हादसे में पूर्वा के 4 लोग हुए थे लापता:खत्म नहीं हुआ 4 लापता युवकों के लौटने का इंतजार, परिवार का रो-रोकर बुरा हाल

समरालाएक महीने पहले
  • कॉपी लिंक
बेटे की तस्वीर को देखकर बिलखती रहती है मां - Dainik Bhaskar
बेटे की तस्वीर को देखकर बिलखती रहती है मां

उत्तराखंड जिला चमोली के पास नदी में बन रहे डैम पर मजदूरी करने जाने से पहले दिवाली के मौके पर घर में त्योहार मनाने का वादा कर गांव पूर्वा के 5 नौजवान ग्लेशियर फटने के बाद नदी में आई बाढ़ में बह गए थे, जबकि इनमें एक नदी से बाहर होने के कारण बच गया था। घटना के 9 महीने बाद भी परिवार का इंतजार खत्म नहीं हुआ। परिवार के लोग नौजवानों के लौटने का इंतजार करते रहे और उन्हें याद कर आंखें नम हो गईं। अब उनकी यादों के सहारे दिन गुजार रहे हैं।

हादसे में लापता युवक 28 वर्षीय कुलबीर सिंह की मां सुनीता रानी ने बताया कि उसके दो बेटे वहां रोजी-रोटी कमाने गए थे। एक बेटा ऊपर डैम के काम कर रहा था। दूसरा बेटा कुलबीर सिंह नीचे काम कर रहा था। बड़े बेटे का फोन आया कि छोटा भाई नदी में बह गया है। आज भी बेटे के लौट आने के इंतजार में बेटे की तस्वीर को देख रोती रहती हूं। उधर, 38 वर्षीय सुखविंदर सिंह उत्तराखंड में पैसे कमाने गए थे, लेकिन वापस नहीं आए। जब पत्नी को पता चला के साथ यह घटना घटी तो वह कई दिन बीमार पड़ी रही। बेटा बार-बार पूछता है कि पापा कब आएंगे।

लौटकर बेटी की शादी करने की कही थी बात

:तीसरे परिवार की माता जरनैल कौर ने बताया कि उसका 45 वर्षीय बेटा सुखविंदर सिंह कई बार फोन पर बात करता था। वह हर साल दिवाली पर घर पर आता था। उसकी कमाई से ही हमारे घर चलता था, जबकि उसकी पत्नी ठीक नहीं रहती है उसके दो बेटी और एक बेटा है। जाते समय बेटी का शगुन डालकर गया था और कह कर गया था कि 3 महीने बाद आकर लड़की की शादी करूंगा। अब लड़के वाले शादी मांग रहे हैं, लेकिन हमारे घर में अन्न का एक दाना भी नहीं है। ऊपर से मेरे बेटे की लापता होने से दुखों का पहाड़ टूटा है। चौथे परिवार लापता हुए नौजवान केवल सिंह का है। उसकी पत्नी परमजीत कौर ने बताया कि उसकी दो बेटियां हैं। पति के लापता होने की खबर सुनकर घर में दुख का माहौल है। वह अपनी एक बेटी की पढ़ाई का भी खर्च नहीं उठा सकती। पति की कमाई से ही घर का चूल्हा चलता था।

खबरें और भी हैं...