ट्रांसपोर्टेशन टेंडर घोटाले में विजिलेंस कार्रवाई:कांग्रेसी पार्षद का पति, नगर परिषद अध्यक्ष का भाई और दो अन्य आढ़ती नामजद, जांच जारी

लुधियाना14 दिन पहले
  • कॉपी लिंक

पंजाब के पूर्व मंत्री भारत भूषण आशू,ठेकेदार तेलूराम और आढ़ती कृष्ण लाल ट्रांसपोर्टेशन टेंडर घोटाले में गिरफ्तार है। आढ़ती कृष्ण लाल का तीन दिन का रिमांड विजिलेंस को मिला था। रिमांड दौरान आज आढ़ती कृष्ण लाल धोतीवाला की निशानदेही पर मुल्लांपुर के विभन्न् शैलरों में विजिलेंस ने दबिश दी थी।

विजिलेंस ब्यूरो ने अनाज घोटाले के मामले में कांग्रेस पार्षद रूपाली जैन के पति अनिल जैन और मुल्लांपुर दाखा नगर परिषद अध्यक्ष तेलू राम बंसल के भाई महावीर बंसल सहित दो कमीशन एजेंटों (आढ़तियों)को नामजद किया है लेकिन अभी विजिलेंस ने इस बारे कोई पुष्टी नहीं की। बाकी मामले की अभी जांच जारी है।

सूत्र बताते है कि यह आरोप लगाया जा रहा है कि अनिल जैन और महावीर बंसल कमीशन एजेंट (आढ़ती) हैं, हालांकि उन्हें अनाज के रख-रखाव के लिए अपने स्वयं के शेलर आवंटित किए गए थे। शिकायतकर्ता ने अपने बयानों में यह भी आरोप लगाया कि दोनों दूसरे राज्यों से तस्करी कर लाए गए खाद्यान्न की फर्जी बिलिंग में शामिल हैं। हालांकि आरोपों की जांच की जा रही है।

मुल्लांपुर दाखा नगर परिषद के अध्यक्ष तेलू राम बंसल ने कहा कि उनके भाई महावीर और कांग्रेस पार्षद रूपाली जैन के पति अनिल जैन को एक अन्य शेलर मालिक के बयान पर ही नामजद किया गया है। विजिलेंस ब्यूरो को शिकायत में नामजद करने से पहले आरोपों का सत्यापन करना चाहिए था।

उन्होंने कहा कि जिला आवंटन समिति आढ़तियों को शेलर आवंटित करती है। शेलरों में अनाज का भंडारण किया जाता था और लिफ्टिंग मिलों में की जाती थी क्योंकि आवंटन समिति ने हमें वे शेलर आवंटित किए थे, जिससे हमारा काम वैध हो जाता है। मिलों को आवंटित करने की जिम्मेदारी आवंटन समिति की है, इसलिए उनसे पूछताछ की जानी चाहिए।

गौरतलब है कि विजिलेंस ब्यूरो पहले ही एक आढ़ती कृष्ण लाल उर्फ ​​धोती वाला को गिरफ्तार कर उसके भाई सुरिंदर कुमार को मामले में नामजद कर चुकी है। कृष्ण लाल को कथित तौर पर दूसरे राज्यों से अनाज की तस्करी करने, पंजाब के अनाज में मिलाने और आगे बेचने के आरोप में गिरफ्तार किया गया है।

इसके अलावा, शनिवार को विजिलेंस ब्यूरो ने गणपति एग्रो राइस मिल, केएल एग्रो, सुरिंदर एग्रो और सिंगला एग्रो सहित उनके चार शेलर पर छापेमारी की थी और लगभग 2,500 बैग (बरदाना) बरामद किया था, जिस पर स्टेप उत्तर प्रदेश के खाद्य एवं रसद विभाग के सीजन 2020/21 की है।

पूर्व मंत्री भारत भूषण आशू के साथ पंकज मीनू मल्होत्रा।
पूर्व मंत्री भारत भूषण आशू के साथ पंकज मीनू मल्होत्रा।

बता दें कि विजिलेंस ब्यूरो ने ठेकेदार तेलू राम, संदीप भाटिया और जगरूप सिंह, पूर्व मंत्री आशु, उनके सहयोगी पंकज मीनू मल्होत्रा ​​और इंद्रजीत इंदी, कमीशन एजेंट कृष्ण लाल और पूर्व उप निदेशक राकेश सिंगला सहित 8 आरोपियों के खिलाफ मामला दर्ज किया था, जिन्हें विभाग से बर्खास्त कर दिया गया था।

आशु को विजिलेंस ब्यूरो ने 22 अगस्त को गिरफ्तार किया था। वह पटियाला जेल में बंद है। अदालत पहले ही उनकी जमानत याचिका खारिज कर चुकी है। वहीं अन्य आरोपी फरार हैं।

आशू पर आरोप, 20-25 लोगों को फायदा पहुंचाया
आशू पर 2 हजार करोड़ के टेंडर घोटाले का आरोप लगाया जा रहा है। विजिलेंस इसकी जांच कर रही है। आशू पर छोटे ठेकेदारों ने आरोप लगाए थे कि पंजाब की मंडियों में लेबर और ट्रांसपोर्टेशन के टेंडर में गड़बड़ी की गई। छोटे ठेकेदारों को नजरअंदाज कर 20-25 लोगों को फायदा पहुंचाया गया। हालांकि आशू का कहना है कि यह टेंडर डीसी की अगुवाई वाली कमेटियां अलॉट करती हैं। उनके खिलाफ साजिश के तहत आरोप लगाए जा रहे हैं।

खबरें और भी हैं...