पाएं अपने शहर की ताज़ा ख़बरें और फ्री ई-पेपर

डाउनलोड करें

1.50 लाख रुपए लूटने का मामला:ऑर्केस्ट्रा का काम बंद होने पर खिलौना पिस्तौल दिखा दंपति ने शुरू की लूट की वारदातें, काबू

लुधियानाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
  • नट-बोल्ट कारोबारी और उसके साथी से 1.50 लाख रुपए लूटने का मामला

गिल नहर पुल पर पेमेंट देने आए नट-बोल्ट कारोबारी अंकुश कुंडा और उसके साथी को खिलौना पिस्तौल दिखा 1.50 लाख रुपए लूटने वाले महिला और व्यक्ति को पुलिस ने गिरफ्तार कर लिया। पुलिस ने आरोपियों से 1.09 लाख रुपए, स्कॉर्पियो और खिलौना पिस्तौल बरामद की। आरोपियों की पहचान शहीद भगत सिंह नगर के हरिंदर सिंह और मनजीत कौर उर्फ शालू के रूप में हुई है। पुलिस ने दोनों को अदालत में पेश कर एक दिन रिमांड पर लिया है।

एसएचओ सुखदेव सिंह ने बताया कि 28 जून को पेमेंट देने के लिए गिल नहर पुल पर आए अंकुश कुंडा और उसके साथी बाबत शर्मा से स्कॉर्पियो सवार महिला और व्यक्ति की ओर से पिस्तौल दिखा 1.50 लाख रुपए लूट लिए थे। पुलिस ने अंकुश की शिकायत पर मामला दर्ज कर जांच शुरू की। जांच में पता चला कि आरोपी दंपति की तरफ से वारदात को अंजाम दिया गया है। इसके चलते उन्हें गिरफ्तार कर लिया गया।

200 रुपए में ली खिलौना पिस्तौल, 10-20 हजार छीनने की सोच की थी वारदात
जांच में आरोपियों ने बताया कि उन्होंने वारदात के लिए 200 रुपए में खिलौना पिस्तौल ली थी। वह शहर में घूम रहे थे। इसी दौरान उन्होंने गिल नहर पुल पर अंकुश को देखा। आरोपियों ने पूछताछ में बताया कि उन्होंने उससे 10-20 हजार रुपए छीनने की सोचकर वारदात की, लेकिन बाद में बैग खोल देखने पर डेढ़ लाख का पता चला।

हालांकि वारदात के बाद वह पैसे लेकर पठानकोट फरार हो गए थे। फिर वहां होटल में किराए पर कमरा लेकर रह रहे थे। जांच अफसर ने बताया कि दोनों आरोपी ऑर्केस्ट्रा में महिलाएं भेजने का काम करते हैं। इसके एवज में वह कमीशन लेते थे। पुलिस पूछताछ में आरोपियों ने बताया कि पिछले काफी समय से ऑर्केस्ट्रा का काम बंद होने के कारण उनके आर्थिक हालात खराब हो गए थे। इसके चलते उन्होंने वारदातें करनी शुरू कर दी।

वारदातों में साथ देती थी पत्नी, पहले भी दर्ज हैं 3 मामले
एसएचओ सुखदेव सिंह ने बताया कि हरिंदर की डेढ़ साल पहले मनजीत कौर के साथ शादी हुई थी। वह दोनों एसबीएस नगर में किराए के कमरे में रह रहे थे। हरिंदर के खिलाफ पहले भी मानसा, डेहलों और बुढलाडा में आर्म्स एक्ट, लूट-डकैती के 3 मामले दर्ज हैं। वह 2018 में मानसा जेल से जमानत पर रिहा होकर आया था।

जांच अफसर के मुताबिक आरोपी महिला सभी वारदातों में पति का साथ देती थी, ताकि महिला साथ होने के चलते उस पर किसी को शक न हो। आरोपियों ने पठानकोट, हिमाचल समेत कई शहरों में किराए पर कमरे लिए थे। वारदात कर वह वहां पर रुकते थे।

खबरें और भी हैं...