आर्मी भर्ती टेस्ट नहीं होने पर भड़के नौजवान:विस चुनाव 2022 के बहिष्कार का ऐलान किया; पंजाब के युवाओं ने जगराओं पुल पर लगाया धरना

लुधियाना7 महीने पहले
  • कॉपी लिंक
जगराओं पुल पर केंद्र सरकार के खिलाफ पोस्टर लेकर बैठा युवक। - Dainik Bhaskar
जगराओं पुल पर केंद्र सरकार के खिलाफ पोस्टर लेकर बैठा युवक।

पंजाबभर के 30 हजार युवाओं का फौज के लिए फिजिकल टेस्ट लेने के बाद लिखित टेस्ट नहीं लिया जा रहा है। इससे वे आक्रोशित हो गए और उन्होंने लुधियाना में सेना भर्ती कार्यालय के पास जगराओं पुल पर धरना प्रदर्शन किया। साथ ही विधानसभा चुनाव 2022 के बहिष्कार का ऐलान भी किया। उनका कहना है कि वे एक साल से इसी तरह धक्के खा रहे हैं। उन्हें फौज में सिपाही और अन्य पदों पर भर्ती किया जाना था। मगर उनकी सुनवाई नहीं हो रही है।

इसलिए मजबूरन लुधियाना आकर प्रदर्शन करना पड़ रहा है। रूपनगर से आए जश्न ने बताया कि दिसंबर 2020 में अखबारों में आर्मी भर्ती का विज्ञापन निकाला गया था। लुधियाना समेत अन्य जगहों पर फिजिकल टेस्ट लिया गया था। इसके बाद लिखित परीक्षा लेकर मेडिकल करवाया जाना था। लुधियाना में 1700 युवाओं का फिजिकल टेस्ट लिया गया था, मगर अब उन्हें भर्ती नहीं किया जा रहा है। 25 जनवरी का समय दिया गया था, मगर अब फिर कोरोना का बहाना लगाकर परीक्षा टाली जा रही है।

जगराओं पुल पर धरना देते हुए युवा।
जगराओं पुल पर धरना देते हुए युवा।

नेशनल हाईवे जाम करने की धमकी
युवाओं ने ऐलान किया है कि अगर उन्हें जल्द ही फौज में भर्ती करने के लिए लिखित परीक्षा लेने का आश्वासन नहीं दिलाया गया तो वह संघर्ष को आगे बढ़ाते हुए नैशनल हाईवे जाम कर देंगे और इसके लिए सरकार जिम्मेदार होगी।

चुनाव के बहिष्कार का भी ऐलान
जालंधर से आए सुखबीर सिंह का कहना है कि एक तरफ सरकार युवाओं को रोजगार देने की बात कह रही है और दूसरी तरफ जिनका फिजिकल टेस्ट हो गया है, उनकी परीक्षा नहीं ली जा रही है। जबकि युवाओं की उम्र निकलती जा रही है। अगर सरकार ने उनकी इस मांग की तरफ ध्यान न देते हुए परीक्षा नहीं ली तो वह चुनाव का बहिष्कार करेंगे और भारतीय जनता पार्टी के उम्मीदवारों का भी बहिष्कार करेंगे।

खबरें और भी हैं...