महंगाई से परेशान उद्यमियों ने बेची चाय:लुधियाना में साइकिल इंडस्ट्री से जुड़े व्यापारियों का प्रदर्शन, चाय के पैसे भेजे प्रधानमंत्री रिलीफ फंड में

लुधियानाएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
महंगाई के खिलाफ रोष  स्वरूप लुधियाना में चाय बेचते व्यापारी। - Dainik Bhaskar
महंगाई के खिलाफ रोष स्वरूप लुधियाना में चाय बेचते व्यापारी।

बढ़ती महंगाई के खिलाफ 10 दिनों से विरोध जता रहे लुधियाना के कारोबारियों ने गुरुवार को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के खिलाफ अनोखा प्रदर्शन किया। व्यापारियों ने यूनाइटिड साइकिल एंड पार्ट्स मैन्युफैक्चर्स एसोसिएशन (UCPMA) के तहत चाय की स्टॉल लगाई और चाय बेचकर उससे हुई कमाई का ड्राफ्ट बनवाकर प्रधानमंत्री रिलीफ फंड में भेज दिया।

यूनाइटिड साइकिल एंड पार्ट्स मैन्युफैक्चर्स एसोसिएशन (UCPMA) के कार्यालय के बाहर चाय की स्टॉल लगाने वाले व्यापारियों ने कहा कि मोदी चाय बेचकर प्रधानमंत्री बने और महज 7 बरसों में देश की हालत ऐसी कर दी कि आज व्यापारी तक चाय बेचने को मजबूर हो गए हैं। व्यापारियों ने स्टॉल पर बनाई चाय को ‘अडानी चाय’ और ‘अंबानी चाय’ के नाम से बेचा और इसका रेट प्रतिकप पांच सौ रुपए रखा। तीन घंटे चले प्रदर्शन के दौरान तीन लोगों ने ही चाय का कप खरीदा। ये तीन कप चाय बेचने से मिले 1500 रुपए का ड्राफ्ट बनाकर प्रधानमंत्री रिलीफ फंड में भेज दिया गया।

यूनाइटिड साइकिल एंड पार्ट्स मैन्युफैक्चर्स एसोसिएशन के महासचिव मनजिंदर सिंह सचदेवा ने कहा कि स्टील के साथ-साथ साइकिल इंडस्ट्री के सारे कच्चे माल के दाम लगातार बढ़ रहे हैं। इसे रोकने और केंद्र सरकार को जगाने के लिए लुधियाना के साइकिल कारोबारी 10 दिन से प्रदर्शन कर रहे हैं और यह आगे भी जारी रहेगा।

मोदी-शाह की आरती के साथ भीख मांग चुके व्यापारी
बढ़ती महंगाई के खिलाफ UCPMA कार्यालय के सामने व्यापारी दस दिन से प्रदर्शन कर रहे हैं। व्यापारियों का कहना है कि जब तक स्टील रेग्युलेटरी अथॉरिटी का निर्माण नहीं किया जाता, तब तक उनका प्रदर्शन जारी रहेगा।

खबरें और भी हैं...