पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

Install App
  • Hindi News
  • Local
  • Punjab
  • Ludhiana
  • Used To Make Fake Letter Head id Card Of BSNL From Delhi, Then Used To Steal Wires With Uniforms And Bolero, 8 Controlled

Ads से है परेशान? बिना Ads खबरों के लिए इनस्टॉल करें दैनिक भास्कर ऐप

2 करोड़ की तार चुराने वाला गिरोह:दिल्ली से बनवाते थे BSNL के फर्जी लेटर हेड-आईडी कार्ड, फिर यूनीफॉर्म और बोलेरो लेकर चुराते थे तारें, 8 काबू

लुधियाना11 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
सवा 2 करोड़ की तारें चोरी कर तांबा दिल्ली के कबाड़ी को बेचने वाले गिरोह के 8 आरोपियों को सीआईए-1 टीम ने गिरफ्तार कर लिया। - Dainik Bhaskar
सवा 2 करोड़ की तारें चोरी कर तांबा दिल्ली के कबाड़ी को बेचने वाले गिरोह के 8 आरोपियों को सीआईए-1 टीम ने गिरफ्तार कर लिया।
  • लुधियाना, अमृतसर, जालंधर में 9 पर्चे, चोरी कर चुके सवा 2 करोड़ की तारें

बीएसएनएल मुलाजिम बन फर्जी आईकार्ड और लेटर हेड लेकर सवा 2 करोड़ की तारें चोरी कर तांबा दिल्ली के कबाड़ी को बेचने वाले गिरोह के 8 आरोपियों को सीआईए-1 टीम ने गिरफ्तार कर लिया। आरोपियों की पहचान मोहम्मद अनवर, मोहम्मद इस्तखार, नदीम मोहम्मद, मोहम्मद हनान उर्फ अन्ना, मोहम्मद खालिद, पप्पू, अजीत वर्मन और रोहित के रूप में हुई है।

जबकि मुख्यारोपी संजीत वरमन, कबाड़ी इकबाल और गजिंदर महातो फरार होने में कामयाब हो गए। पकड़े आरोपियों के कब्जे से महिंदरा पिकअप, बीएसएनएल की जाली मंजूरी, 7 जैकेट-हेल्मेट, खुदाई करने वाले औजार और 65 किलो टेलीफोन वाॅयर बरामद हुई है। इस बारे में सीपी राकेश अग्रवाल, डीसीपी सिमरतपाल सिंह ढींडसा और एडीसीपी क्राइम रूपिंदर कौर भट्टी ने प्रेस कॉन्फ्रेंस की।

पुलिस के मुताबिक पिछले एक साल से लुधियाना के माल रोड, फोकल पॉइंट, साहनेवाल, मॉडल टाउन इलाकों में बीएसएनएल की तारें चोरी हो रही थी। इसके बाद पुलिस ने सिविल कपड़ों में मुलाजिम लगाए, जिन्हें आरोपियों की गाड़ी का सुराग मिला। फिर शहर के 27 सीसीटीवी कैमरों की फुटेज को एक-दूसरे के साथ लिंक कर आरोपियों के बारे में पता किया।

उन्हें सीआईए टीम ने ट्रैप लगाकर आरोपियों को गिरफ्तार कर लिया। आरोपियों ने बताया कि दूसरी कंपनियां इन दिनों जो तारें इस्तेमाल कर रहीं है, उसमें सिवाय प्लास्टिक के कुछ नहीं होता। लेकिन बीएसएनल की मोटी तारों में तांबा होता है। इसकी वजह से उक्त तार उनके लिए फायदेमंद थी और वो सिर्फ यही चुराते थे।

बोलेरो के पीछे तार बांधकर जमीन से निकालकर ले जाते

आरोपियों का सरगना संजीत है, जोकि फर्जी अथॉरिटी लेटर, आईकार्ड तैयार करता था। इसके बाद साथियों को पंजाब भेजता था, ताकि अगर कोई पुलिस मुलाजिम पूछे तो उसे लेटर दिखा सकें। आरोपी लुधियाना आकर पहले पहचान करते कि कहां तार है। दिन में रेकी के बाद रात को पूरी टीम मौके पर पहुंचती और फिर जमीन को थोड़ा खोदने के बाद तार निकाल बोलेरो के पीछे बने एंगल में बांधकर सारी तार खींच लेते थे। फिर तार लेकर दिल्ली जाते थे।

खबरें और भी हैं...

    आज का राशिफल

    मेष
    Rashi - मेष|Aries - Dainik Bhaskar
    मेष|Aries

    पॉजिटिव- आज मार्केटिंग अथवा मीडिया से संबंधित कोई महत्वपूर्ण जानकारी मिल सकती है, जो आपकी आर्थिक स्थिति के लिए बहुत उपयोगी साबित होगी। किसी भी फोन कॉल को नजरअंदाज ना करें। आपके अधिकतर काम सहज और आरामद...

    और पढ़ें