प्रस्ताव पास:नशे से हो रही मौतों के कारण तस्करों के विरुद्ध लामबंद हुए गांव के लोग

मलोट9 दिन पहले
  • कॉपी लिंक
  • गांव रानीवाला के लोगों ने पास किया प्रस्ताव-नशा तस्करों से हम खुद निपटेंगे

पंजाब में नई सरकार बनने के बाद भी नशे की बिक्री बंद नहीं हो सकी। नशे से लगातार हो रही मौतों से खफा हुए गांव के लोग खुद ही कोई हल करने के लिए लगे। सब डिवीजन मलोट के गांव रानीवाला के वासियों ने फैसला किया कि पड़ोसी गांव मिड्डा की तरह वह खुद एकत्रित होकर नशा तस्करों के विरुद्ध लड़ाई लड़ेंगे, जिसके लिए गांव वासियों ने शनिवार को गुरुद्वारा साहिब में एकत्रित होकर प्रस्ताव पास किया कि नशे की रोकथाम के लिए नई सरकार भी लोगों की उम्मीदों के अनुसार कार्य नहीं कर सकी, परंतु अब गांव स्तर पर खुद लामबंद होकर नशा तस्करों से निपटेंगे।

गांव वासियों का कहना है कि आम आदमी पार्टी की सरकार द्वारा दिल्ली में सियासी रंजिश निकालने के लिए पुलिस का उपयोग कर रही है, परंतु जब किसी नशे वाले के विरुद्ध को सूचना दी जाती है तो पुलिस मौके पर पहुंचती नहीं। इसलिए नशे के विरुद्ध वह लड़ाई लड़ेंगे। इस मौके पर बलजीत सिंह, गुरनाम सिंह, सुबेग सिंह, रेशम सिंह, गुरजंट सिंह, धर्म सिंह, भूपिंदर सिंह, सतनाम सिंह, चरन सिंह, रछपाल सिंह, मलकीत सिंह, प्रभजीत सिंह, तेजिन्दर सिंह, जसबीर सिंह, जगविंदर सिंह, कुलवंत सिंह व गुरमीत सिंह सहित बड़ी गिनती में गांववासी उपस्थित थे। गांव वासियों ने एकत्रिता दिखाते हुए प्रस्ताव पास किया कि नशे से लड़ने के लिए भविष्य में रणनीति तय करेंगे।

खबरें और भी हैं...