चन्नी सरकार की कारगुजारी पर उठे सवाल:रिपोर्ट कार्ड पेश करके विरोधियों के निशाने पर परिवहन मंत्री राजा वड़िंग, शिअद और आप ने घेरा

लुधियाना3 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
पत्रकारवार्ता के दौरान जानकारी देते हुए परिवहन मंत्री अमरिंदर सिंह राजा वड़िंग। - Dainik Bhaskar
पत्रकारवार्ता के दौरान जानकारी देते हुए परिवहन मंत्री अमरिंदर सिंह राजा वड़िंग।

अपने 21 दिन के कार्यकाल का रिपोर्ट कार्ड पेश करने के बाद परिवहन मंत्री राजा वड़िंग विरोधियों के निशाने पर हैं। राजा वड़िंग ने दावा किया है कि परिवहन विभाग ने अपनी आय में 17.24 प्रतिशत वृद्धि के साथ फिर से रफ़्तार पकड़ी है। यह वृद्धि 15 अक्तूबर तक 7.98 करोड़ रुपए बनती है। विभाग की रोजाना आय में करीब 53 लाख रुपए की वृद्धि हुई है। 15 सितम्बर से 30 सितम्बर तक विभाग को 46.28 करोड़ रुपए की आय हुई, जबकि 1 अक्तूबर से 15 अक्तूबर तक 54.26 करोड़ रुपए रोजाना की आय दर्ज की गई।

टैक्स डिफॉल्टरों और गैर-कानूनी परमिट धारकों के विरुद्ध कार्रवाई को जायज करार देते हुए डिफॉल्टरों के विरुद्ध सख़्ती के बाद विभाग ने लम्बित सरकारी टैक्स की 3.29 करोड़ रुपए की रकम वसूल की है और इसमें बड़ी रकम बड़ी कंपनियों/ऑपरेटरों द्वारा जमा करवाई गई है। राजा वड़िंग ने विशेष तौर पर कहा कि विरोधी पार्टियों के किसी भी नेता ने यह दावा नहीं किया कि हमने टैक्स डिफॉल्टरों के विरुद्ध सख्ती करके कुछ गलत किया है। विभाग ने आरटीए के साथ-साथ बस डिपुओं के जनरल मैनेजरों को भी और ज्यादा शक्तियां देते हुए उनको बस स्टैंड के आसपास के 500 मीटर के घेरे में वाहनों की जांच करने के अधिकार दिए हैं।

दलजीत सिंह चीमा जानकारी देते हुए
दलजीत सिंह चीमा जानकारी देते हुए

ट्रांसपोर्ट माफिया बादलों की देन

अमरिंदर सिंह राजा वड़िंग का कहना है कि यह ट्रांसपोर्ट माफिया बादल सरकार की देन है। वह कहते हैं कि अगर आज सरकारी बसों को रोजाना 53 लाख रुपए का फायदा हुआ है तो अगर 15 साल पहले इसी तरह काम होता तो सरकारी विभाग को 27 हजार करोड़ का फायदा होना था। वह कहते हैं कि उनका विभाग उन सभी लोगों के खिलाफ कार्रवाई करने जा रहा है, जिनके कारण यह माली नुकसान हुआ है। उनसे पूछा गया कि क्या उनकी साढ़े 4 साल की सरकार के अधिकारियों और मंत्रियों पर भी कार्रवाई होगी तो उन्होंने कहा कि हां सभी पर।

अकाली नेता चीमा ने पूछा- साढ़े 4 साल का हिसाब कौन देगा

शिरोमणि अकाली दल बादल के नेता दलजीत सिंह चीमा का कहना है कि अमरिंदर सिंह राजा वड़िंग बड़े-बड़े दावे कर रहे हैं और कह रहे हैं कि उनके 21 दिन के कार्यकाल के दौरान बेहतर काम हुए हैं। फिर पिछले साढ़े 4 साल के दौरान क्या काम हुआ है, इसका हिसाब कौन देगा। जो नुकसान उस समय के दौरान सरकारी परिवहन विभागों का हुआ है, उसका हिसाब भी तो होना चाहिए न। इस पर अमरिंदर सिंह राजा वड़िंग को जरूर जवाब देना चाहिए। क्या उनकी सरकार के परिवहन मंत्री और दूसरे अधिकारियों ने काम नहीं किया है।

आप नेता दिनेश चढ्ढा सवाल उठाते हुए
आप नेता दिनेश चढ्ढा सवाल उठाते हुए

आप नेता ने पूछा- अवैध परमिटों से लूटने वालों पर कार्रवाई क्यों नही

आम आदमी पार्टी के नेता एडवोकेट दिनेश चढ्ढा ने भी अमरिंदर सिंह राजा वड़िंग को घेरा है। उनका कहना है कि परिवहन मंत्री के दावे खोखले और बस आंकड़ों में ही हैं। जबकि किया तो अमरिंदर सिंह राजा वड़िंग ने भी कुछ नहीं है। उन्होंने सवाल किया कि क्या अकाली और कांग्रेसी नेताओं की ओर से चलाए जा रहे हजारों अवैध रुटों पर हुई लूट का हिसाब वह ले चुके हैं। क्यों इन पर मामले दर्ज नहीं करवाए गए हैं। दिनेश चढ्ढा ने तो यहां तक कहा कि कांग्रेस के समय ही परिवहन मंत्री रही रजिया सुलताना और अरुणा चौधरी को तुरंत मंत्री मंडल से बाहर निकाल देना चाहिए, जिनके मंत्री रहते हुए वह इस तरह के काम करने में नाकामयाब रहे।

खबरें और भी हैं...