्यता पार करने के बाद रखा गया, लेकिन रेगुलर नहीं किया जा रहा। कर्मचारियों ने रेगुलर करने की मांग को लेकर पिछले 15 दिन से राज्यभर में रोष प्रदर्शन किया। यहां तक कि ब्लॉक लेवल और कम्युनिटी हेल्थ सेंटर पर भी धरने लगाए जा रहे हैं, लेकिन सरकार ने जायज मांगों को भी नहीं माना। जबकि नजदीकी राज्यों में एनएचएम के तहत काम कर रहे मुलाजिमों को कब से पक्का किया जा चुका है।

हरियाणा सरकार राष्ट्रीय सेहत मिशन के बाइलॉज बना कर उन्हें रेगुलर मुलाजिमों की तर्ज पर पूरी तनख्वाह दे रही है। पंजाब में भी कच्चे मुलाजिमों को रेगुलर करने के लिए द पंजाब प्रोटेक्शन और रेगुलराइजेशन अॉफ कांट्रेक्चुअल इंप्लाइज बिल 2021 बनाया गया है, लेकिन इसमें एनएचएम मुलाजिमों को शामिल नहीं किया गया है। अगर सरकार की तरफ से कच्चे मुलाजिमों को पक्का करने के लिए काम नहीं किया गया तो संघर्ष तेज किया जाएगा। इस धरने में एनएचएम के कम्युनिटी हेल्थ अफसर, आरबीएसके के डॉक्टर-मुलाजिम, स्टाफ नर्स, बीएमए आरएनटीसीपी, एआरटीसी, टीबी विभाग, लेप्रोसी कंट्रोल स्टाफ, आउटसोर्स कर्मचारी और क्लेरिकल स्टाफ भी मौजूद रहा।

खबरें और भी हैं...