बारिश का कहर:राजकोट में 25 सेमी बारिश से बाढ़ के हालात, गौशाला के 40 मवेशी बहे

राजकोटएक वर्ष पहले
  • कॉपी लिंक
जामनगर में भी कई जगह बाढ़ के हालात बन गए। पार्किंग में खड़े आधे तक डूब गए। - Dainik Bhaskar
जामनगर में भी कई जगह बाढ़ के हालात बन गए। पार्किंग में खड़े आधे तक डूब गए।

गुजरात में सूरत सहित राजकोट, द्वारिका और पोरबंदर में मंगलवार को भी मूसलाधार बारिश का दौर चलता रहा। राजकोट में 18 घंटे में 25 सेंटीमीटर पानी गिरा। जिले में सालभर में औसत 67.6 सेंटीमीटर बारिश होती है। यानी कुल बारिश का करीब एक तिहाई से ज्यादा पानी 18 घंटे में ही बरस गया। निचले इलाकों में पानी भर गया। पडधरी तहसील के मोटा खिजडिया गांव की गौशाला के करीब 40 मवेशी तेज बहाव में बह गए।

हालांकि, सभी सुरक्षित जगहों तक पहुंच गए। सौराष्ट्र की शैत्रुंजी, भादर, वासवाडी, वेणु, कंडावती, सोमज, रावल, ओझत, न्यारी, मछुंद्री और ढाढर नदियां उफान पर हैं। उधर, आजी, ओजत, न्‍यारी, वेणु, शैत्रुंजी समेत 10 से अधिक डैम के गेट खोल दिए गए हैं। सूरत में मंगलवार को सवा इंच बारिश दर्ज की गई।

सौराष्ट्र और द. गुजरात में दो दिन आंधी-तूफान, अतिवृष्टि का अलर्ट
सौराष्ट्र और कच्छ में अगले 24 घंटे के दौरान कहीं कहीं तेज से बहुत तेज और कहीं कहीं मूसलाधार बारिश होने का अनुमान है। दक्षिण पश्चिम,पश्चिम मध्य और उत्तर पूर्व अरब सागर और गुजरात तट के आस पास इलाके में 50-60 किमी प्रति घंटे की तेज गति से हवा चल सकती है। इसलिए मछुआरों को इन इलाकों में नहीं जाने की सलाह दी गई है।

पश्चिम बंगाल के पर्वतीय हिस्से सिक्किम और पूर्वी उत्तर प्रदेश के कुछ हिस्सों में तेज से बहुत तेज तथा उत्तराखंड, हरियाणा, चंडीगढ़, दिल्ली, पश्चिम उत्तर प्रदेश, पूर्वी राजस्थान, मध्य प्रदेश, छत्तीसगढ़, बिहार, झारखंड,पश्चिम बंगाल में गंगा के तटवर्ती इलाके, अरुणाचल प्रदेश, असम, मेघालय, नागालैंड, मणिपुर, मिज़ोरम, त्रिपुरा, गुजरात,मध्य महाराष्ट्र, कोंकण ,गोवा, तटीय कर्नाटक, केरल और देश के अलग अलग क्षेत्रों में भारी बारिश होने के आसार हैं।

खबरें और भी हैं...